मोटे लंड के स्वामी!! अच्छे से चाटो मेरी रसीली चूत को

हाय फ्रेंड्स मेरा नाम सलोनी है। मै एक जवान खूबसूरत 32 वर्षीय औरत हूँ। मै रामनगर में रहती हूँ। अब तक की इस जवानी का भरपूर मजा मेरे पतिदेव ने लिया है। मेरी चूत में आज भी उतनी ही ज्यादा रस भरी है जितनी मेरी 25 साल की उम्र में थी। मेरे हसबैंड मेरी जवानी का रस चार साल बाद भी नहीं ख़त्म कर पाए। मेरे हसबैंड एक बिल्डर है। वो अक्सर काम धाम के सिलसिले में बाहर ही रहते थे। उनका सेक्स टाइमिंग भी खराब था। रात को देर से थके हुए आते थे। मेरे चुदने के अरमानों पर पानी फेर देते थे। मै सारा कपड़ा निकाल कर चुदने को रेडी रहती थी। लेकिन वो आते और दो चार झटके मार कर ख़त्म होकर बैठ जाते। उतनी देर में तो उनका काम तमाम हो जाता था।

वो स्खलित होकर सो जाते थे। लेकिन उतने समय में तो मेरी चूत गर्म भी नहीं होती थी। जब तक मेरा मौसम बनता था तब तक तो वो अपना माल निकाल चुके होते थे। मै उनके माल को चाटकर उंगलियों से काम चलाती थी। लेकिन ऐसा करते मेरे को वर्षो गुजर गए। अंत में थक हार कर मेरे को दूसरे मर्द का सहारा लेना पड़ा। वो भी करीब 30 साल का था। उस उम्र में भी वो कुवांरा ही घूम रहा था। मेरी चूत को चोदने के लिए उससे अच्छा मर्द नहीं मिलने वाला था। वो भी चूत का तड़ रहा था। मेरे को चुदने के लिए उसका सहारा लेना पड़ा। एक दिन मै मार्केट को जा रही थी। मेरे को वो रास्ते में मिल गया। वो अपनी बाइक लेकर मेरी तरफ आ रहा था।

loading…
“चलो भाभी मैं आपको छोड़ देता हूँ” प्रिंस बोला
मै उस दिन पैदल थी। वो मेरे को अपनी बाइक पर बिठा लिया। मै उसके साथ चली गईं। मेरे से वो पहले भी कई बार बात कर चुका था।

“भाभी जी आज आप बहुत ही जयादा मस्त लग रही हो!” प्रिंस बोला
मेरी तारीफों पर तारीफ़ किये जा रहा था। बार बार ब्रेक मार मार कर अपने पीठ में मेरा दूध लगा रहा था। मैं अपने चूचे को जान बूझकर उसके पीठ में लगा रही थी। प्रिंस का मौसम बन रहा था।

“भाभी आप थोड़ा पीछे रहो! आपके स्पर्श से मेरा मौसम बन रहा था” ऐसा उसने मस्ती करते हुए कहा

मेरा भी मूड खराब हो रहा था। वो मेरे को अपने पास से चिपका कर मजे लेने लगा। मै बहुत ही ज्यादा उत्तेजित लग रही थी। उसने शॉपिंग कराने के बहाने मेरे साथ घूमने लगा। उसने मेरे को पटाने की कोशिश भी की।

“तुमने अब तक शादी क्यों नहीं की” मैंने पूछा
“क्या करूँ भाभी मेरे को कोई अच्छी लड़की भी तो नहीं मिलती” प्रिंस से कहा
मैंने अपना फोन निकाला और उसमे से अपनी छोटी बहन का फोटो दिखाकर उसे शादी के लिए पूछा। मेरी बहन भी मेरी तरह खूबसूरत थी। वो भी किसी हेरोइन से कम नहीं लग रही थीं। उसकी फ़ोटो देखकर उसे बड़ी उत्तेजना होने लगी। एक नजर में वो उसे पसन्द करके कहने लगा।

“भाभी आप मेरी शादी इससे करा दो! आप जो कहोगी मैं करूंगा” प्रिंस ने कहा
मैंने उससे अपनी प्यास को बुझाने के चक्कर में रात को अपने घर पर बुलाया। प्रिंस रात को मेरे घर आने का मामला समझ नहीं पा रहा था। मैं भी अपनी चूत को उसके हवाले करके चुदना चाहती थीं। मैंने उसके चैन की तरफ देखकर इशारा कर रही थी। वो मुस्कुराते हुए मेरी तरफ देखने लगा।

“तो बहन के साथ तुम भी मेरा लंड खाना चाहती हो!” प्रिंस बोला
मैंने हँसते हुए बोला “शादी की सिफारिश कर रही हूँ तो कुछ तो घूस चाहिए ही”

प्रिंस ने ठीक है कहकर बात टाल दी। उसके बाद मेरे शॉपिंग का सारा खर्चा उसने किया। वो शादी के चक्कर में मेरे साथ कुछ भी करने को तैयार था। मेरे को उस दिन मौक़ा नहीं मिला। लेकिन उसके दूसरे दिन मेरा घर खाली था। मैंने मौक़ा पाते ही प्रिंस को सब प्लानिंग समझा दी। वो रात को आकर मेरी चूत चोदने का वादा कर के चला गया। मैं बहुत ही खुश थी की आज कई दिनों के बाद मैं किसी और मर्द के साथ चुदने वाली हूँ । शाम ख़त्म हो गयी रात आ गयी थी। प्रिंस ने घर के पीछे वाले दरवाजे से इंट्री मारी। मेरे को उसने आकर चौका दिया। वो चुपके से आकर मेरे को सरप्राइज दे रहा था। उसने मेरे को पीछे से दबोच कर अपने सीने से चिपका लिया। उस दिन मैंने सलवार कुर्ता पहना हुआ था। मेरे पेट को वो हाथो से मसलते हुए बाते करने लगा। पूरा घर खाली था।

“क्या बात है जी आज तो आपका पूरा घर खाली है! जहाँ चाहूं जैसे चाहूं आपको चोद सकता हूँ” प्रिंस बोला

मै उस समय बर्तन धुल रही थीं। रात के करीब 11 बज रहे थे। वो मेरे साथ साथ छोटे बच्चे की तरह जहां जाती वहाँ आ जाती थी। मै फ्री होते ही उसके बिस्तर पर आ गयी।

Pages: 1 2 3