नवविवाहिता बहन की गांड मारी

वाह मेरी बहन क्या माल लग रही थी. उसका शरीर पहले से ज्यादा भरा और मस्त गदराया हुआ था. अब मैं ज्यादा देर नहीं कर सकता था. भूखे शेर को गरम गोश्त सामने जो दिख रहा था.

मैं उसको अपनी तरफ खींचते हुए अपनी बांहों में मसलने लगा. उसे पेट से चूमते हुए उसकी जांघों को चूमने लगा. मेरी बहन तो अपने आंखें बंद करके अपनी चुदाई से पहले की मस्ती का भरपूर मज़ा ले रही थी.

उसकी जांघों को चूमते हुए मैंने उसकी चुत पर एक चुम्बन दिया, जो काम रस से लबालब थी. उसकी चुत पर चुम्बन देने से उसकी सिसकारियां और तेज हो गईं. मैं समझ गया कि मेरी बहन अब चुदने के लिए एकदम तैयार है.

मैं अपने लंड महाराज को उसकी चुत के द्वार तक ले जाने के लिए उसके दोनों पैरों के बीच में बैठ गया और उसके दोनों पैरों को अपनी कमर पर टिका दिया. इससे मेरा लंड उसके चुत के मुँह पर ठीक सामने आ गया. फिर मैंने अपना थोड़ा भार अपनी बहन पर डालते हुए अपने लंड को उसके चुत में पेल दिया. एक बार में ही मेरा पूरा लंड उसकी चुत में घुसता चला गया.

आह दोस्तों लंड के चुत में घुसते ही कितना मस्त मज़ा आया … इसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है. चुत में लंड डालने के बाद मैंने धकापेल चुदाई शुरू कर दी. मेरी बहन को इतना मज़ा आ रहा था कि वो अपनी दोनों टांगें उठाकर अपनी गांड को ऊपर नीचे करके चुदाई करवा रही थी. हमारा ये घमासान काफी देर तक चला. उसके बाद हम दोनों एक दूसरे में ढेर हो गए.

अपनी बहन की चूत में लंड को डाले ही हम दोनों वैसे ही पड़े रहे और एक दूसरे को नंगे जी अपनी बांहों में पकड़े वैसे ही लेटे रहे.

करीब आधे घंटे बाद मेरे लंड महाराज ने दुबारा दस्तक दी, तो मैंने अपनी बहन को वैसे ही अपनी बांहों में लिए धीरे धीरे किस करना शुरू कर दिया. थोड़ी देर बाद वो भी जोश में आने लगी. इस बार मेरी नजर अपनी बहन की मस्त मोटी गांड थी.

मैंने अपनी बहन से कहा- रिया इस बार मैं तुम्हारी गांड मारना चाहता हूँ.
वो ये सुनकर डर गई और बोली- नहीं भाई … गांड नहीं मारना … बहुत दर्द होता है.
मैंने पूछा- कभी मरवाई है क्या?
उसने बोला- हां एक बार मेरे पति ने मेरी गांड मारने की कोशिश की थी … लेकिन मुझे बहुत दर्द हुआ था, तो उन्होंने अपना लंड निकाल लिया था.

मैंने उसे मनाया और समझाया कि थोड़ा दर्द ही होगा … ज्यादा नहीं होगा. तुम मुझ पर यकीन करो … मैं बहुत नजाकत से तुम्हारी गांड मारूंगा.

मुझे उसकी गांड बहुत पसंद है, तो मैं उसे पटाने में लगा रहा. फिर वो भी मान गयी. लेकिन उसने कहा- ज्यादा दर्द होगा, तो तुम लंड निकाल लेना.
मैं हामी भर दी.

मैंने तेल की शीशी से तेल लेकर अपनी बहन की गांड में तेल लगाना शुरू किया. पहले मैंने ऊपर ऊपर से उसकी गांड के फूल को सहलाया, जिससे उसकी गांड ने शर्माना छोड़ दिया. जैसे ही उसकी गांड ने शरमाना छोड़ा, मैंने एक उंगली उसकी गांड में डाल दी. उंगली तेल से भीगी हुई थी, सो उसे मजा आ गया.

मैं धीरे धीरे एक उंगली से उसकी गांड को ढीला करने लगा. फिर धीरे से एक उंगली और अन्दर कर दी. दूसरे हाथ से तेल टपकाता रहा और अपनी बहन की गांड को मजा देता रहा. उसे भरोसा हो गया था कि मुझसे गांड मराने में उसे कोई दर्द नहीं होगा.

इसलिए वो कहने लगी- अब आ जाओ … मेरी गांड मार लो.
उसके मुँह से ये सुनते ही मैंने अपनी बहन को घोड़ी बनाया और अपना लंड उसकी गांड के छेद पर रख कर थोड़ा सा जोर लगाया. उसकी गांड बहुत टाइट थी तो मेरे लंड का सुपारा ही अन्दर घुस सका था.

लंड का सुपारा घुसते ही उसकी चीख निकल गयी. मैं उसी पोजीशन में थोड़ी देर रुक कर उसे सहलाने लगा. जब वो शांत हुई, तो मैंने फिर से जोर लगाया. इस बार मैंने जोर का झटका मारा और अपना पूरा लंड उसकी गांड में पेल दिया.

रिया की तो मानो जैसे जान निकल गयी थी. वो कुछ यूं तड़फ रही थी, जैसे किसी मेमने की गर्दन पर कसाई ने अपना छुरा फेर दिया हो.

मैंने पीछे से उसे अपने बांहों में भरकर उसके चुचे दबाए. उसे किस किया. करीब 5 मिनट बाद वो शांत हुई, तो मैंने उसकी गांड मारना शुरू कर दिया.
वाह … अपनी बहन की गांड मारते हुए मुझे कितना मज़ा आ रहा था.
रिया को भी थोड़ी देर बाद मज़ा आने लगा.

अब तो गांड एकदम से खुल गई थी. मैंने चैक करने के लिए पूरा लंड बाहर निकाला और फिर चांप दिया. वो मजे से लौड़ा लील गई. बस मैं यही चाहता था. मैंने खेल शुरू कर दिया. अब मैं कभी पीछे से अपना लंड कभी उसकी चुत में डालता, तो कभी उसकी गांड में डालता. वो भी मस्त हुई जा रही थी. उसे डबल मजा आ रहा था. आज मैं भी अपनी बहन की चूत गांड एक साथ मार मार कर खूब मज़े ले रहा था.

Pages: 1 2 3