गर्लफ्रैंड को दोस्त के खेत पर दबाकर चोदा

दोस्तो, जो लोग मुझे नहीं जानते हैं उनको मैं अपने बारे में बता दूँ कि मेरा नाम राज आर्य है, मैं मध्यप्रदेश के मन्दसौर जिले का रहने वाला हूँ. मैं एकदम फिट और आकर्षक बदन का मालिक हूँ क्योंकि मैं रोज अपने घर पर ही कसरत करता हूँ और आकर्षक, हैंडसम बॉय हूँ.

अब बात करते हैं नयी कहानी की!
दोस्तो, यह कहानी अभी एक साल पुरानी है. मेरी ज्योति नाम की गर्लफ्रैंड थी, वो बहुत ही खूबसूरत और क्यूट थी, उसका वक्ष 28″ का था, बाद में मैंने 32 तक कर दिया था.
यों तो हमने कई बार सेक्स किया था, लेकिन इस बार का कुछ ऐसा अलग हुआ जो मैंने भी सोचा नहीं था.

मैंने ज्योति को कॉल किया, उसने कॉल उठाया और हमने काफी बात की. फिर मैंने कहा- बहुत दिन हो गए हैं रोमांस किये!
तो वो बोली- तुम्हारा क्या प्लान है जानू?
उसको सब पता रहता है, वह जानती थी कि मैं पहले ही प्लानिंग बना लेता था. उसने बोला- ठीक है, कल चलते हैं.
उसने ऐसा बोला और मेरा मन खुश हो गया और आपको तो पता ही है कि लड़की सेक्स के लिए हां कर दे तो लड़कों की खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहता है।

उसके पांच मिनट बाद मैंने मेरे दोस्त को कॉल किया, उसका खेत पर अच्छा सा घर बना हुआ है जहाँ वो भी अपनी गर्लफ्रेंड की चुदाई करता है, तो मैंने कहा- भाई, मुझे खेत वाले घर की चाबी चाहिए.
खेत वाले कमरे के अंदर मस्त बेड लगा हुआ है और गद्देदार गद्दा लगा हुआ है जिस पर रोमांस करने का एक अलग ही मजा आता है।

वो समझ गया कि किस लिए चाबी चाहिए, वो बोला- ठीक है ले जा!
क्योंकि हम बहुत अच्छे दोस्त हैं, दोस्त तो क्या भाई हैं।

मैं चाबी ले आया और अगली सुबह का इंतजार करने लगा. जैसे तैसे रात हुई और सुबह भी हो ही गई, मैंने ज्योति को कॉल किया उसने बोला- 11 बजे के बाद चलेंगे.
क्योंकि उसकी सुबह की कोचिंग क्लास रहती थी.
तो मैंने बोला- ठीक है!

मैं नहाया, खाना खाया और बाइक निकाल कर घर से निकल गया. 11 बजे मैंने ज्योति को कोचिंग क्लास से बाइक पर बैठाया और खेत की तरफ निकल गए. वहां से खेत की दूरी 40 किलोमीटर है और उस समय बरसात का मौसम बस शुरु होने वाला ही था.

उसी दिन लगभग 15 किलोमीटर आने के बाद बारिश शुरू हो गयी अचानक से हल्की सी … लेकिन हम दोनों ने ध्यान नहीं दिया क्योंकि हम तो बाइक पर बातो में मगन थे, वो मेरे पीछे चिपक कर बैठी हुई थी और मेरे सीने पर हाथ फेर रही थी.
बारिश की वजह से मेरा शर्ट गीला हो गया था तो बॉडी से चिपक गया था और वो और ज्यादा मजे से हाथ से सहला रही थी और मेरे गालों को चूम रही थी.

मैं बोला- सब कुछ यहीं करोगी क्या बाईक पर?
तो वह हँस पड़ी और बोली- मेरी जान बाईक पर किस करने का मजा ही अलग आ रहा है.
और सही भी था … मुझे भी बहुत ज्यादा मजा आ रहा था जब वो अपने गुलाबी होंठों से मेरे गाल पर चूम रही थी।

दोस्तो, आप भी कभी अपने बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रैंड या पति के साथ बाइक पर जायें तो ऐसा करके देखना … आपको बहुत मजा आएगा।

खैर थोड़ी देर बाद हम खेत वाले घर पर पहुंच गए और मैंने बाईक को साइड में लगाया और चाबी निकाल कर कमरे का दरवाजा खोला, दोनों अंदर आये, मैंने दरवाजा लॉक कर दिया.

मैंने जैसे ही दरवाजा बंद किया पीछे से ज्योति ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया. मैंने कहा- क्या बात है मेरी रानी … आज बहुत रोमांटिक मूड में है?
तो वह बोली- आज इस बारिश ने मूड रोमांटिक कर दिया!
मैंने कहा- अच्छा ऐसी बात है तो आओ हम जन्नत में चलते हैं.

वो मुस्कुराई और वही खड़े खड़े मेरे होंठ चूमने लग गई. मेरा भी गजब का मूड बन गया था तो मैंने उसको नीचे से उठाया और अपनी कमर पर उसके पैरों को लपेट लिया. वह मेरी कमर पर टिक गई और मैंने उसे कस कर अपने सीने से लगा दिया और दोनों एक दूसरे के होंठों का रस पीने लगे.

लेकिन आज ज्योति कुछ अलग ही तरह से मेरे होंटों को चूम रही थी क्योंकि हर बार तो वह सामान्य ही चूमती थी लेकिन आज उसका मूड बड़ा अलग था. मैं समझ गया कि आज यह बहुत ज्यादा गजब के मूड़ में है तो मैंने अपने आप को उसके हवाले कर दिया और उसके मुलायम होंटों को चूमने लगा. हम दोनों एक दूसरे को कस कर चूम रहे थे. आज ज्योति मुझे टक्कर दे रही थी … दोनों एक दूसरे से कम नहीं पड़ रहे थे.

लेकिन आज उस कमीनी ने मेरे होंठों पर काट दिया जोर से और मेरे होंठों से हल्का सा खून भी आने लगा. मुझे लगा भी कि खून आ गया है लेकिन वो तो मेरे होंटों को और जोर से चूमने लगी और मेरे कटे हुए होंठ को मस्त जोर जोर से चूसती रही और खून बंद कर दिया.
करीब 20 मिनट बाद उसने मुझे छोड़ दिया और हाँफने लगी.

Pages: 1 2 3 4