शराब की शौकीन लड़की ने चूत का मजा दिया

हॉट गर्ल सेक्सी स्टोरी में पढ़ें कि हमारी सोसाइटी में एक परिवार आया और उनसे हमारी दोस्ती हुई. उस घर में एक लड़की कैसे मेरे लंड से चुदी? मजा लें!

दोस्तो, आप सब कैसे हैं.
मैं विकास राजस्थान के अजमेर शहर का रहने वाला हूं. मेरी स्नातक की पढ़ाई अजमेर शहर के ही कॉलेज से हुई है.
मेरी उम्र 22 साल है और मेरा कद 6 फुट 1 इंच है. गठीला शरीर है और लौड़ा 7 इंच लम्बा व 3 इंच मोटा हथियार जैसा काफी मजबूत है.

ये हॉट गर्ल सेक्सी स्टोरी तब की है, जब मैं अपने कालेज के अंतिम वर्ष में था.

हम लोग पहले किराए के मकान में रहते थे, फिर हमने एक खुद का फ्लैट ले लिया.

मेरी सेक्स कहानी इसी नए फ्लैट वाली सोसाइटी से शुरू होती है.
हम जब यहां रहने आए, तब हमारे ब्लॉक में 3/4 फ्लैट ही रजिस्टर्ड हुए थे मतलब यहां पूरा ब्लॉक खाली रहता था.

फिर हमारे पास ही एक आंटी जी और उनकी बेटी रहने के लिए आई.
उन आंटी जी की उम्र लगभग 45 साल की थी.
उनकी बेटी की उम्र लगभग 22 साल यानि वो मेरी हमउम्र ही थी.

उनकी बेटी की हाइट थोड़ी कम थी, तकरीबन 5 फीट ही रही होगी.

उनकी बेटी का नाम सोनू (बदला हुआ नाम) था. उसका फिगर 28-26-30 का था, ये मुझे उसको चोदने के बाद पता चला.

वो दोनों जब पहली बार यहां रहने आईं, तब उनकी जानपहचान का यहां कोई नहीं था.

दोपहर का समय था, मैं, मेरा बड़ा भाई और मेरी मौसी जी का लड़का सो रहे थे.
अचानक से दरवाजे पर घण्टी बजी.

वो दोनों गहरी नींद में सो रहे थे तो मैं दरवाजा खोलने गया.

मैंने देखा तो सामने एक लड़की खड़ी थी.

तो मैंने पूछा- हां बोलिए क्या काम है?
उसने बोला- आप यहीं रहते हो क्या?

पहले तो मुझके सवाल पर हंसी सी आई मगर मैं बोला- जी हां, मैं यहीं रहता हूँ. बोलिए क्या काम है?

तभी उसके पीछे पीछे उसकी मम्मी भी आ गईं.

वो थोड़ी उम्रदराज दिख रही थीं, तो मैंने उन्हें नमस्ते की.

वो आंटी जी बोलीं- भैया हम अभी यहां नए आए हैं. हमारे फ्लोर पर तो कोई रहता भी नहीं है. सब खाली खाली सुनसान लग रहा था, आपके घर का दरवाजे पर लॉक नहीं था, तो सोचा आपसे ही बात कर लूं.

उन्होंने मुझे अपना फ्लैट नंबर बताया.

मैंने कहा- जी आंटी जी, आपको कोई प्रॉब्लम नहीं होगी. आप बिल्कुल बेफिक्र रहिए.
उन्होंने हंस के जवाब दिया- जी भैया.

मैंने कहा- अन्दर आइए चाय पी लीजिए.
आंटी ने ना बोला और वो दोनों वहां से चली गईं.

उनके आने का अभिप्राय ये था कि वो अपने साथ बिल्डिंग में रहने वाले लोगों से मेल मुलाकात करने आई थीं.

कुछ दिन बीत गए.
इसी तरह वो दोनों अपने ऑफिस से आतीं और मैं उन्हें नमस्ते आंटी जी बोल कर आगे निकल जाता.

अब दो सप्ताह और निकल गए.

वैसे मैं आपको बता दूँ कि हमारी इस सोसाइटी में हम लोगों का दबदबा था, जिससे यहां के अब लोग हमें अच्छे से जानते थे.
हमने यह पर एक दो बार मामलों में अगुआई भी की थीं जिससे यहां के लोग हमें और अच्छे से जानने लगे थे.

एक दिन जब मैं और मेरी मौसी का लड़का बाहर शॉप पर कुछ सामान लेने जा रहे थे तो उन्हीं आंटी जी की बेटी हमारे सामने से निकली.
वो भी शायद दुकान से कुछ सामान लेकर जा रही थी.

मैंने उसकी तरफ थोड़ा सा देखा तो वो भी हल्की सी स्माइल देकर चली गई.

मुझे न जाने क्या हुआ कि मैं एकदम से उसके पीछे चला गया.
मेरे भाई ने पीछे से आवाज लगाई- अरे कहां जा रहा है?

मैंने उससे कहा- मैं बस 10 मिनट में आ रहा हूँ, आप यहीं रुको.

फिर मैंने उस लड़की को पीछे से आवाज लगाई- एक्सक्यूज मी!
वो एकदम से रुक गई और बोली- हां जी कहिए!

मैंने उसकी हाथ बढ़ा कर कहा- हाय मैं विकास.
उसने भी मुझसे हाथ मिलाकर कहा- हाय मैं सोनू.

हम दोनों ने 5-10 मिनट वहीं खड़े खड़े बात की.
फिर वो चली गई.

उसके दो दिन तक वो मुझे नहीं दिखी.

फिर एक दिन मैं नीचे से ऊपर अपने फ्लैट में जा रहा था तब वही ऊपर वाली लड़की कचरा डाल कर आ रही थी.

तब उसने खुद से बोला- हाय कैसे हो?
मैंने भी हंस कर जवाब दिया- जी मैं अच्छा हूँ, आप कैसी हैं?

उसने कहा- जी, मैं भी एकदम अच्छी हूँ.
उस दिन के बाद अक्सर हमारी मुलाकात ऐसे ही हाय हैलो से होती रही.

फिर एक दिन उस लड़की की मम्मी ने हमें आकर बोला- भैया अब से हम रात को थोड़ा लेट आएंगे तो आप हमारा दूध ले लेना.

दरअसल हमारा और उनका दूध एक ही लड़का देकर जाता था.

मैंने आंटी जी से कहा- जी आंटी जी, आप उन दूध वाले भैया को बोल देना कि वो आपका दूध हमारे घर दे दे.
आंटी ने हां कह दिया और चली गईं.

अब वो दूध वाले भैया रोज हमारे घर ही उनका दूध देते थे.
बाद में कभी आंटी जी, तो कभी उनकी लड़की सोनू दूध लेने मेरे घर आ जाती थीं.

इसी तरह हमारे संबंध एक दूसरे से अच्छे पड़ोसी की तरह बन गए थे.
यूं कहा जाए कि हमारा रिश्ता एक परिवार की तरह बन गया था.

एक दिन की बात है. वो लड़की हमेशा की तरह दूध लेने आई.
मैंने उसे दूध दिया.

वो जाने लगी तो मैंने पीछे से उसको आवाज लगाई.
उसने कहा- जी कहिए.
मैंने बोला- आप सोशल मीडिया पर हो क्या? मतलब फेसबुक इंस्टाग्राम चलाती हो क्या?

उसने बोला- जी हां, मैं दोनों यूज करती हूँ.
मैंने उसे बोला- आप मुझे अपनी आईडी दे सकती हैं.

उसने बोला- जी हां, आप अपना फोन दीजिए.
मैंने फोन दे दिया. उसने मेरा फोन लेकर अपनी फेसबुक आईडी से मुझे रिक्वेस्ट भेज दी.

फिर शाम को उसने मेरी रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली.

मैंने देखा तो उसे मैसेज किया- हाय कैसी हो?

उधर से वापिस उसका मैसेज आया- मैं तो एकदम अच्छी हूं, आप कैसे हो?
मैंने कहा- मैं भी मस्त हूँ.

फिर हमने थोड़ी देर बात की और एक दूसरे को गुड़ नाइट बोल कर सो गए.

इस तरह थोड़े दिन हमारी बातें फेसबुक पर चलती रहीं.

इसी बीच मैंने उससे पूछा कि आपका बॉयफ्रेंड है क्या?
उसका रिप्लाई नहीं आया.

मैंने काफी इंतजार किया पर वो ऑफलाइन हो गई.
तो मैंने सोचा वो शायद गुस्सा हो गई.

फिर अगले दिन दोपहर में उसका मैसेज आया कि सॉरी रात को मेरा फोन डिस्चार्ज हो गया था इसलिए मैं सो गई.
मैंने कहा- कोई बात नहीं.

फिर उसने स्माइल वाला इमोजी भेजा तो मैंने भी उसे हार्ट वाला इमोजी और स्माइल वाला इमोजी भेज दिया.

इसी तरह हम काफी देर तक बात की.

फिर उसने बोला- आप अभी फ्री हो क्या?
मैंने बोला- हां मैं एकदम फ्री हूँ.

उसने बोला- मैं वीडियो कॉल करूं क्या?
मैंने अपनी ख़ुशी दबाते हुए कहा- हां कर लो.

हम दोनों ने वीडियोकॉल पर काफी देर तक बात की.

इस तरह अब थोड़े दिन में ही हम दोनों बेस्टफ्रेंड बन गए थे.

उसकी संडे की छुट्टी रहती थी पर उसकी मम्मी उस दिन ऑफिस जाती थीं.

एक दिन उसकी संडे की छुट्टी थी और वो छत पर घूम रही थी.
उसने मुझे मैसेज किया- कहां हो?
मैंने कहा कि मैं घर पर ही हूँ.

तो बोली- ऊपर छत पर आ जाओ.
मैं भाग कर ऊपर गया.

हमने थोड़ी देर बातें की.

हमारी बात अभी चल ही रही थी कि मेरी मौसी का लड़का ऊपर आ गया.
पर वो हमारी तरफ ना आकर दूसरी वाली छत पर चला गया.

मगर उसे छत पर आया देख कर वो नीचे चली गई.
फिर मैं और मेरी मौसी का लड़का भी नीचे आ गए.

कुछ देर बाद उसका मैसेज आया- क्या आपको चाय पीनी है?
मैंने मजाक में बोल दिया- जी नहीं, मैं दारू पीता हूँ … चाय नहीं.

ये कह कर मैंने आंख मारने वाला इमोजी सेंड कर दिया.

उसने बोला- सच में आप दारू पीते हो या मजाक कर रहे हो?
मैंने उससे बोला- हां सच में मैं पीता हूँ.

वो बोली कि ठीक है, मेरे घर में ऊपर आ जाओ … मैं भी अकेली हूँ. मेरे पास दारू की बोतल भी है … आ जाओ.
उसके बोलते ही मैं उसके घर पहुंच गया.

दस्तक दी तो उसने गेट खोला.
मैं उसके घर के अन्दर चला गया.

फिर उसने बोला- मैं पैग बना कर लाती हूँ.
वो हम दोनों के लिए एक एक पैग बनाकर ले आई.

उसने मुझे एक ग्लास दिया और बोली- ये मेरा फेवरेट ड्रिंक है.

चियर्स बोल कर हम दोनों शुरू हो गए.
हम दोनों ने 2-2 पैग लगा लिए.

उसको हल्का हल्का सुरूर चढ़ने लगा था.

मैंने उससे फिर से पूछा- आपका कोई बॉयफ्रेंड है क्या?
वो बोली कि हां है.

मैंने मजाक में बोल दिया- अच्छा तो फिर कुछ किया या ऐसे ही.
वो बोली कि हां मैंने किस किया था.

मैंने बोला- अच्छा, कितनों को किया?
वो बोली कि ऐसे तो 8 लड़कों को किया है.

मैंने बोला कि अच्छा तो मेरा नंबर कब आएगा?
वो बोली- चिंता मत करो तुम्हारा भी आ जाएगा. इतनी भी क्या जल्दी है.

इस बात पर हम दोनों हंसने लगे.

फिर उसने बोला- एक एक पैग और लें क्या?
मैंने बोला- ठीक है बना लो.

फिर हमने एक पैग और पिया.
अब मुझे थोड़ा थोड़ा लगने लगा था कि मुझे चढ़ने लगी है.
पर उसे काफी चढ़ गई थी.

उसने सोफे पर पसरते हुए कहा- तुम मेरे थोड़े बाल ठीक कर दो.
मैंने उससे कहा- ओके तुम सामने मुँह करके बैठ जाओ.

वो अपनी गांड मेरी तरफ करके बैठ गई.
मैं उसके बाल सही करने लगा.

कुछ बाल उसके मम्मों पर चले गए थे, तो उसके बाल सही करते करते 2-3 बार मेरे हाथ उसके मम्मों को टच हो गए.
पर जब सोनू कुछ नहीं बोली तो इससे मेरी हिम्मत थोड़ी बढ़ गई थी.

मैंने उससे कहा- लो सोनू डार्लिंग तुम्हारे बाल मैंने सही कर दिए.
उसने मुझे थैंक्स कहा और एक छोटी सी किस मेरे गालों पर दे दी.

इस तरह बातें करते करते पता नहीं क्या हुआ कि मैंने भी उसे किस कर दी.
वो कुछ नहीं बोली.

फिर मैंने उसके होंठों पर किस कर दिया.
वो सकपका गई.

थोड़ी देर तक तो वो मुझसे छूटने की कोशिश करने लगी पर मैंने उसे नहीं छोड़ा तो एक मिनट बाद वो मेरा साथ देने लगी.
अब पूरे कमरे में हमारे चुम्बन करने की आवाज आ रही थी.

हम दोनों ने करीबन 15 मिनट तक ऐसे ही लिप किस का मजा लिया.

फिर उसने टाइम देखा तो 4 बज गए थे.
उसने बोला- अब तुम जाओ, मम्मी आने वाली हैं.
मैं वहां से चला गया.

शाम को उसका मैसेज आया- सॉरी मैंने नशे में कुछ ज्यादा ही कर दिया.
मैंने उससे बोला- कोई बात नहीं यार … लड़के लड़की के बीच ये नॉर्मल है.
ये कह कर मैंने एक स्माइल वाली इमोजी सेंड कर दी.

हमने कुछ देर ऐसे ही नॉर्मल बात की.
अब कभी कभी मैं उसे नॉनवेज जोक या चुटकुले भेज देता था.

ऐसे करते करते हम दोनों ने सेक्सी बातें करना शुरू कर दिया.

फिर अगले संडे को उसने मुझे मैसेज किया- आज फिर से दारू चलेगी क्या?
मैंने कहा- ठीक है. तुम पैग बनाओ … मैं थोड़ी देर में आ रहा हूँ.

ये कह कर मैंने हार्ट वाला इमोजी सेंड कर दिया.
मैं उसी टाइम पास के मेडिकल स्टोर पर गया और वहां से सेक्स की गोली लेकर कुछ देर बाद उसके घर आ गया.

मुझे पहले से पता था कि आज चाहे कुछ भी हो जाए, ये चुत चुदवा कर ही मानेगी.

मैं कंडोम लेकर नहीं गया था क्योंकि मुझे बिना कंडोम के चुत चोदने में बहुत मजा आता है.

मैंने उसके घर के सामने जाकर घण्टी बजाई.

उसने गेट खोलते ही मुझे अन्दर खींच कर दरवाजा बंद कर दिया.
शायद वो पहले से ही दारू लगा चुकी थी.

वो हम दोनों के लिए पैग ले आई.
अब हम दोनों ने बातों बातों में 3-3 पैग पी लिए.

तभी वो मुझसे एकदम से चिपक गई और मेरे होंठों को चूमने लगी.
मैंने भी उसे अपनी बांहों में भर लिया और उसके होंठों का रस चूसने लगा.
हम दोनों ने काफी देर तक लिप किस किया.

किस करते करते वह मेरे ऊपर आकर बैठ गई.
उसने मेरे होंठों को इतना जोर से काटा कि मेरे होंठों से खून आने लग गया.

ऐसे ही हमने लगभग 15 मिनट तक एक दूसरे को किस करते रहे.
किस करते-करते मैं उसकी गांड को अपने हाथों से दबा रहा था.
धीरे-धीरे उसने कब मेरी टी-शर्ट को उतार दिया, मुझे पता ही नहीं चला.

फिर मैंने भी उसकी टी-शर्ट को उतार दिया.
अब वह सिर्फ ब्रा और हाफ पैंट में ही थी.
मैं सिर्फ अपने पजामा में ही रह गया था.

ऐसे ही किस करते करते और एक दूसरे के बदन को चूमते हुए मैंने उसके सारे कपड़े निकाल दिए.
अब उसके बदन पर एक भी कपड़ा नहीं था. वह पूरी नंगी बेड पर मेरे सामने लेटी हुई थी.

मैंने भी अपना पजामा और अंडरवियर निकाल दिया.

फिर मैंने उसकी चुत पर मुँह लगाकर उसकी चुत को चाटना शुरू कर दिया.
उसकी चुत पर मेरा मुँह लगते ही उसके शरीर में एक सिहरन सी दौड़ पड़ी.

मैंने करीब दो मिनट तक उसकी चुत को चाटा.
ऐसे ही वह थोड़ी देर बाद झड़ गई.

फिर मैंने उसे अपना लंड चूसने को कहा पर उसने मना कर दिया.
मैंने उसे बहुत मनाया, पर वह नहीं मानी तो मैंने भी उसे ज्यादा फोर्स नहीं किया.

वो बोली- अब सीधे पेल दो.
ये सुन कर मैं अपना 7 इंच लंबा लंड उसकी चुत पर धीरे-धीरे रगड़ने लगा.

मुझे भी लगने लगा था कि मुझसे रहा नहीं जा रहा है.

वह भी कहने लगी- प्लीज अपना लंड डाल दो मेरी चुत में. अब और मत तड़पाओ मुझे मुझसे रहा नहीं जा रहा है.

मैंने धीरे धीरे उसकी चुत में लंड डालना शुरू कर दिया. उसकी भी हल्की-हल्की आह निकल रही थी.

अभी मेरा आधा ही लंड उसकी चुत में गया था कि वह बोलने लगी- थोड़ा धीरे करो … दर्द हो रहा है.
मैं थोड़ा सा रुका रहा और उसको किस करता रहा.

कुछ देर में उसका दर्द हल्का हल्का कम हुआ तो वह अपनी गांड उठाने लगी.
तभी मुझे ऐसा लगने लगा कि अब वह चुदने के लिए पूरी तरह से तैयार है.

मैंने उस सेक्सी गर्ल को धीरे धीरे चोदना शुरू किया.

ऐसे ही मैंने 5 मिनट तक उसे मिशनरी पोजीशन में चोदा.

आप मिशनरी पोजीशन समझ ही गए होंगे कि वो मेरे नीचे थी और मैं उसके ऊपर था.

पांच मिनट के बाद में थोड़ा थक गया था तो मैंने उससे बोला- तुम अब ऊपर आ जाओ.

वह मेरे ऊपर आई और उसने दो ही धक्के में अपनी चुत में मेरा पूरा लंड उतार लिया.
अब वो गांड उठा उठा कर मेरे पर कूदने लगी.
पांच मिनट तक वो ऐसे ही चुदती रही.

ऐसे ही हमने अलग-अलग पोजीशन ट्राई की.

करीबन बीस मिनट तक ऐसे ही चुत चुदाई का सफर जारी रहा.
मौसम की गर्मी और उसकी चुत की गर्मी के कारण मैं इतना ही टिक पाया और तेज झटकों के साथ ही मैं थोड़ी देर बाद झड़ गया.
मैंने अपना सारा माल उसकी चुत के ऊपर गिरा दिया.

मैं ऐसे ही थोड़ी देर तक उसके ऊपर पड़ा रहा.

पांच मिनट बाद हमने एक दूसरे के अंगों को फिर से छूना शुरू कर दिया.
मैं उसके मम्मों से खेल रहा था.

इससे मेरा लंड धीरे-धीरे तनाव में आने लगा.
उसकी सांसें भी फिर से तेज होने लगीं.

मुझे उसकी चुत की गर्मी मेरे लंड पर साफ साफ महसूस हो रही थी.

फिर मैंने उसके मम्मों को चूसना शुरू कर दिया.
हम दूसरे राउंड के लिए फिर से तैयार हो गए थे.

कुछ देर बाद मैंने उसे घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चुत में लंड डाल दिया.

इस बार मैंने शुरू से ही झटकों की रफ्तार तेज कर दी थी.
वह भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.

इस बार हमारा दूसरा राउंड कम से कम आधा घंटा तक चला.

फिर तेज झटकों के साथ ही मैं झड़ गया.
हम दोनों उठकर एक साथ बाथरूम में गए और एक दूसरे को साफ किया.

अब मैंने अपने कपड़े पहने और खुद को ठीक करके वापस अपने घर पर आ गया.

इसके बाद से तो हम दोनों का चुदाई का सिलसिला चल पड़ा.
उस हॉट गर्ल ने मुझे बहुत मजा दिया और अभी भी देती है.

आपको मेरी हॉट गर्ल सेक्सी स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ मेल करें.