दीदी को हिला डाला

फिर मैं बोला देख तेरी मा मेरी दीदी है और हम भाई बेहन बचपन से ही खेलते है और आज जब हम दोनोका कोई नही है तो हम दोनो उसिदिन को याद करने के लिए सोते है और खेलते है तो बाबू बोला दोनो नही तीनो मैं भी हूँ ना फिर बोला सॉरी सॉरी चारों मा की पेट मे भी तो एक है मैं बोला चल शैतान बोहट बदमाश हो गया यह बात किसिको मत बताना वो बोला नही बतौँगा पर मेरी मा का ध्यान रखना मुझे मेरे पापा का प्यार देना

थॅंक्स! कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखे, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सके – डीके

Pages: 1 2 3