फन और मस्ती इन हैदराबाद

हाय फ्रेंड्स आई एम राज फ्रॉम हैद्राबाद बॅक वित ए न्यू स्टोरी माय फर्स्ट स्टोरी वाज़ भाभी का प्यार मेरा लंड आप ये स्टोरी ज़रूर पढ़िए एंड राइट मी @( आपका ज़्यादा टाइम नही वेस्ट करते हुए मैं स्टोरी पर आता हूँ एस यू ऑल नो मैं हैद्राबाद मे ही रहता हूँ बात अभी 2 वीक्स पहले की है मुझे एक मैल आया फ्रॉम एन अननोन पर्सन जोकि फीमेल उनका नाम सविता तो मैने उन्हे रिप्लाइ किया ही..

उन्होने फिर मुझसे कहा की आप क्या करते हो कहा रहते हो वागेहरा वागेहरा..देन आई आस्क्ड . फॉर . नंबर उन्होने मना कर दिया और नही दिया फिर 2 डेज़ तक कोई रेस्पॉन्स नही आया मैने उनको अपना नंबर दे दिया था आफ्टर 2 डेज़ मुझे एक मेसेज आया वॉट’स अप पर फ्रॉम अननोन नंबर मैने रिप्लाइ दे दिया तो उन्होने कहा उनका नाम सविता है मैं बोहोत खुश हुआ और उनसे बाते करने लगा मैने उनसे पूछा क्या आप सिंगल है उन्होने कहा नही वो मॅरीड है मैने कहा ओके तब फिर मुझे कोई रिप्लाइ नही मिली मैने उन्हे काफ़ी मेसेज भेजे और कॉल्स भी किया बट नो रेस्पॉन्स फिर 2 दीनो बाद उनका मेसेज आया की सॉरी मैं थोड़ी सेंटी हो गयी थी मुझे मेरे पति की याद आ गयी थी वो फॉरेन मे रहते है और 1 साल मे सिर्फ़ एक ही बार यहा आते है मेरे मन मे तो लड्डू फूटा मैने सोचा ये अकेली है इसे ज़रूर प्यार की ज़रूरत है तो मैने उन्हे कॉल किया फिर हमारी बाते होने लगी और मैं उन्हे समझने लगा तो उन्होने कहा आप कितना ख़याल रखते हो मेरे..

फिर क्या था रोज़ घंटो तक उनसे बातें शुरू हो गयी और मैं उन्हे अडल्ट मेसेज भी भेजता था फिर उन्होने मुझे पूछा की तुम्हारी कोई जीएफ़ है मैने कहा नही ब्रेक अप हो गया तो उन्होने कहा की तुम्हारा कभी मन नही करता मैं समझ गया मैने कहा की मन तो करता है पर हाथ से काम चला लेता हूँ..वो हासणे लगी और कहने लगी की तुम बोहोत शरारती हो मैने कहा आंटी आपके हज़्बेंड तो फॉरेन मे है

फिर आपका कभी मन नही करता उन्होने कहा मन तो बोहोत करता है पर क्या करू मैं सिटी मे नयी हूँ किसी पर ट्रस्ट भी नही कर सकती मैने कहा आंटी आपको जो चाहिए वो मेरे पास है और मुझे जो चाहिए वो आपके पास है तो क्यू ना हम दोनो एक दूसरे की मदत करे उन्होने कुछ नही कहा मैं समझ गया इसका मतलब हान है मैने कहा आंटी आई लव यू वो शर्मा गयी और फोन काट दिया फिर थोड़ी देर बाद मेसेज आया की आई लव यू टू फिर मैने उन्हे नेक्स्ट दिन डेट पर बुलाया तो वो आई गुयज़ ट्रस्ट मी वो बिल्कुल आंटी नही लग रही थी मेरा तो मूह खुला का खुला रह गया

जब मैने उन्हे देखा मैने सिर्फ़ उनकी पिक्स देखी थी जब मैने उन्हे देखा तो बस मेरा लंड उन्हे 21 तोपो की सलामी दे रहा था फिर हमने डिन्नर किया और उन्होने मुझे अपने घर आने के लिए इन्वाइट किया मैं मान गया और रास्ते मे मेडिकल से मैने कॉंडम पॅकेट खरीदी और फिर हम जब इनके घर गये तो आंटी अंदर रूम मे चेंज करने गयी मैं सोफे पर बैठ कर टीवी देख रहा था

आंटी जैसे ही बाहर आई मैं तो पागल ही हो गया वो पिंक कलर की ट्रांसपेरेंट नाइटी मे थी इतनी हसीन औरत मैने आज तक नही देखी मैने उन्हे टाइट्ली हग किया और उन्हे किस करना शुरू किया मैं उनके लिप्स पर अपने लिप्स रख कर किस कर रहा था किस क्या मैं तो पागलो की तरह उन्हे चूस रहा था 15 मिनट तक मैने उन्हे किस किया फिर मेरे अंदर इतना जोश आया मैने उनकी नाइटी एक झटके मे निकाल दी उसके अंदर आंटी के बड़े बड़े मोटे बूब्स शायद 40 के होंगे वो उनकी रेड ब्रा मे फूले इतने आछे लग रहे थे की मन कर रहा था की ज़िंदगी भर इन्हे चूसू चाटू बस ज़िंदगी भर चोदता ही रहूं फिर मैने उनके बूब्स को ब्रा के उपर से दबाने शुरू किया और उन्हे किस करने लगा फिर मैं उनके बूब्स को उपर से ही किस कर रहा था फिर मैने उनकी ब्रा निकाल दी और उनके 40 के बूब्स चूस्ता रहा मैं उस वक़्त पागल ही हो गया था

फिर मैं थोड़ा नीचे आया और उनके पेट पर किस्सिंग शुरू की आए हाए वो कमर तो मतलब मैं बता नही सकता क्या नशा था आंटी के अंदर मैं उनके नेवेल पर किस कर रहा था और वो पागल की तरह मेरा सिर अपने पेट मे दबाए जा रही थी और मेरे बाल अपने हातों से खींच रही थी फिर मैं और थोड़ी नीचे आ गया और उनकी जाँघो पर किस्सिंग शुरू की और किस किए जा रहा था फिर मैने उनकी पैंट के उपर से उनकी चुत को किस कर रहा था जो की गीली हो चुकी वो पागलो की तरह आवाज़ें निकाल रही थी आआहह………….हर्दर्र्र्र्र्र्र्ररर,…………उफफफफफफफफ्फ़.फफफफफफफफफ्फ़…आहह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह………..उम्म्म्ममममममममम…..और ज़ोर से चूसो राज

Pages: 1 2