एक कुंवारा, एक कुंवारी और चुदाई का मजा

दोस्तो, मैं आपका अपना दोस्त और अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज का पुराना लेखक अरुण… आपने मेरी पिछली कहानी
मेरी प्यारी मैडम संग चुदाई की मस्ती
जो पांच भागों में प्रकाशित हुई थी, तो जरूर पढ़ी होगी. अब तक मेरी बीस से ज्यादा कहानियाँ अन्तर्वासना पर प्रकाशित हो चुकी हैं.

अब एक बार फिर से आप सभी के लिए एक और नई कहानी लेकर आया हूँ. यह कहानी मेरी ही किसी पाठिका ने लिखने के लिए मुझको उत्साहित किया. इतने दिनों से आप लोगों से दूर रहने के लिए सॉरी.. मुझको माफ करना. अभी तक मैं बहुत ज्यादा बिज़ी चल रहा था, लेकिन आप लोगों के प्यार ने मुझको फिर से मजबूर कर ही दिया. मैं आज फिर एक मसालेदार चुदाई की कहानी आपके सामने ला रहा हू.

तो तैयार हो जाइए लड़के अपनी पैन्ट में हाथ डालने के लिए और लड़कियां भाभिया, आंटियाँ अपनी सलवार, लैग्गी और जीन्स नाईटी चड्डी, पेंटी आदि में हाथ डालकर चूत को सहलाने के लिए.

इस बार की कहानी अन्नू (बदला हुआ नाम) जी की ज़ुबानी.

हैलो दोस्तो मेरा नाम अन्नू है. मैं आपके सामने अपनी कुछ आपबीती बताने जा रही हूँ, जो बिल्कुल सच्ची है. ये बात उन दिनों की है, जब मेरा नया नया मतलब ताज़ा ताज़ा ब्रेकअप हुआ था. उस टाइम में 12 वीं क्लास में थी. लेकिन उस ब्रेकअप को मैंने कभी दिल पर नहीं लिया क्योंकि शायद मुझको, उससे भी ज़्यादा चाहने वाला कोई मिल गया था. उस प्यारे लड़के का नाम राहुल था.

पहले पहले हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त थे. मेरी हर एक बात के लेकर वो मेरी बहुत ज़्यादा केयर करता था. मेरे घर पर भी बड़े अच्छी तरह से उसका आना जाना था और राहुल मॉम डैड को भी काफ़ी अच्छा लगता था. इस वजह से मुझे उससे प्यार हो गया था.

एक बार कुछ यूं हुआ कि उस दिन मेरा बर्थ डे था. राहुल ने मुझको पूरी रात फोन पर कइ बार अपनी बधाई देने की कोशिश की. मगर मैं उसके फोन को भी उठा सकी. फिर 3 दिन बाद हम स्कूल के दोस्त एक पार्टी में मिले, जिसमें घर जाने के लिए मुझको बहुत देर हो गई थी, तो मुझको राहुल घर तक छोड़ने आया था.

घर पर नीचे पार्किंग में पहुँच कर राहुल ने मुझसे कहा कि अन्नू मुझको तुम्हारे बर्थडे वाले दिन तुम पर बहुत गुस्सा आ रहा था क्योंकि तुमने पूरी रात मेरा फोन नहीं उठाया था.
मैंने राहुल से इस बात के लिए सॉरी बोला मगर राहुल ने मुझसे कहा कि नहीं इस बात की तुमको पेनाल्टी देनी होगी.
मैंने पूछा कि बोलो क्या करना है?
तो राहुल ने बोला कि तुम्हें मुझको किस करनी होगी.

उसकी किस वाली बात से मैं तो बस सोच में पड़ गई थी. इतने राहुल ने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए और बहुत ही अच्छी तरह से बड़े प्यार से उनको चूसा. हालांकि मुझको मजा नहीं आ रहा था. इसलिए मैं उसका साथ नहीं दे रही थी.

लेकिन जैसे ही राहुल के होंठ मेरे होंठों से अलग हुए, मैं राहुल को धक्के देकर अपने घर की तरफ़ भाग गई.

अब राहुल का ये किस करने का किस्सा रोज की बात बन चुका था. अब तो मैं भी किस करने में राहुल का पूरा साथ दिया करती थी. फिर 2-3 महीने तक ये सब ऐसे ही चला.. मगर हम दोनों में से किसी ने भी आपस में ‘आई लव यू..’ नहीं बोला था.

कुछ महीनों के बाद 12 वीं का रिज़ल्ट मेरे हाथ में आया. उसमें मेरे नम्बर कुछ कम आए थे. तो मैंने उस दिन मरने का सोच लिया था और घर की छत पर कूद कर मरने के लिए चली गई थी.

घर वालों ने राहुल को फोन करके बस कुछ बता दिया था, जिससे टाइम पर आकर राहुल ने मुझको नीचे उतारा और मुझको बहुत सारे चुम्बनों से नहला दिया. मगर मेरा रोना बंद नहीं हो रहा था.

उसने मेरे घर पर कहा- आंटी, इसको मैं अपने घर लेकर जा रहा हूँ.. और इसके नॉर्मल होने पर छोड़ भी जाऊंगा.

घर से ओके मिलते ही उसने मुझे अपनी गाड़ी में लाकर बिठा दिया और पूरे रास्ते मुझको कभी किस.. कभी यूं ही जांघ को सहला रहा था.

कुछ देर बाद उसके किस करने से मेरा रोना बंद हो चुका था और मैं भी कुछ गर्म सी हो गई थी. कुछ ही देर में हम राहुल के घर पहुँच गए. घर पहुँच कर मैंने देखा कि राहुल के घर में कोई भी नहीं था. हम दोनों ही अकेले थे. राहुल ने मुझको गोद में उठाया और सोफे पर लिटा कर किस करने लगा. एक तो मैं पहले ही गर्म थी ऊपर से उसके किस करने से मुझे और भी ज्यादा गर्म कर दिया. मैं अब कुछ इतनी गर्म हो चुकी थी कि मैंने राहुल को नीचे गिराया और खुद उसके ऊपर आकर अपनी कमर को हिला हिला कर राहुल को किस करने लगी.

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *