बहन की चुत चुदाई के बाद ग्रुप सेक्स का चस्का

मैंने और मिथुन ने मिलकर मेरी बेहन के लिए लंड सैट किये और सामूहिक चुदाई का प्रोग्राम बना लिया.

इसके बाद मैंने बेहन से कहा- ये ग्रुप सेक्स का प्रोग्राम खेत में न करके घर में ही करें तो अच्छा रहेगा.
मेरी बेहन ने कहा- ये कैसे होगा?

मुझे मालूम था कि आने वाले रविवार को मम्मी पापा को मौसी के घर जाना था, मौसा जी की तबियत खराब थी, जिस वजह से उनका जाने का प्रोग्राम था.

शनिवार को मैंने मिथुन से दारू मुर्गे का इंतजाम करने का कहा और दो और लड़कों को लाने के लिए कह दिया.

मिथुन ने सारा इंतजाम कर लिया.

रविवार को मम्मी पापा के निकलते ही मैंने मिथुन को फोन कर दिया और उसे घर आने का कह दिया.

मेरी बेहन ने अपनी चुत की झांटें वगैरह साफ़ की और हम पांचों चुदाई का जश्न मनाने के लिए रेडी हो गए.

एक बजे दोपहर से चुदाई का कार्यक्रम शुरू हुआ.

हम सभी ने खूब दारू पी और मेरी बेहन ने नंगी होकर डांस किया. फिर वो हम सबके लंड चूसने लगी.

उस दिन मैंने और मिथुन ने अपने दोनों दोस्तों के साथ मिल कर बेहन की चुत का भोसड़ा बना दिया.

अब ये पार्टी आए दिन होने लगी थी. पापा खेतों पर चले जाते थे और हम दोनों बेहन भाई पढ़ने की कह कर पीछे के दरवाजे से वापस कमरे में आ जाते थे.

मेरी मम्मी को आए दिन पड़ोसन के यहां जाने की आदत थी तो हम दोनों बेहन भाई किसी न किसी लड़के को घर में बुला कर थ्री-सम सेक्स का नंगा नाच खेल लेते थे.

मैंने अब तक अपनी बेहन को बारह लंड का मजा दिला दिया है. मैं अपने सभी दोस्तों से अपनी बेहन को चुदवा चुका हूँ.

दोस्तो, ये मेरी पहली सच्ची बेहन चोद भाई की कहानी है. आपको कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल अवश्य करें.
धन्यवाद.

Pages: 1 2 3