बीवी की चुत के बाल

तो मैने भी अब उसके होंठ छोडकर थोडा नीचे की ओर आते हुए उसके गले पर चूमते हुए उसका टॉप निकालने लगा।

सोनल ने भी उसे उतारने में मेरी सहायता की। अब मै उसका जो भी शरीर का हिस्सा मेरे सामने आता उसे चूमता जा रहा था।

सोनल भी कहां पीछे रहने वाली थी, वो भी मेरा साथ देने लगी। तो मैने अपना मुंह सीधे उसकी चूचियों पर रख दिया, हालांकि अभी उसकी चुचियां नंगी नही हुई थी।

लेकिन मैने कपड़ों के ऊपर से ही उसकी चूचियों को अपने मुंह मे भर लिया। फिर मैने अपने हाथ पीछे उसकी पीठ पर ले जाते हुए उसकी ब्रा का हूक खोलकर ब्रा को एक झटके में ही अलग कर दिया।

अब सोनल की नंगी चुचियां मेरे आंखों के सामने लटकने लगी थी। अब तक उसने भी मेरा शर्ट उतार दिया था। तो हम दोनों ही ऊपर से नंगे थे।

वो मेरे छाती पर अपने हाथों की उंगलियां फेर रही थी। और मै उसकी चूचियों को मसल रहा था। सोनल की चुचियां मसलने से उसके निप्पल भी अब तनकर खडे हो रहे थे।

मैने अब ज्यादा देर न करते हुए तुरंत ही सोनल का लहंगा भी उतार दिया। अब सोनल बस पैंटी पहने हुए थी। उसके बाद मैने अपने सारे कपडे खुद ही निकाल दिए, और सोनल के सामने नंगा हो गया।

मेरे नंगे होते ही सोनल मेरे लिंग की तरफ ही देखे जा रही थी। तो मैने अपना लिंग हाथ मे पकडकर उसे दिखाया, उसने भी बिना शरमाए कुछ देर तक लंड को अच्छे से देखा। फिर अपनी नजरे हटा ली।

जैसे ही उसने अपनी नजरें मेरे लौडे से हटा ली, मैने उसकी पैंटी भी उतारना शुरू किया। मै उसकी पैंटी उतारकर चुत चुसाई करना चाहता था।

लेकिन जैसे ही मैने उसकी पैंटी नीचे खिसकाई, उसकी चुत बालों से घिरी हुई दिखने लगी। सोनल की चुत को इस अवस्था मे देखने से मै थोडा नाराज जरूर हुआ।

फिर तुरंत ही मैने उससे कहा, “अच्छा किया जो तुमने अपने झांट के बाल खुद साफ नही किए, इन्हें मै साफ करूंगा।”

इतना बोलकर मैने उसे अपनी गोदी में उठा लिया, और बाथरूम की तरफ चल दिया। वो थोडा चुप सी हो गई थी, मैने उससे इस बात का कारण पूछा।

तो वो बताने लगी, “कुछ मर्दों को चुत पर बाल पसंद होते है, इसलिए मैने इन्हें साफ नही किया था। मुझे माफ कर दीजिए।”

मैने उसे फिर बाथरूम ले जाकर एक जगह पर बिठाया, और बाल साफ करने वाली क्रीम लेकर उसके झांट पर लगा दी।

सोनल ने अपनी झांट काफी बढाकर रखी थी। तो मैने रुई लेकर उसके झांट के जड तक वो क्रीम अच्छे से लगा दी, ताकि उसके झांट का हर एक बाल अच्छे से साफ हो जाये।

क्रीम लगाने के कुछ देर तक उसे वैसे ही छोड दिया, और फिर उससे ऐसे ही इधर उधर की बाते होने लगी। बातों बातों में उसकी नजर बार बार मेरे लंड की तरफ जा रही थी।

तो मैने अपना लंड उसके हाथों में पकडा दिया। वो अब मेरे लंड को सहलाने लगी थी। कुछ देर बाद मैने रेजर लेकर आराम से उसके सारे झांट के बालों को साफ कर दिया।

झांट के बाल साफ होने के बाद उस भाग को अच्छे से धोकर सोनल को फिर से उठाकर मै बिस्तर पर ले आया।

अब उसे बिस्तर पर लाते ही मैने सीधे उसे चूमते हुए उसकी चुत में अपना लौडा डाल दिया।

उसके झांट के बाल साफ करते करते समय का पता ही नही चला था। तो अब हमें सब जल्दी करके सोना भी था, ताकि सुबह जल्दी उठ सके।

तो मैने उसे जल्दी से चोदकर अपना वीर्य उसकी चुत में ही गिरा दिया।

आपको मेरी कहानी कैसी लगी, हमव कमेंट करके जरूर बताइए। धन्यवाद।

Pages: 1 2