भाई बहन सेक्स: मामा की बेटी की चुदाई

मेरा नाम डी.के है। मैं फिलहाल दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ रहा हूँ। मैं बचपन से खेल कूद में आगे रहता था इसलिए मेरी कद-काठी काफी सुंदर है। मैंने 10वीं क्लास से ब्लू फ़िल्म देखनी शुरू कर दी थी।
बात है जब मैं 12वीं में था, गर्मियों में अवकाश के लिए मैं अपने मामा के घर गया हुआ था। गांव में मैं बोर हो जाता हूँ लेकिन वहाँ मेरे मामा की बेटी रजनी मेरी काफी अच्छी दोस्त है, वो मुझसे एक साल बड़ी है।
रजनी का रंग सांवला था लेकिन उसके बोबे एकदम खरबूजे की तरह फूले हुए थे जो हमेशा शर्ट से बाहर आना चाहते हों और उसकी गांड दो मटकों जैसे लगती थी।
हम दोनों घण्टों बातें करते थे। मैंने कभी उसे गन्दी नजर से नहीं देखा था।

एक शाम वो खाना बना रही थी और हम बातें कर रहे थे, तभी मैंने कोई बात कही वो हंसती हंसती मेरे पास आई और मेरी जांघ पर हाथ रख के हंसने लगी। एक मिनट के लिए मेरे लंड में चिंगारी सी लगी क्योंकि मैंने कभी सेक्स नहीं किया था। हालांकि मुठ मारने की वजह से मेरे लंड की चमड़ी पीछे थी।
मैंने अपने आप को संभाला और सोचा ये भाई बहन सेक्स गलत है, शायद उसने गलती से हाथ रखा होगा।

फिर बाकी दिनों की तरह हम छत पे सोने चले गए। हम अक्सर खूब बातें करते थे रात को उस रात भी में उसके छोटे भाई को चाँद के बारे में कुछ बता रहा था.
एकदम रजनी ने कहा- चलो बातें कल करना, अब सो जाओ.
थोड़ा अजीब लगा फिर मुझे लगा कि वो थक गई होगी।

मैं एक कोने से सोया था, मेरे बगल में छोटा भाई और फिर रजनी।

रात को करीब 2 बजे मुझे गर्मी लगी, देखा रजनी मुझसे चिपक कर सो रही थी और उसका छोटा भाई कोने में था। उसकी गर्म सांसें मेरी गर्दन पे बार-बार लग रही थी। उसकी गर्म सांसों से न जाने अजीब सी बिजली दौड़ने लगी मेरी शरीर में।
मैंने अपनी हवस पे काबू किया और अपने आपको रोका, फिर सोने की कोशिश की।

लेकिन उस दिन रजनी ने शायद सोच रखा था चुदने के लिये, भाई बहन सेक्स के लिए, वो मेरे और करीब आ गई फिर वो हुआ जो मैं कभी न भूलूंगा। हमारे होंठ मिल गए और हम एक दूजे के होंठों का रसपान करने लगे। कभी मेरे होंठ उसके होंठों को चूसते और कभी उसके।

फिर मैं एक पाँव उसके ऊपर रख के उसके ऊपर हो गया और उसके हाथों को अपने हाथों से दबा दिया। करीब 5 मिनट उसके होंठ चूसने क बाद मैं उसकी गर्दन को चूमने लगा और दोस्तों सच बताऊँ… लड़की की गर्दन के जरिये आप उसे चुदने के लिए प्यासी बना सकते हैं। वो आपके लंड के लिए आपका खून भी कर सकती है।

रजनी भी पागल हो गई थी और उसके सांसें बहुत तेज हो गई और मेरे हाथ उसके बड़े बड़े बोबों पे चलने लगे। इतने मुलायम लेकिन इतने बड़े… मैं तो पागल हो गया था। मैं उसके स्तन नोचने लगा.
फिर उसने कहा- डी.के. नीचे चलते हैं वरना छोटा जग जाएगा।

हम नीचे गए और मैंने वहीं उसे दीवार से लगा कर उसके स्तनों को शर्ट के ऊपर से दबाने लगा और वो सिसकारियाँ लेने लग गई। फिर उसने कान में कहा “सिर्फ नोचोगे या चखोगे भी?”
मैंने झट से उसके शर्ट को उतार फेंका, अब उसकी पिंक ब्रा मेरे सामने थी, उसके स्तन उसमें से बाहर झाँक रहे थे जैसे कोई चिड़िया पिंजरे में कैद हो।
मैंने उन्हें आजाद कर दिया। फिर अपने आप मेरे होंठ उसके भूरे निप्पल पे चले गए और मैं उनको चूसने लगा जैसे कोई बच्चा लॉलीपॉप चूसता है।

दाँए स्तन को मैं चूस रहा था और बायें स्तन को दबा रहा था। मेरी बहन के मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थी। वो बोलने लगी- हाँ भाई, चूसते रहो बहुत मजा आ रहा है.
और उसने मेरे मुँह को अपने स्तन पे पूरी ताकत से दबा दिया।
मैंने कहा- रजनी बहना, ऐसे बोबे पहले खा छुपा के रखे थे?
उसने कहा- हमेशा से तुम्हारे सामने थे, तुमने ध्यान ही नहीं दिया, कब से इस दिन का इन्तजार था।

मैं उसके स्तनों को कभी मसलता, कभी नोचता, कभी उसके निप्पल को काटता.
फिर वो बोली- कुछ करो भाई, नीचे बहुत अजीब सा लग रहा है.

मैंने उसकी चूत को ऊपर से सहला दिया और उसे वहीं पे लिटा दिया, फिर उसकी सलवार को निकाल दिया। उसकी पैंटी चूत के ऊपर गीली हो चुकी थी। मैंने उस जगह को सूंघा, लंबी सांस ली और एक बड़ा सा चुम्मा ले लिया उस गीली जगह का, उसकी पैंटी को उतार एक तरफ फेंक दिया।

मेरी बहन की चूत पे बाल थोड़े थोड़े थे।
मैंने कहा- बाल कब साफ़ किए थे?
वो बोली- 2 दिन पहले.

अब मैंने अपने होंठों से उसकी चूत के बगल जांघ पे चूमने लगा और उसकी चूत के दाने को मसलने लगा। रजनी की सांसें टूटने लग गई थी और वो कुछ बड़बड़ाने लगी। मैंने ध्यान नहीं दिया।
फिर मैं उसकी चूत के दाने को चूम लिया और वो छटपटा गई। फिर मैं उसकी चूत के दोनों होंठों को अलग करके उसके छेद को चूसने लगा।
रजनी के मुख से बस यही निकल रहा था- आह भाई… चूसते जाओ। आह आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… बहुत मजा आ रहा है मेरी जान। उम्म्म हाँ डी.के आह आह्ह्ह.

Pages: 1 2