चाचा की लड़की को लकिली चोदा

हेलो दोस्तो, मेरा नाम जिम्मी है और मेरी उमर 23 साल है, मैं कालोल गाँधीनगर का रहने वाला हूँ और यहा पर मैं अपना एक एक्सपीरियेन्स शेर करने जा रहा हूँ, जो मेरे और मेरी कज़िन सिस्टर के बीच हुआ था तो पहले मैं तुम्हे अपने बारे मे बता दू मैं दिखने मे एवरेज लुकिंग हाइट 5.9 इंच और लॅंड 6 इंच लंबा है, अगर आपको मेरी स्टोरी अछी लगे तो प्लीज़ फीडबॅक ज़रूर मैल करना, मेरी मैल आईडी है “जिम्मय्लोवे[email protected]याहू.कॉम”, अब मैं अपनी कज़िन के बारे मे बता दू उसका नाम विधि है और उसकी उमर 19 साल है और वो दिखने मे गोरी चिटी और साइज़ 32,28,36 है, चलो मैं अब अपनी स्टोरी पर आता हूँ, ये मेरी पहली और सच्ची कहानी है और मुझसे कोई भूल हो तो माफ़ करना, मेरे पापा तीन भाई है और हम सभी न्यूक्लियर फॅमिली मे रहते है और एक भाई गाओं मे और दो कालोल मे डिफरेंट सोसाइटी मे रहते है, हम कालोल मे रहते है और जिसके साथ ये इन्सिडेंट हुआ वो कज़िन भी कालोल मे रहती है.

मैं पहले से ही उसको पसंद करता था पर उसको कुछ बता नही सकता था और रहा नही जाता था, उसकी मेरी तरफ क्या फीलिंग है वो भी मुझे मालूम नही था और आज से 2 महीने पहले हमारे घर मे एक फॅमिली फंक्षन था तो हम सभी को गाओं जाना था, हम सब घर पहुँचे तो मेरी कज़िन भी आई थी और क्या माल लग रही थी ब्लॅक ड्रेस मे और खुले बालों मे, मेरा लॅंड तो वही पर हरकत मे आ गया पर मैं कुछ नही कर सकता था और हमारा गाओं वाला घर दो फ्लोर का है, हमारा फंक्षन ख़तम हो गया और हमारे गाओं वाले चाचा यूएस से है तो दूसरे दिन सब घर जाने के लिए तैयार हो गये, मेरी कज़िन वाहा पर रुकने वाली थी वो मुझे बाद मे ही पता चला तो मैं भी बहाना करके रुक गया, गाओं वाले घर मे चाची भैया भाभी और उनका दो साल का लड़का ही रहते है और दोपहर को सब चले गये, फिर रतको डिन्नर के बाद सबने भैया के मॅरेज की सीडी देखने का तय किया और कंप्यूटर लास्ट रूम मे था.

बीच मे एक रूम और था तो मैं फ्रंट रूम मे आ गया बेड पर क्योकि मैने सीडी देखी हुई थी और मैं सॉंग सुन रहा था मोबाइल पर और थका हुआ था तो मुझे नींद आ गयी, सब लास्ट वाले रूम मे कंप्यूटर मे सीडी देख रहे थे और थोड़ी देर बाद मुझे मेरे मूह पे किसी की साँस का एहेसस हुआ तो मैने धीरे से आँखे खोली, तो मेरी कज़िन मेरे हेडफोन लेके सॉंग सुन रही थी और मेरे तरफ घूर के देख रही थी तो मुझे उसका इंटेन्षन ग़लत लगा, मैने पूछा क्या हुआ तो उसने बताया की मैं सॉंग सुन रही हूँ मगर दोस्तो उसकी आँखो मे एक प्यास थी, फिर मैने भी उसे देर ना करते हुए हग कर लिया और स्मूच करने लगा तो उसने हल्का सा विरोध किया पर मैने उसको छोड़ा नही, मैं उसके बूब्स पर हाथ रख के दबाने लगा पर उस दिन मेरा लक खराब था अंदर सीडी ख़तम हो चुकी थी तो सब सोने के लिए बाहर आने वाले थे, उसने मुजको रुकने के लिए बोला क्योकि वो डर रही थी.

और मुझे तो यकीन ही नही था की जिसके बारे मे सोच कर मैं पागल हुआ जा रहा था उसको भी लॅंड की प्यास थी, फिर सब सोने के लिए जा रहे थे छत पर क्योकि गर्मियों के दिन थे और हमने नीचे बेड लगा रखे थे और मैं बिल्कुल उसके साइड मे सो गया और सबके सोने का मैं इंतेज़ार करने लगा, सब सो गये तो बाद मे मैने धीरे से उसके पास जाकर लीप किस करने लगा, तो वो जाग गयी और मुझसे दूर जाने की कोशिश करने लगी पर तुरंत मैने अपना हाथ उसके ड्रेस के टॉप मे डालने लगा और वो मेरा हाथ हटाने की कोशिश कर रही थी, मगर मैने अपना काम जारी रखा और मैने उसकी सलवार का नाडा खोलने का ट्राइ करने लगा तो वो गुस्से मे मुझसे दूर हो गयी और पूरी रात टच भी करने नही दिया, मैने सोचा क्या हुआ इसे पर कुछ पता नही चला तो मैं भी सो गया, मैं दूसरे दिन उसके जागने से पहले अपने घर आने के लिए निकल गया और फिर एक महीने तक ना उसको देखा ना कोई बात हुई और हम सब कज़िन्स ने नवरात्रि के बाद ट्रिप पर जाने का प्रोग्राम बनाया.

हमने माउंट अबू तय किया और हम सभी कज़िन्स यानी मेरे बड़े चाचा का लड़का और भाभी मंजले चाचा की लड़की और उसका भाई और मैं और मेरी बेहन 2 गाड़ी लेके वाहा चल निकले, विधि और मेरी बहन मेरी गाड़ी मे थे और बाकी सब दूसरी मे थे तो मैने रास्ते मे विधि से बात तक नही की और वो बस मुझे घुरे जा रही थी, हम शाम को 6 बजे वाहा पहुँचे और हमारा वाहा 2 दिन रुकने का प्रोग्राम था तो हमने 3 कमरे बुक किए, एक मे विधि और मेरी सिस्टर दूसरे मे मैं और मेरा कज़िन और तीसरे कमरे मे बड़े कज़िन की फॅमिली और सबने साथ मे डिन्नर किया और थोड़ी गप्पे लगा के सोने के लिए चले गये, सुबह वाहा पर ठंड थी तो विधि को हल्का सा बुखार था तो बड़े कज़िन ने कहा की मैं विधि को नीचे आबुर्आद ले जाउ और उसकी दावायं ले अओ और बाकी सब लोग उसकी गाड़ी मे सिर्फ़ गुरु शिखर जाके आएँगे, तो मैने बोला ठीक है और मैं विधि को लेके निकल गया ठंड ज़्यादा होने के कारण वो कांप रही थी.

और अबू रोड मेरा एक दोस्त जॉब करता है और एक रूम लेके वाहा ही रहता है, तो मैने वाहा पहुँच के उसको कॉंटॅक्ट किया और वाहा के कोई आछे डॉक्टर के बारे मे पूछा तो उसने कहा की 11 बजे एक डॉक्टर आता है, तब 9 बजे थे तो करे क्या तो वो हमे उसके रूम पर ले गया और कहा की हम वही पर रहे 11 बजे तक और वो जॉब पर जाने के लिए गया और चाबी नेबर को देने के लिए बोल गया, मैने डोर बंद कर दिया और विधि मुझे घुरे जा रही थी और उसने मेरा हाथ पकड़ा और सॉरी कहा तो मैने पूछा किस लिए, तो उसने कहा की गाओं मे जो हुआ इस लिए तो मैने कहा तुमने मुझे क्यू टच करने नही दिया, तो उसने कहा की मैं टाइम मे थी और बाकी सब लोग वाहा थे तो फिर मैने भी टाइम ना गवाते हुए उसको किस करने लगा और वो मेरा साथ दे रही थी, मैने उसको पल मे ही नंगा कर दिया और खुद भी हो गया और मैं उसके बूब्स का फॅन था तो 20 मिनट तक उसके बूब्स चूस्ता रहा, वो बुखार के कारण गरम तो थी ही पर और गरम होने लगी.

और उसको पसीने आने लगे और उसका वो फर्स्ट टाइम था तो वो डर रही थी, मैने उसको समझा के उसकी चुत जो क्लीन शेव्ड थी उसमे अपनी उंगली डालने लगा तो वो बहोत ही एग्ज़ाइटेड हो गयी थी तो मैने अपना लॅंड निशाने पर रख के हल्का सा धक्का मारा, तो वो जोरसे चीख उठी और मैने उसको किस करना चालू कर दिया फिर मैने थोड़ा और ज़ोर लगा के अपना पूरा लॅंड अंदर डाल दिया और वो पागल हो रही थी और मुझे मार रही थी और नाख़ून घुसा रही थी, मैने धीरे-धीरे अपना काम चालू रखा तो वो संभालने लगी और थोड़ी देर मे वो मेरा साथ देने लगी, 10 मिनट बाद मैं झड़ने वाला था तो मैने उसकी चुत मे ही माल छोड़ दिया और 11 बजे तक 3 राउंड हो गये, उसका बुखार कही गायब ही हो गया था तो भी हमने दवाई ली और आई पिल भी ली और हम वापस उपर पर्वत पर आ गये, बाकी सब तो ठीक थे पर भाभी ने विधि की हालत देख कर उनका बिहेवियर चेंज कर लिया था और आगे क्या हुआ वो मैं आपको बादमे बतौँगा.

अगर मेरी स्टोरी अछी लगी हो तो प्लीज़ मुझे मैल ज़रूर करना और अगर कोई आंटी और भाभी की इछा हो तो मुझे बताईएएगा प्लीज़ रेस्पॉंड मी मेरी मैल आईडी है “[email protected]” और मैं फोन सेक्स मे भी इंटेरेस्ट रखता हूँ तो मेरा कॉंटॅक्ट भी यही से ही होगा तो प्लीज़ रिप्लाइ मी और सब कुछ सीक्रेट रहेगा. कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखे, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सके – डीके