एक हसीन शाम भाभी के साथ

फिर मैने थोड़ी देर रेस्ट करके भाभी को खूब जम कर चोदा. और फिर उस दिन के बाद मैने अपने ऑफीस से एक साथ 5 हॉलिडे ली और हर रोज भाईया के जाने के बाद मैं भाभी के पास आता. और उनको रोज जम कर चोदता. आज हाल ये है की वो मेरी भाभी से मेरी रंडी बन कर रह गई है. मैं जेसा कहता हूँ वो वैसा ही करती है.

दोस्तो मुझे पूरी उमीद है आप को मेरी ये कहानी बहोत ही पसंद आई होगी. और आपने कहानी को पढ़ कर मूठ भी ज़रूर मारी होगी. और मेरी फीमेल दोस्तो ने अपनी चूत मे अपनी उंगलिया मार कर अपनी चूत का पानी निकाला होगा.

और हाँ दोस्तो मैं आप को एक बात बता दूँ की वो शाम मेरी सब से हसीन शाम थी. जिसे मैं आज तक याद करके मूठ मारता हूँ. आप सब को मेरी ये कहानी कैसी लगी प्लीज़ नीचे दिए हुए कॉमेंट्स बॉक्स मे लिख कर ज़रूर बताना.

Pages: 1 2 3