रंडी की चूत चोद कर अपने लंड की प्यास बुझाई

झड़ने के बाद हम दोनों ने पानी पिया. फिर एक दूसरे को चूमने लगे. मैं उसकी चुची मुँह में लेकर चूसने लगा.. और उसकी चुत में अपनी दो उंगलियां डालकर अन्दर बाहर करने लगा.
अगले 5 मिनट तक चुचियों को चूसा. फिर मैं उसकी चुत को चाटने लगा. चुत चूसते चूसते उसकी चुत में 3 उंगली पेल दीं.

वो गरमा गई थी और उह्ह.. आह.. करने लगी थी. वो पूरी तरह से हीट पर आ गई थी. मेरा लंड अभी भी नॉर्मल ही था. इस बार उसने नॉर्मल पोज़िशन में ही लंड पर कंडोम चढ़ाया और मुँह में कंडोम के ऊपर से ही लेकर लंड चूसने लगी.

मैं भी उसके सर को पकड़ कर मुँह चोदने लगा. मुँह को चोदने चूसने में ही लंड दो मिनट ही खड़ा हो गया. फिर वो बेड पर लेट गई. उसने अपने हाथ से चुत फैला दी. मैंने भी उसकी चुत में लंड सीधे सीधे पेल दिया और ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. फिर 2-3 मिनट चुदाई के बाद मैंने उसको पोजीशन चेंज करने को बोला, वो तुरंत कुतिया बन गई.

अब मैं पीछे से उसकी चूत में लंड लगा कर चोदने लगा. फुल स्पीड चुदाई हो रही थी. बेड भी चरमराने की आवाज़ करने लगा था. मुझे उसकी चुत अचानक टाइट सी लगने लगी. मैं तो उसे कुतिया बनाकर ज़ोर ज़ोर से चोदता ही रहा. दो मिनट में ही वो चिल्लाते हुए झड़ गई और उसकी आँख से भी आँसू आ गए. मैंने लंड बाहर निकाल कर पहले उसकी चुत की मलाई को चाटा, फिर चुदाई चालू की. अगले 5 मिनट और कुतिया पोज़िशन में चोदा और उसकी चुत में ही झड़ गया.

इस बार मुझे बहुत मज़ा आया था क्योंकि चुदाई 15 मिनट तक फुल स्पीड में हुई थी और वो भी झड़ गई थी.
हम दोनों बेड पर 10 मिनट तक थके हुए पड़े रहे.

फिर मैं उसकी चुत को धीरे धीरे टच करने लगा और मम्मों को भी चूसने लगा.
इस बार मैं नीचे लेटा था, वो मेरे ऊपर आ गई थी. उसने मुझे किस किया और मैं उसके मम्मों को चूसने लगा. साथ ही मैं एक हाथ से उसकी चुत को सहला रहा था. चुत सहलाते सहलाते वो मेरे मुँह पर आ गई. उसकी चुत अब मेरे मुँह पर थी, मैं रंडी की चूत चूसते ही जा रहा था. दस मिनट तक मैंने उसकी चुत को चाटा. वो मेरी मुँह में ही झड़ गई. मैं भी उसकी सारी मलाई पी गया.

अब उसने मेरे लंड पर कंडोम चढ़ाया और मुँह में लेकर चूसने लगी. दस मिनट चूसने के बाद लंड पूरा खड़ा हुआ. इस बार वो मेरे लंड पर आकर बैठ गई और धीरे धीरे कूदने लगी. मैं भी उसकी कमर पकड़ ज़ोर ज़ोर धक्के मारता जा रहा था. फिर उसने 7-8 मिनट तक मेरे ऊपर बैठ कर लंड की सवारी की. उसके बाद मैंने उसको कुतिया बनाया और ज़ोर ज़ोर से धक्के मारना शुरू किए.

लगभग दस मिनट कुतिया बनाकर चोदा, फिर वो झड़ गई. लेकिन मैं अभी भी नहीं झड़ा था. मैंने अब उसको अपने लंड पर बैठाकर उठा लिया और ऊपर ही से चोदने लगा. दो मिनट तक ऊपर बैठा कर चोदा, उसके बाद नॉर्मल मिशनरी पोज़िशन में चुदाई स्टार्ट की. उसके दोनों पैर अपने कंधों पर रख कर ज़ोर ज़ोर पेलता रहा. फाइनली वो थक गई थी, लेकिन मेरा माल निकल ही नहीं रहा था. चुदाई करते करते इस बार 20 मिनट हो गया था. मैं भी थोड़ा थक गया था.

फिर मैंने उसको लंड ज़ोर ज़ोर से चूसने को बोला. उसने 5 मिनट चूसा, लेकिन कुछ नहीं हुआ. आख़िरकार मैं खुद अपने हाथ से लंड हिलाने लगा. दस मिनट लंड हिलाने के बाद सारा माल मैंने उसकी चुचियों पर डाल दिया. चुदाई खत्म हुई और हम दोनों ने होटल छोड़ने की तैयारी की. उसने मुझे बहुत पसंद किया.
मैंने उसे उसकी फीस दे दी.

हम वापस आ गए, उसको मैंने उसके बाद भी कई बार चोदा, वो घटनाएं भी कभी लिखूँगा.

थैंक्स फ्रेंडज़, फीड बैक के लिए मुझे ईमेल करें.

Pages: 1 2