मैडम ने गर्लफ्रेंड बनकर मुझसे गांड चुत चुदवाई

होम ट्यूटर सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने पड़ोस की एक लड़की जो इंग्लिश एम ए कर रही थी, उससे पढ़ना शुरू किया. मुझे उनका जिस्म बड़ा ही कामुक दिखता था. हैलो दोस्तो, नमस्कार! आशा करता हूं आप सभी लोग लोग अच्छे से होंगे. अभी इस माहौल में सब लोग घर में ही हैं, मैं सभी से इल्तिजा करता हूं कि आप अपने घरों से बाहर ना निकलें. सब लोग अन्तर्वासना पर सेक्स कहानियां पढ़ते रहें और अपना टाइम पास करते रहें. मेरी पिछली कहानी थी: किरायेदार लड़की की चुत गांड चूसकर मस्त चुदाई की यह होम ट्यूटर सेक्स कहानी मेरी शुरुआती चुदाई की है. कहानी उस वक्त की है जब मैं अपने से बड़ी उम्र की लड़की को चाहने लगा था. उस टाइम मैंने उसको कैसे चोदा और कैसे उसकी गांड में लंड पेल कर बहुत भयंकर वाली चुदाई की. मैं उस वक्त 12वीं कक्षा में पढ़ता था और उस अपने गांव से दूर शहर में किराए पर कमरा लेकर रहता था. मेरे मकान मालिक और मकान मालिकन आंटी दोनों की उम्र 50 से 55 साल की थी. उन दोनों का व्यवहार बहुत अच्छा था. मेरा व्यवहार भी काफी अच्छा था; मैं जल्दी ही सभी से घुल-मिल जाता था. मैं अंकल आंटी के घर में अपने घर की तरह ही रहता था, वो दोनों भी मुझे बहुत प्यार करते थे. एक दिन ये हुआ कि एक और किराएदार अंकल के पास मकान में किराए से रहने आई. इस नए किरायेदार की शक्ल में एक जवान मैडम थी. मैडम की उम्र लगभग 27 साल की रही होगी. उनका नाम गुलनिहाल था. वो इधर रह कर कुछ पढ़ रही थीं. वो मैडम अपने कपड़े सुखाने के लिए मकान की छत पर आया करती थीं. मैं भी उन्हें बड़ी हसरत से देखा करता था. उस समय तक हम दोनों के बीच कोई बात नहीं होती थी. मैडम छत पर कभी कपड़े सुखाने आती थीं, तो कभी धूप लेने, कभी कुछ सामान सुखाने के लिए आ जाती थीं. इस तरह से लगभग 2 महीने बीत गए. फिर दिन अचानक से कुछ ऐसा हुआ कि हम दोनों में हाय हैलो शुरू हो गई. मैंने उनसे औपचारिक बातें करना शुरू कर दीं. वो भी मुझसे मेरे बारे में जानकारी लेने लगीं. उन सब बातों में कुछ ख़ास नहीं था. फिर एक दिन मैडम और मैं छत पर थे. उन्होंने मुझसे मेरी पढ़ाई के बारे में पूछा तो मैंने मैडम को बता दिया. फिर न जाने कैसे मैंने मैडम से पूछा कि आपकी उम्र कितनी है? उन्होंने बताया- मेरी उम्र 27 साल है … क्यों पूछ रहे हो? मैं सिटपिटा गया मगर वो हंस दीं, तो मैं शांत हो गया. फिर मैंने पूछा- आप क्या पढ़ाई करती हैं? उन्होंने बताया- हां, मैं एमए कर रही हूं. मैंने कहा- ओके … आपकी किस स्ट्रीम से एमए कर रही हैं? उन्होंने बताया- इंग्लिश से. मैंने कहा- मेरी इंग्लिश तो बहुत कमजोर है … मगर मेरी समझ ही नहीं आता कि मैं क्या करूं. मैं इंग्लिश के लिए ट्यूशन लगाने की सोच रहा हूं. आपकी नजर में कोई अच्छा सा टीचर हो तो ट्यूशन मिल जाएगी. उन्होंने बोला- अगर तुम्हें कोई प्रॉब्लम हो, तो तुम मुझसे पूछ लिया करो. मैंने कहा- अरे आपको दिक्कत होगी. मैडम ने हंस कर कहा- मुझे क्या दिक्कत होगी, तुम मुझसे बेहिचक पूछ सकते हो. मैंने कहा- लेकिन मैडम, मुझे तो प्रॉपर ट्यूशन चाहिए ही होगी. मैडम ने कहा- ओके, अगर तुम चाहो तो मैं ही तुमको ट्यूशन दे सकती हूं. मैंने कहा- ठीक है मैडम … मुझे आपको मंथली कितना पेमेंट देना होगा! उन्होंने बताया कि मैं पैसे नहीं लूंगी, तुमको वैसे ही पढ़ा दिया करूंगी. मैंने कहा- नहीं मैडम जी, मैं ऐसे नहीं कर सकता. आप मुझे 800 रूपए महीने लेने की कहें तो मैं आपसे ट्यूशन ले लूंगा. मैडम ने ‘ठीक है ..’ कह कर बात पक्की कर दी. मैं उनके यहां ट्यूशन जाने लगा. जैसे मैडम मुझे पढ़ाती थीं, वो तरीका मुझे बहुत पसंद आने लगा. चूंकि मैं मैडम के कमरे में जाकर पढ़ता था. तो मैडम अपने घर वाले कपड़ों में ही पढ़ाने लगी थीं. अधिकतर तो वो लोअर और टी-शर्ट ही पहनती थीं. मगर कभी कभी वो नाइटी पहन कर मुझे पढ़ाने लगती थीं. उनकी नाइटी में मुझे उनका जिस्म बड़ा ही कामुक दिखता था, तो अब मैं उनके हिलते हुए मम्मों को देखने लगा था. मैडम ने मेरी नजरों न जाने कभी ताड़ा या नहीं, मगर मैं छुपी नजरों से उनकी फूली चूचियों को देख कर खूब उत्तेजित हो जाता था और मेरा लंड मेरे लोअर में फूलने लगता था. कुछ ही दिनों में ऐसा होने लगा कि मैं मैडम से पढ़कर आने के बाद अपने बाथरूम में आकर मैडम के नाम कि मुठ मारने लगा था. मुझे उनके हिलते हुए मम्मे और मटकती हुई गांड बहुत अच्छी लगती थी. अब मैडम भी मेरे साथ काफी खुली खुली सी रहने लगी थीं. कभी वो मुझे कुछ स्पेशल बना कर भी खिलाने लगी थीं. हम दोनों के बीच मजाक मस्ती भी होने लगी थी.

Pages: 1 2 3 4