चूत पर जैसे ही लंड रखता था तभी झड़ जाता था मेरा पति तब मैं ये कदम उठाई

तभी मैं अपने नाईटी को उतार दी और उनके पास पहुंच कर ग्लास में अपने लिए पेग बनाई और उनके लिए भी और फिर चियर्स कर के पि गए और फिर उन्होंने मुझे अपनी बाहों में भर लिया और बैडरूम में ले गए, उन्होंने अपने सारे कपडे उतार दिए और फिर मेरे होठ को चूसने लगे, उनकी मजबूत पकड़ मेरी जिस्म को तार तार कर रहा था और मैं सिसकियाँ ले रही थी, मेरे जिस्म में आग लग रही थी मेरी चूत में गर्मी हो रही थी और पूरी गीली हो गई थी, तभी विनय जी निचे गए और मेरी चूत को चाटने लगे मैं उनका बाल पकड़ कर चटवाने लगी, वो उठे और दारू का बोतल लाये और थोड़ा थोड़ा मेरी चूत पर डाल कर चाटने लगे मैं भी बहोत मजे लेने लगी.

उसके बाद वो दारू मेरी चूचियों पर डाले और चाटने लगे, फिर वो मेरे होठ को चूसने लगे, उसके बाद वो मुझे उलट दिए और मेरी गांड में दारु डाल कर चाटने लगे। दोस्तों आज मैं बहुत खुश थी मैं खूब मजे ले रही थी। फिर उन्होंने अपना लौड़ा मेरे मुँह में डाल दिए और ऊपर निचे करने लगे, क्या बताऊँ आज मैं असल में देखि लौड़ा कैसा होता है आठ इंच लंबा मोटा मेरे मुँह में मुश्किल से जा रहा था। फिर उन्होंने मेरे टांगो को अपने कंधे पर रख लिया और अपना लौड़ा मेरे चूत पर सेट किया और जोर से धक्का मारा “हाई मैं मर गई “मेरे मुँह से आवाज निकली पूरा लौड़ा मेरे चूत के अंदर चला गया था। वो मेरी दोनों चूचियां को अपने हाथो में पकड़ लिया और मेरी चूत में अपना लौड़ा पेलने लगे। मैं आह आह आह आह कर रही थी और वो आह मेरी जान आह मेरी जान और जोर जोर से अपना मोटा लौड़ा मेरी चूत में दाल रहे थे।

उन्होंने मुझे करीब एक घंटे तक चोदा कभी उलट कर कभी पलट कर कभी बैठ कर मेरी चूत पहली बार पानी पानी हुआ था और सफ़ेद क्रीम निकला था विनय जी उस सफ़ेद क्रीम को भी चाट गए थे, फिर उन्होंने मेरे मुँह में अपना सारा वीर्य डाल दिया और फिर दोनों एक दूसरे को पकड़ कर सो गए। दोस्तों उसके बाद क्या अब मैं बहुत खुश हु। खूब मजे ले रही हु। पति जाये माँ चुदाने मुझे लंड मिल गया।

आशा करती हु आपको मेरी कहानी अच्छी लगी होगी, अगर आप दिल्ली के आसपास रहते हैं तो कमेंट करें। हो सकता है मैं आपकी रंगीन कर सकती हूँ।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *