चाची ने मेरी वासना जगा कर चूत चुदवाई

तीन महीने बाद मुझे वापस अपने घर आना पड़ा. इन पूरे तीन महीनों में ना तो चाची ने कभी मेरा लंड चूसा था, न ही उन्हें ये पसंद था. और ना मैंने कभी उनकी चुत चाटी थी. ना ही मैंने उनकी कभी गांड मारी थी, ना कभी उन्होंने ये सब करने को कहा था. बस सीधे सीधे चूत लंड में सेक्स कर लेते थे. मुझे तो मालूम ही नहीं था कि लंड चूसना, चुत चाटना, या गांड मारना भी सेक्स होता है. चाची को भी ये सब मालूम था या नहीं.. मुझे नहीं मालूम.

उसके बाद आज दिल्ली में रहते हुए कई साल हो चुके हैं. हम दोनों कभी कभी मिल तो लेते हैं, लेकिन चाची के संग दुबारा सेक्स सिर्फ़ एक बार ही करने का मौका मिला था.

चाची आज भी मुझे दिल से उतना ही चाहती हैं, जितना मैं उन्हें चाहता हूँ. अब मेरी शादी हो गयी है, खूबसूरत बीवी है, एक बेबी है, लेकिन चाची का प्यार मुझसे भुलाए नहीं भूलता है.

मुझे सुहागरात में इतना मज़ा नहीं आया था.. जितना चाची के साथ फर्स्ट टाइम सेक्स करने में आया था. चाची के बाद अब तक मैं 2 कुंवारी लड़कियों और दो शादीशुदा महिलाओं के साथ सेक्स कर चुका हूँ. चाची को छोड़कर मैंने इन सबके साथ वो किया है, जो चाची ने नहीं किया था. या उस वक़्त मुझे मालूम नहीं था कि सेक्स में और क्या क्या होता है. अब मुझे लंड चुसवाना, चुत चाटना बहुत पसंद है. गांड सिर्फ़ दो बार मारने मिली थी, पर उसमें मुझे बदबू के कारण मज़ा नहीं आया था. मैं फ़ोरप्ले बहुत अच्छा करता हूँ, बीवी की चूत भी बहुत चाटता हूँ, वो भी मेरा लंड खूब चूसती है. लेकिन चाची को बहुत मिस करता हूँ.

आपको मेरी रियल सेक्स स्टोरी कैसी लगी.. ज़रूर बताएं.

Pages: 1 2 3 4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *