बिज़्नेस ट्रिप वित असिस्टेंट

हेलो दोस्तो, मैं आपका दोस्त पीटर हाज़िर हूँ आपको अपनी लाइफ की एक और सत्य घटना सुनाने के लिए, जैसे की मेरी पिछली स्टोरी की तरह ये स्टोरी भी लड़कों को मूठ मारने के लिए मजबूर कर देगी और लड़कियों को अपनी चुत मे उंगली करने के लिए, जैसा की मैं बता चुका हूँ की मैं एक बड़ी कंपनी मे जॉब करता हूँ, जहा मेरे कुछ असिस्टेंट्स भी है, ये कहानी मेरे और मेरी एक असिस्टेंट सपना के बीच सेक्स की कहानी है, कैसे मैने उसकी जबरदस्त चुदाई की, स्टोरी आज से करीब 6 मंथ पुरानी है, कंपनी की डील के काम से मेरे ग्रूप की (टोटल 4 लोगो को) को मुंबई जाना था, और बाकी के 3 लोगो को सेलेक्ट करने की ज़िम्मेदारी सीनियर होने के नाते मुझ पर थी, सो मैने सभी अस्सिस्टेंट्स की पर्फॉर्मेन्स को देखते हुए, राहुल, मनोज और सपना को फाइनल किया और उन्हे ट्रॅवेल की सारी डीटेल्स दी, सभी काफ़ी कुश और एग्ज़ाइटेड थे इस बिज़्नेस ट्रिप को लेकेर बट सपना कुछ ज़्यादा ही खुश थी, उसने पर्सनली मुझसे आके थॅंक यू कहा, तब मुझे लगा की उसे मुझसे कुछ तो चाहिए, खैर ट्रिप पे जाने का टाइम आ गया, कंपनी के रूल्स के अकॉरडिंग मुझे ट्रेन के एसी-1 और असिस्टेंट्स को एसी-3 का रिज़र्वेशन मिला, हमारी जर्नी स्टार्ट हुई.

मैं अपना ऑफीस वर्क और मीटिंग डीटेल्स लॅपटॉप मे देखने लगा, तभी मुझे याद आया की कुछ स्पेशल डॉक्युमेंट्स सपना के पास है, मैने तुरंत सपना को फोन किया और उसे डॉक्युमेंट मेरे कोच मे लाने को कहा, क्यूंकी एसी-1 और एसी-3 आपस मे कनेक्टेड रहते है सो उसे कोई दिक्कत नही हुई, वो 5 मिनट मे ही मेरे कॉमपार्टमेंट मे आ गयी, मेरे कॉमपार्टमेंट मे मेरे अलावा दो लोग एक लेडी और एक सीनियर सिटिज़न और थे सो मैने उससे मीटिंग के बारे मे कुछ डिस्कशन भी कर लिया, वो मेरी बातो मे काफ़ी इंटरेस्ट ले रही थी, खैर आधे घंटे बाद वो अपनी बर्त पर चली गयीं हमारी ट्रेन मॉर्निंग मे मुंबई पहुचि, सभी ने होटेल के लिए टॅक्सी ली, कंपनी पॉलिसी के अकॉरडिंग मेरे लिए 5 स्टार होटेल और असिस्टेंट्स के लिए 3 स्टार होटेल की व्यवस्था थी, तो हम लोग अलग-अलग होटेल मे थे, आफ्टरनून मे सभी लोग मैं, राहुल, मनोज और सपना मेरे होटेल मे दूसरी कंपनी से डील के लिए एक साथ मीटिंग मे गये, मीटिंग काफ़ी अछी रही और आगे की बातो के लिए नेक्स्ट डे का कार्यक्रम तय हुआ, सो हम लोगो के पास काफ़ी टाइम था, राहुल और मनोज ने उनके रिलेटिव के पास जाने का प्लॅन बनाया और मेरी पर्मिशन लेकर वो चले गये.

मुझे भी इन्वाइट किया बट मेरा कुछ और ही प्लॅन था, समझ गये ना आप, क्या प्लॅन था, सपना से भी मैने कहा की वो चाहे तो मुंबई घूम सकती है, उसने इंटरेस्ट नही लिया और मना कर दिया, मेरा प्लॅन किसी हाइ क्लास स्ट्रीप क्लब से कोई कॉल गर्ल बुलाने का था, क्यूंकी मुंबई मे कई हाइ क्लास स्ट्रीप सर्वीसज़ है जो अछी सर्विस प्रोवइड़ करते है ऐसे ही एक स्ट्रीप सर्विस का नंबर मुझे मेरे एक आछे दोस्त ने दिया था सो मैने उसे ट्राइ करने का प्लॅन बनाया, मैने कॉल की और एक अछी हाइ क्लास कॉल गर्ल के लिए बोला जिसके टाइट बूब्स और हिप्पस बड़े हो, ये बात शायद सपना ने सुन ली और उसने मुझे मेसेज किया की, ”जब आपके पास ही टाइट बूब्स और टाइट हिप्पस वाली लड़की है तो बाहर से बुलवाने की क्या ज़रूरत, मैने मेसेज पढ़ा और उसे देख कर मुश्कुरा दिया, 2 मिनट मे उसे बोला की टॅक्सी से मेरे होटेल मे मिलो, मैं फट से अपने होटेल के रूम मे गया और बिल्कुल फ्रेश होकर रेडी हो गया, 10 मिनट के बाद रूम की बेल बजी, मैने दरवाजा खोला तो सामने सपना खड़ी थी, वो आज काफ़ी हॉट लग रही थी, उसने सेक्सी पंजाबी सूट पहना था, वो काफ़ी सेक्सी लग रही थी, सूट मे से उसके बूब्स काफ़ी बड़े लग रहे थे और गॅंड भी बड़ी नज़र आ रही थी.

आते ही मैने उसे पकड़ लिया और हम लोग ज़ोर-दार किस करने लगे, आग दोनो तरफ लगी थी सो मज़ा दुगुना हो गया था, हमने तकरीबन 10 मिनट तक स्मूच किया, फिर उसने मेरी टी-शर्ट उतार दी मैने भी उसका सूट उतार दिया, अब वो पिंक ब्रा मे क्या कयामत लग रही थी, पिंक ब्रा और उसका गोरा रंग और सेक्सी पर्फ्यूम की महेक मुझे मदहोश कर रही थी, रूम का महॉल काफ़ी रंगीन हो गया था, मैने फटा-फट उसकी चुचियों को ब्रा से मुक्त किया, ब्रा के कारण उसके बूब्स पे लाल निशान आ गये थे जो काफ़ी सेक्सी लग रहे थे, उसके निप्पल पिंक कलर के थे जो मुझे पागल कर रहे थे, मैने फटा-फट उसकी एक चुचि मूह मे ली और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा, वो आहह अहह की आहे भर रही थी, मैने दोनो चुचियों को खूब चूसा, फिर मैने उसकी, सलवार उतार दी, उसका पूरा शरीर किसी अप्सरा की तरह लग रहा था बिल्कुल सफेद, मैं तो पागल हुआ जा रहा था, उसने मेरी पैंट खोल दी, मेरा 7 इंच का लॅंड खड़ा होकर अंडरवेर मे तंबू बना रहा था, उसने मेरे लॅंड को उपर से ही सहला दिया, मैने उसके शरीर का आखरी कपड़ा पैंटी भी उतार दी, अब मेरे सामने तो चाँद तारे थे एक सफ़ा चट पिंक चुत.

Pages: 1 2