बहन की चुदाई

हाय डीके रीडर्स मैं फिर हाज़िर हूँ अपनी नयी कहानी लेकर ये कहानी मेरी और मेरी बहन की है, मेरी बहन जिसको हम प्यार से भालू कहते है उसके साथ हुए सेक्स के बारे मे है की कैसे मैने अपनी बहन को चुदते हुए देखा और बाद मे उसे चोदा, मेरी बहन मुझ से 2 साल छोटी है दिखने मे वो बहुत सुंदर है रंग गोरा भरा हुआ शरीर है, चुचियाँ 34 की है कमर उसकी 30 है दिखने मे वो बहुत सुंदर है जब मैने उसे चोदा तब उसकी उमर 18 साल की थी, मेरी 20 की एक दिन पहले मेरी बुआ जी और उनका बेटा आया हुआ था, बुआ जी मम्मी पापा सारे एक कमरे मे सोए हुए थे, मैं मेरी बहन और बुआ का बेटा एक कमरे मे सोए हुए थे रात को नींद मे मुझे लगा जैसे कोई आवाज़ आ रही है, मेरी आँख खुली तो मैने देखा की मेरी बुआ का बेटा मेरी बहन को किस कर रहा था मेरी बहन नंगी लेटी हुई थी और कह रही थी भैया बस करो बहुत हो गया प्लीज़ बस करो और मेरा भाई कह रहा था भालू क्या हुआ थोड़ी देर और यार प्लीज़, मैने देखा मेरी बहन नंगी लेटी हुई है उसकी गॅंड मेरी तरफ है और मेरा भाई उसे किस कर रहा था थोड़ी देर बाद मेरा भाई उसके उपर आ गया और झटके मारने लगा.

ऐसा करते-करते मैने भी अपनी बहन को थोड़ा सा छुआ, मुझे मज़ा आ रहा था देखने मे की मेरी बहन मेरे बुआ के बेटे के नीचे लेटी हुई थी, उसकी फुददी बिल्कुल सॉफ थी मेरे भाई का लॅंड उसकी फुददी मे बिल्कुल सॉफ जाता दिख रहा था, फिर थोड़ी देर बाद मेरा भाई उठा और मेरी बहन को उठाया वो घोड़ी बन गयी, मेरे भाई ने अपना लॅंड मेरी बहन की फुददी मे डाल दिया और अंदर-बाहर करने लगा, मेरी बहन सिसकी आवाज़ निकाल रही थी, थोड़ी देर मेरे भाई ने अपना पानी मेरी बहन की फुददी मे निकाल दिया और लेट गया, मेरी बहन बोली ये क्या किया पानी मेरी फुददी मे छोड़ दिया, अगर मैं प्रेग्नेंट हो गयी तो क्या होगा, तो भाई ने उसे एक गोली का पत्ता दिया और बोला इसमे से एक गोली खा लेना और अगर किसी से भी चुदो तो गोली खा लेना प्रेग्नेंट नही होगी, मेरी बहन ने गोली ले ली और किस करके सो गयी, मुझे भी नींद आ गयी मैं भी सो गया, फिर सुबह उठके मेरी बुआ का बेटा और बुआ जी चले गये, मैने चुपके से मेरी बहन के पास से वो पत्ता उठा लिया और रात को अपनी बहन को बोला मैने रात को कुछ आवाज़ सुनी और बेड भी हिल रहा था तू और हितेश (मेरे बुआ के बेटे का नाम है) कर क्या रहे थे.

वो घबरा गयी और बोली कुछ नही तुझे सपना आया होगा, तो वो तुझे ये दवाई का पत्ता देके गया है ये तो सपना नही हो सकता और गुस्से मे बोला तुम कर क्या रहे थे, ये कब से चल रहा है वो डर के मारे कापने लग गयी और रोने लग गयी, मैने कहा कल बड़े मज़े ले रही थी और अब रो रही है रुक अभी मॉम को बुलाता हूँ, तो वो बोली प्लीज़ भाई आगे से नही करूगी मुझे माफ़ कर दो मैं आपकी हर बात मानूँगी मैं बहक गयी थी, मुझे निकिता ने कहा था करने को (निकिता हितेश की रियल सिस्टर थी) मैं उसकी बातों मे आ गयी थी, मैने कहा निकिता ने क्यो कहा था, तो उसने बताया निकिता भी करती है हितेश के साथ, मैने कहा सच, तो उसने कहा हान जब पिछली बार वो सब आए थे तो निकिता मुझे हितेश के पास ले गयी थी, वाहा उसने मेरी फुददी चूसी थी मुझे बहुत मज़ा आया तो रात को हमने पहली बार सेक्स किया था, प्लीज़ भाई माफ़ कर दो मैने कहा माफ़ तो मैं कर दूँगा पर तुम्हे सज़ा ज़रूर मिलेगी उसने कहा जो आप कहोगे मैं करूँगी, मैने कहा अपने कपड़े निकाल, वो बोली क्या, मैने कहा अपने कपड़े निकाल, तो उसने अपने कपड़े निकाल दिए, मैने कहा मेरे पास आ वो मेरे पास आई.

मैने कहा मेरे कपड़े निकाल उसने मेरे सारे कपड़े निकाल दिए, मेरा लॅंड अपने फुल साइज़ मे आ गया था, मैने उसे कहा मूह मे लेकर अछी तरह से चूस, तो उसने कहा भाई मैने कभी मूह मे नही लिया मैने कहा चूस साली नखरे मत कर, मैने अपना लंड उसके मूह मे डाल दिया और ज़ोर से झटके मारने लगा और पूरा अंदर डाल दिया, उसे ख़ासी होने लगी उसकी आखो से पानी आ गया, मैने अपना लॅंड उसके मूह से कभी बाहर कभी अंदर किया उसके फेस का बुरा हाल हो गया और मैने लॅंड निकाल के उसे कहा घोड़ी बन वो घोड़ी बन गयी, मैने अपना लॅंड उसकी गॅंड पे रखा और अंदर डाल दिया उसने गॅंड नही मरवाई थी उसे दर्द होने लगा, उसकी गॅंड पूरी टाइट थी मैने कहा हिलना मत वरना वो हाल करूगा याद रखेगी और सारा लॅंड उसकी गॅंड मे डाल दिया, वो रोने लग गयी और दर्द से कराह रही थी, मैं उसकी गॅंड मे लॅंड डालकर अंदर बाहर करने लगा, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था पर उसे बहुर दर्द हो रहा था, एक बात याद रखो लड़की की गॅंड मारने मे जो मज़ा आता है वो लड़की की फुददी मारने से कही बेहतर है, मैं ज़्यादातर लड़की की गॅंड ही मारता हूँ पर फुददी भी ज़रूर मारता हूँ.

Pages: 1 2