चुदाई का भूत

नमस्कार मित्रों आज मै आपके सामने अपनी एक कहानी लेकर आई हूं। सबसे पहले मै आपको अपना परिचय दे देती हूं। मेरा नाम आयशा है, मै दिल्ली की रहनेवाली हूं। मेरी उम्र अभी २७ साल है, मै एक शादीशुदा औरत हूं। अब तक मुझे कोई बच्चा नही है। इस कहानी में आप पढिए, कि कैसे एक बार चुत चुदाई होने के बाद चुत की आग बढ जाती है, और उसे बुझाने के लिए कोई भी हद पार कर सकता है। यह कहानी तब की है जब मेरी नई नई शादी हुई थी।

कहानी शुरू करने से पहले आपको मै कुछ अपने बारे में बता देती हूं। मेरा रंग गोरा है, लेकिन फिगर उतना अच्छा नही है। थोडी मोटी होने के कारण मेरा कभी कोई बॉयफ्रेंड नही बना, तो शादी के बाद ही मेरे पती ने मेरे चुत की झिल्ली फाड दी। मेरी सुहागरात तक मै अनचुदी थी, सुहागरात में ही कली से फूल बन गई। मेरे सुहागरात की कहानी मै आपको फिर कभी बताऊंगी, आज सुहागरात के बाद जो हुआ उसकी कहानी बताने जा रही हूं।
सुहागरात में मेरे पती ने मुझे जमकर चोदा, अगले दिन मुझसे ठीक से चल भी नही जा रहा था। और मेरे देवर और देवरानी मिलकर मेरी टांग खींच रहे थे। मै भी उनके हंसी मजाक को यूंही सुनकर भूल जाती थी। लेकिन सुहागरात में चुदवाने के बाद तो मेरा मन बहक सा गया था, मुझे अब लगने लगा था कि, हर पल मुझे कोई चोदता रहे। मेरी चुत में अपना मूसल सा लंड डालकर पडा रहे। लेकिन यह सब दिन में तो मुमकिन नही था, तो मै अपने मन को किसी तरह समझाकर रात होने का इंतजार करने लगी थी। पहले ही दिन मेरे पती ने मुझसे अपनी पसंद नापसंद सब पूछ लिया था। लेकिन जैसे कि मैने आपको बताया कि, मैने कभी शादी से पहले सेक्स नही किया था, तो सेक्स के बारे में मेरी पसंद नापसंद मैने उनको अब तक नही बताई थी।
दूसरे दिन भी रात में कमरे में जाते ही मेरे पती ने मुझे कसकर अपनी बाहों में ले लिया, और उठाकर बिस्तर पर पटक दिया। आज उनका अंदाज कुछ अलग था, मेरे पूछने पर उन्होंने मुझे बताया कि, सेक्स के बारे में मेरी पसंद नापसंद जानने के लिए वह मेरे साथ सब तरह से सेक्स करेंगे। और फिर मुझसे मेरी इस बारे में क्या रे बनती है, वह पूछेंगे। मुझे भी उनका यह तरीका अच्छा लगा। इसमें एक तो मुझे हर तरीके से सेक्स करने को मिल रहा था, ऊपर से पसंद नही आएगा, तो मै उनको सीधे मना भी कर सकती थी। तो दोनों तरफ से मुझे ही मजा मिलना तय था, इसलिए मैने भी मना नही किया।
शादी के बाद लगभग एक-दो महीने तक सब अच्छा चल रहा था, तब तक मैने अपने पतिदेव को अपनी पसंद नापसंद सब बता भी दिया था। लेकिन अब धीरे धीरे मेरे पतिदेव की सेक्स के प्रति रुचि कम होने लगी थी। लेकिन उन्होंने मुझे तो सेक्स के लिए ऐसा बना दिया था कि, अगर एक रात भी मेरी अच्छे से चुदाई ना हुई, तो मै ढंग से सो नही पाती थी। अब तो रोज पती कमरे में आते ही सीधे कपडे उतार देते थे, और मुझ पर चढकर अपना लंड मेरी चुत में डाल देते थे। अब ना तो फोरप्ले करते थे, और ना ही कामुक बातें। तो इस वजह से मेरी चुत अब प्यासी ही रहने लगी थी।
एक दिन तो मै रात में सो नही पा रही थी, और रोज की तरह पतिदेव ने आकर मेरी चुत में लंड घुसाया और अपना पानी निकालकर सो गए। रात में मुझे नींद नही आ रही थी, चुत में आग लगी हुई थी। मुझे क्या करना चाहिए, कुछ समझ नही आ रहा था, बस मेरे सामने एक लंड आ रहा था। तो मैने अपने सोए हुए पतिदेव की लुंगी उतारकर साइड कर दी, और उनके लंड को अपने हाथ मे लेकर सहलाने लगी, ताकि जैसे ही वो सख्त हो, उसको मै अपनी चुत में डाल सकूं। मैने उनके लंड को अपने मुंह मे लेकर चूसना भी शुरू कर दिया, लेकिन तभी उनकी नींद खुली।
नींद खुलते ही मेरे पतिदेव ने मुझे मेरे बालों से पकडकर खींचते हुए बिस्तर पर लिटा दिया, और मेरे हाथ पैर बिस्तर से बांधने लगे। मै तो पहले ही नंगी हो चुकी थी, ताकी उनके उठते ही वो मुझे नंगी देखकर उत्तेजित हो जाए, और चोदने लगे। ऐसा उन्होंने मेरे साथ पहले भी सेक्स किया था, तो मुझे लगा कि वो भी मूड में आ चुके है, और अभी मुझे जमकर चोद देंगे। लेकिन तभी वो बोलने लगे कि, “बहुत खुजली है ना तेरी चुत में, रुक अभी तेरी चुत का भूत उतारता हूं।”
इतना कहकर उन्होंने मुझे बांध दिया और फिर अपना फोन निकालकर मेरी फोटो खींचने लगे थे। उनका यह रूप मैने पहले कभी नही देखा था, तो मै भी थोडा डर गई थी। फोटो खींचने के बाद, वो कमरे से बाहर कहीं जाने लगे। मै तो पूरा डर सी गई थी, मुझे समझ नही आ रहा था कि, मुझे क्या करना चाहिए।

Pages: 1 2