बस मे मिले आदमी से चुदाई की

हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम सिमरजीत कौर हैं एंड मैं पुंजाब के एक छोटे से शहर से बिलॉंग करती हू ये मेरी एक रियल स्टोरी हैं जिसे मैने लिखने की कोशिश की हैं उम्मीद करती हू की आप सब को ये स्टोरी पसंद आएगी अगर कोई ग़लती हो तो मुझे माफ़ करना पहले मैं आपको अपने बारे मे बता दू मेरा नाम सिमरजीत कौर एंड और मैं 24 साल की हू एक प्राइवेट बॅंक मे जो मेरे शहर से 40 किमी दूर हैं वाहा पे काम करती हू मेरा फिगुर 34-30-34 हैं हाइट 5 फीट 6 इंच हैं रंग गोरा हैं ये इन्सिडेंट मेरे साथ जन्वरी मे हुआ था जिसे मैने कभी सोचा भी नही था की मैं किसी मर्द से इस तरह चुदवाउन्गि मेरे घर मे मेरे पापा मॉम डॅड एक छोटी सिस एंड भाई रहते हैं तो आपको बोर ना करते हुए मैं सीधा स्टोरी पे आती हू मैं अपने शहर से दूर काम पे जाती हू एंड रोज अप डाउन करती हू मैं अपने घर से बस स्टॅंड अक्टिवा पे जाती हू एंड वाहा अक्टिवा खड़ी करके बस से आगे बॅंक मे जाती हू जन्वरी का महीना था तो ठंड भी काफ़ी पड़ती थी इसलिए मैं ज़्यादातर घर लेट ही आ पति थी रात के 8 बज जाते थे एक और बात मैं पहले अपने एक बीएफ से चुद चुकी हू अब वो अब्रॉड चला गया हैं तो हुआ यू की

एक दिन मैं जब बॅंक गई तो उस दिन ऑडिट करने के लिए एक टीम आ गई उन्होने काफ़ी टाइम तक ऑडिट की और उस दिन अननोन कॅश मे भी डिफरेन्स निकाल दिया सो मॅच करते करते शाम के 6 बज गये 6:30 पीयेम पे मेरी बस का टाइम होता था उस दिन मेरे मॅनेजर का जन्मदिन भी था तो ऑफीस के लोग उसे सेलेब्रेट करने लगे मैने घर पे बोल दिया की मैं रात को 10 से 11 बजे तक आउन्गि ताकि उनको कोई चिंता ना हो बॅंक से निकलते निकलते रात के 8 बज गये और मैं बस के आने का वेट करने लगी 2-3 बस आई लेकिन वो मेरे शहर की तरफ नही जाती थी मेरी बस 9:10 पीयेम पे आई बस मे काफ़ी भीड़ थी पैर रखने तक की जगह तक नही थी मैं जाके बस मे चढ़ गई बस मे भीड़ होने के कारण सभी लोग चिपके हुए थे

मैं भी भीड़ मे घुस गई मेरे सामने एक 35 साल की औरत खड़ी थी एंड पीछे एक 40 साल के आस पास का आदमी खड़ा था उस रात ठंड भी काफ़ी पड़ रही थी जिस कारण बस बहुत स्लो चल रही थी उस दिन मैने जीन्स एंड कुर्ता पहन रखा था बस जब चल पड़ी तो मैने देखा की सभी लोग मूह नीचे करके सो रहे थे मेरे सामने जो औरत थी वो भी खड़े खड़े सो रही थी 5 मिनट बाद मेरे को ऐसा लगा की मेरे पीछे वाला आदमी मेरे से चिपक रहा हैं मैं थोड़ा सा आगे हो गई वो फिर आगे आ गया मुझे लगा की बड़ी जगा हैं इसलिए वो सरक रहा हैं फिर 2-3 बाद मेरे को ऐसा लगा की मेरी गॅंड मे कुछ लगा

मैं फिर उसे महसूस करने लगी फिर क्या फिर अहसास हुआ की पीछे वाले का लंड खड़ा हो गया हैं एंड वो मेरी गॅंड को लगा रहा हैं काफ़ी टाइम बाद लंड की फीलिंग आई मेरे को क्यूकी मेरा बीएफ ही मुझे चोदता था बट मैं फिर हल्का सा सर्की वो फिर आगे आ गया जब मैं कुछ ना बोली तो उसकी हिम्मत और बढ़ गई उसने लंड सीधा कर दिया एंड मेरी गॅंड को टच होने लगा मैं गरम होने लग गई बाद मे वो हल्के हल्के लंड अपना मेरी गॅंड पे फिराता रहा मेरे को लगा की उसने मेरा कुर्ता उपर कर दिया हैं मैं जब कुर्ता ठीक करने लगी तो मेरा हाथ उसके लंड पे जा लगा और मेरे को पता चला की उसने अपना लंड ज़िप से बाहर निकाला हुआ हैं मैने हाथ उपर कर लिया बट वो आदमी नही पता आगे रास्ता खराब आ गया तो बस मे झटके लगने लग गये उसका लंड मेरी गॅंड से ज़ोर ज़ोर से टच होने लगा फिर मेरे सामने जो औरत खड़ी थी वो नीचे बैठ गई जिस कारण मेरे को सीधा खड़ा होना पड़ा

अब मेरा एक हाथ उसके लंड की तरफ था उसने अपना लंड मेरे हाथ पर फिराना शुरू कर दिया मैने हाथ उपर कर लिया मेरी चुप को वो मेरी कमज़ोरी समझ रहा था फिर उसने अपना लंड मेरी कमर पे लगाना शुरू कर दिया जब मैने हाथ नीचे लिया उसने फिर मेरे हाथ पे फिराना शुरू कर दिया मैने हाथ वाहा से हटाया नही फिर उसने मेरा हाथ पकड़ा एंड मेरे हाथ को अपने लंड पे टीका दिया अब मैं भी गरम हो चुकी थी

मैने आराम से उसका लंड पकड़ लिया एंड धीरे धीरे आगे पीछे करने लगी फिर उसने बोला की मूह मेरी तरफ करो मैने अपना मूह उसकी तरफ कर लिया मैने अभी भी उसका लंड पकड़ा हुआ था उसने मेरा नाम पूछा मैने कहा की सिमर तो उसने अपना नाम पूरण बताया एंड बोला की किसी काम से मेरे शहर से आगे जा रहा हैं उसने बोला की पहले चुदि हो तो मैने कहा की हा

Pages: 1 2