हथियार हो तो ऐसा

antarvasna, hindi sex story मेरी शादी को 5 वर्ष हो चुके हैं और मेरा एक छोटा बच्चा भी है, मैं पहले स्कूल में पढ़ाती थी लेकिन जब से मेरा बच्चा हुआ है तब से मैं घर पर ही रहती हूं। हमारे पड़ोस में एक लड़का रहने के लिए आया वह अक्सर मुझे नई-नई लड़कियों के साथ दिखता था इसलिए मेरे दिमाग में उसको लेकर यह खयाल आ गया कि यह तो बिल्कुल ही खराब लड़का है, मुझे जब भी वह रास्ते में मिलता तो उसके साथ हमेशा नई नई लड़कियां रहती मुझे यह बात बिल्कुल पसंद नहीं आती थी इससे हमारी कॉलोनी का माहौल भी खराब हो रहा था और मैं नहीं चाहती थी कि वह लड़का अब हमारी कॉलोनी में रहे, मैंने इसके लिए अपने पति से भी बात की और कहा आप पड़ोस के भाई साहब से क्यो नही बात कर लेते, वह उस लड़के को घर खाली करने के लिए कह देंगे, मेरे पति कहने लगे हमें दूसरों के परिवार से क्या लेना देना उन्होंने उस लड़के को अपने घर पर किराए के लिए रखा है वह अपने घर में कुछ भी करें, मैंने अपने पति से कहा लेकिन उसके रहने से हमारी कॉलोनी का माहौल भी तो खराब हो रहा है, वह कहने लगे तुम इन चक्करो में मत पड़ो तुम सिर्फ अपने परिवार का ध्यान रखो यह कहते हुए मेरे पति भी चले गए लेकिन मेरे दिमाग में सिर्फ उस लड़के को घर खाली कराने की बात चल रही थी मैंने यह पूरी तरीके से ठान भी लिया था, इसी के चलते मैंने अपनी पड़ोस में रहने वाली मेरी एक सहेली से उस लड़के के बारे में कहा वह कहने लगी इस लड़के की वजह से तो हमारी कॉलोनी का पूरा माहौल खराब हो गया है।

मैंने अपनी सहेली से कहा मैंने इस बारे में अपने पति से भी बात की थी लेकिन उन्होंने मुझे कहा कि हमें उस से क्या लेना देना वह अपने घर में कुछ भी करें, मेरी सहेली मेरा पूरा साथ देने के लिए तैयार हो चुकी थी और हम दोनों ने अब उस लड़के को परेशान करने का बीड़ा उठा लिया। वह जब भी घर से बाहर निकालता तो हम दोनों उसके गेट के सामने खडे हो जाते और उसे बड़े घूर कर देखते, वह जब भी किसी लड़की को अपने साथ लेकर आता तो हम लोग बड़े ध्यान से उन लड़कियों को देखते इससे उसे बड़ा अनकंफरटेबल महसूस होने लगा था और एक दिन उसने तंग आकर मुझसे कहा भाभी जी आप ऐसा क्यों करती हैं? मैंने उससे कहा तुम्हारी वजह से हमारी कॉलोनी का माहौल खराब हो रहा है और हम लोग नहीं चाहते कि तुम यहां पर बिल्कुल भी इस प्रकार की कोई हरकत करो। वह कहने लगा ठीक है मैं आज के बाद कभी किसी लड़की को यहां नहीं लाऊंगा तब तो आपको कोई परेशानी नहीं है, मैंने उसे कहा अगर तुम ऐसा करते हो तो हमें कोई भी परेशानी नहीं है।

उसने मुझसे कहा मैं आज के बाद किसी भी लड़की को यहां लेकर नहीं आऊंगा और यह कहते हुए वह चला गया, उस दिन उसका चेहरा उतरा हुआ था मैंने जब यह बात अपनी सहेली को बताई तो हम लोग बड़े जोर से हंसने लगे और हम बहुत खुश हुए। मेरी सहेली कहने लगी चलो हम दोनों ने अपना काम तो कर ही लिया और हम दोनों बहुत ही ज्यादा खुश थे, इस बात को काफी दिन हो चुके थे और एक दिन मेरी सहेली मेरे पास आई और कहने लगी शकुंतला मैं आजकल बहुत परेशान हो चुकी हूं, मैंने उसे कहा क्यों तुम्हारी परेशानी का क्या कारण है? तुम मुझे बताओ, वह कहने लगी मैं तुम्हें क्या बताऊं मेरे पति का अफेयर किसी और लड़की से चलने लगा है मैंने तो जब उनके जेब में मूवी की टिकट देखी तो तब मुझे इस बात का पता चला। मैंने अपनी सहेली से कहा तुम यह किस प्रकार की बात कर रही हो तुम्हारे पति तो एक बहुत ही अच्छे व्यक्ति हैं और उनकी तो सारे कॉलोनी वाले बहुत इज्जत करते हैं मुझे तो तुम्हारी बात पर यकीन ही नहीं हो रहा, वह कहने लगी तुम मेरी बात पर यकीन मत करो लेकिन यह बिल्कुल सच है और मैं तुम्हें सच बता रही हूं मेरे पति वाकई में किसी लड़की के साथ चक्कर चला रहे हैं, मुझे इस बात का बहुत बुरा लग रहा है, मैंने उससे कहा तुम ऐसे ही अपने पति पर शक मत करो पहले तुम इस बात को पुख्ता कर लो कि क्या तुम्हारा शक सही है, कहीं इस वजह से तुम्हारे परिवार में कोई दिक्कत पैदा ना हो जाए, वह कहने लगी ठीक है मैं इस बारे में पता करने की कोशिश करती हूं लेकिन उसे इस बारे में कुछ पता नहीं चला, हम दोनों के पास कोई रास्ता नहीं था तभी मेरे दिमाग में पड़ोस के लड़के का ख्याल आया, एक दिन मैंने उससे बात की और कहां क्या तुम हमारी मदद कर सकते हो? मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी कि वह हमारी मदद करेगा उस दिन पहली बार मुझे उसका नाम पता चला उसका नाम प्रदीप है।

Pages: 1 2