गर्लफ्रेंड ने अपनी सहेली की चूत दिलवायी

मैंने मीशू को हग किया तो उसने भी मुझको जल्दी से हग कर लिया. मैंने मीशू के होंठों पर अपने होंठ रख दिए. मैं दस मिनट तक उसके होंठ चूसता रहा. फिर मैं पलट कर अपनी फ्रेंड के पास गया और बोला- चल आज थ्री-सम करते हैं.

मेरी फ्रेंड ने बोला- नहीं.. पहले तुम उसके साथ करो.. फिर बाद में हम थ्री-सम करेंगे.

मैंने ओके बोला और दोबारा मीशू के होंठों पर टूट पड़ा. उसके टॉप के ऊपर से ही उसके मम्मों को मसलने लगा. मीशू उत्तेजित होने लगी. फिर मैंने मीशू के टॉप के अन्दर हाथ डालकर उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और टॉप और ब्रा एक साथ उतार दिए. उसके मम्मे एकदम से हवा में उछलने लगे. मैं उसके मम्मों को मसलने लगा और एक दूध मुँह में लेकर चूसने लगा.

कुछ ही देर में मीशू बहुत उत्तेजित हो चुकी थी. मैं उसकी पूरी बॉडी को लिक करता रहा. फिर मैंने उसकी लैगिंग्स उतार दी और पैटी के ऊपर से ही उसकी चुत चाटने लगा. कुछ ही पल बाद मैंने उसकी पेंटी उतार दी और उसकी फूली हुई चूत पर अपनी जीभ फिराने लगा. मेरी जीभ का टच पाते ही वो एकदम से सिहर उठी और मेरा सिर अपनी चुत में दबाने लगी. उसकी चुत पर छोटे छोटे बाल मुझको चुभते हुए और भी ज्यादा मजा दे रहे थे.

मैं मीशू की चुत चाटता रहा. कभी मैं चुत के अन्दर तक जीभ डाल देता. वो दस मिनट तक मेरी चुत चुसाई झेल नहीं पायी और उसकी चुत ने पानी छोड़ दिया. मैंने उसकी चूत के सारे रस को जीभ से चाट कर साफ कर दिया.

वो निढाल होकर मजे से लम्बी लम्बी सांसें ले रही थी. कुछ देर बाद मैंने उसको अपना लंड चूसने को बोला, पर उसने लंड चूसने से मना कर दिया. मैंने भी ज्यादा दबाव नहीं डाला और उसे किस करने लगा.

जल्द ही मीशू फिर गर्म हो गयी और मेरा लंड पैन्ट के ऊपर से ही मसलने लगी. मैं अपने एक हाथ से मीशू की चुत सहला रहा था. दूसरे से उसका एक दूध दबा रहा था. साथ ही इस वक्त उसका एक दूध मेरे मुँह में दबा था. जिसे मैं पूरी तन्मयता से चूस रहा था. वो भी पूरी तैयार हो चुकी थी.

मीशू मेरी पैन्ट का बटन खोलने लगी. मैंने उसकी मदद की और जल्द ही मैं पूरा नंगा हो गया. मैं उसके ऊपर चढ़ गया तो मीशू मेरे लंड को ऊपर नीचे करने लगी और अपनी चुत पर सैट करने लगी. मैंने भी देरी ना करते हल्के सा धक्का लगाया तो मेरे लंड का सुपारा अन्दर घुस गया. लंड के अन्दर जाते ही मीशू के मुँह से आह निकल गयी. तभी मैंने दूसरा धक्का लगा दिया. इस बार मेरा पूरा लंड मीशू की चूत की जड़ तक अन्दर घुस गया था. फिर मैंने शॉट पे शॉट मारना शुरू कर दिया.

दो मिनट बाद ही मैंने देखा कि मीशू हर धक्के पर मेरा साथ दे रही थी. मैंने तो ड्रिंक कर रखी थी, मेरा इतनी जल्दी कहां होना था. मैं हर धक्का पूरे जोश से मार रहा था. पूरा कमरा मीशू की आह आह से गूंज रहा था. उसके मुँह से ‘लव यू सैम्म्म्म..’ निकल रहा था. वो मस्ती में सीत्कार कर रही थी- आह.. सैम.. इस्स.. फक मी हार्डर.. यस आह्ह्ह्ह्ह्.. आह आ

हम भूल गए थे कि हमारे रूम में हमारे साथ कोई और भी है.

इस दौरान मीशू एक बार झड़ गई थी. मैं पूरे जोर से शॉट पे शॉट मार रहा था. मीशू ने आह आह करते हुए मुझको जकड़ रखा था. फिर मीशू ने मुझको जोर से पकड़ लिया और नाखून गड़ा दिये और झड़ते हुए वो मुझको दूर करने लगी. पर मेरी हुआ नहीं था. उसने बोला- प्लीज छोड़ो.. दर्द हो रहा है.. मैंने सुबह आफिस भी जाना है.
मैंने उसे छोड़ दिया और मीशू अपने हाथ से मेरा लंड हिला कर लंड से पानी निकालने का काम करने लगी.
इस पर मैंने मना कर दिया. अब सुबह के 6.30 बज गए थे. उसको 8 बजे आफिस जाना थी, तो वो मुझको हग करके नंगी ही सो गयी.

आधा घंटे बाद वो उठी और मेरे लंड को सहलाने लगी. मेरा लंड तो सुबह सुबह खड़ा होता ही है. तो उसने मेरे ऊपर चढ़ कर लंड अपनी चुत में ले लिया और मुझको चोदने लगी. मेरी भी आँख खुल गई. चुदाई होने लगी. इस बार जल्दी ही सही, पर वो एक बार फिर से झड़ गई और बोली कि अब तुम अपना काम पूरा कर लो और अपने रस से मेरी चुत भर दो.

मैंने उसको नीचे लिटाया और धकापेल चूत के चीथड़े उड़ाना शुरू कर दिए. फिर 7-8 मिनट बाद मेरा रस निकल गया. मैं उसके ऊपर लेट गया.

कुछ देर बाद वो उठी और बोली- मुझको मेरे पीजी पर ड्राप कर दो.

मैं उठा, फिर मीशू ने मुझको लंबा सा किस किया और कपड़े पहनने लगी. कुछ देर बाद मैं जाकर उसको ड्राप कर आया और वापस आकर मैंने अपनी फ्रेंड को चोदा.

Pages: 1 2 3

Comments 1

  • किसी भी भाभी या लड़की को चूदबाना हो तो इस न पर काल करे मुरादाबाद से 7457088180 WhatsApp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *