जब चूत की झड़ी लगी

दोस्तो यकीन करो नसरीन पूरा खा गई मेरे लंड को ओर मे एकदम ढीला पड़ कर उसके उपर ही गिर गया ओर मेरी उस टाइम यह हालत थी की मूझे इतनी सर्दी के मोसम मे गर्मी फील हो रही थी. खेर नसरीन से आंटी रुबीना ने मज़ाक से पंजाबी मे पूछा सुनो आराम आया ..हाहहहाः ओर नसरीन ने आगे से कहा ज़लील कमिनी मेरी चूत दी चटनी बन गई व सत्या नाश हो गया वे मेरी चूत दा ओर साथ मे उसने कहा की वेसे लंड ही कमाल दा…खेर इतने मे नसरीन उठी ओर बाथरूम मे जाने के लिये कपड़े पहनने लगी ओर मे अभी तक नंगा लेटा हुआ था इस टाइम रात के 12:45 का टाइम हो रहा था. कुछ देर बाद आंटी रुबीना उठी ओर मेरे लिये गर्म गर्म दूध का ग्लास ले कर आई ओर साथ 1 सेब भी. ओर साथ में वो हंस के बोली की अभी एक शान्त हुई हे 2 बाकी हैं. ओर हंस दी. मैने कहा की रुबीना जानू वेसे जो तेरा मज़ा हे ना कसम से नसरीन का नही आया रुबीना आंटी ने कहा चल कोई बात नही मे तो यहाँ ही हूँ तुम्हारे पास लेकिन आज इनको शान्त प्लीज़ कर दो बस बेशक अगर मेरी आज चूत ना भी ली गई तुम से तो कोई बात नही बस अब मेरी बहन को शान्त कर देना.

फिर इस बार मैने आगे से कहा की मूझे उसकी गांड बड़ी पसंद हे यार सच्ची तो इस पर आंटी ने मूझे गाल पर आहिस्ता से मज़ाक से थप्पड़ मारते हुये कहा बकवास ना कर उस को मना लेना ओर फिर बेशक चूत के साथ 10 बार गांड मार लेना उसकी. कुछ देर बाद दोस्तो आंटी रुबीना की बहन अब मेरे पास आ कर लेट गई ओर मेरा लंड आहिस्ता आहिस्ता हिलाने लगी अब उसने मेरा लंड भी मुँह मे लेकर खड़ा करना स्टार्ट कर दिया आगे क्या हुआ वो मे अगली स्टोरी मे बताऊँगा तब तक आप सब दोस्त अपने लंड की गर्मी मूठ मार कर उतार लो ओर जो आंटी ओर लड़कियां अपनी चूत का पानी छोड़ चुकी हैं वो भी किसी ना किसी से चूत मरा के या चूत मे कोई चीज़ खुद डाल कर अपनी चूत की गर्मी ठंडी कर लें तब तक मे आप के लिये इस स्टोरी का अगला पार्ट लेकर आता हूँ उम्मीद करता हूँ आप को मेरी यह स्टोरी पसन्द आई होगी. मुझे कमेन्ट देना भूलना मत दोस्तों . . .

धन्यवाद

हेलो दोस्तो तो मे अब दोबारा आप को बाकी की स्टोरी सुनाने आया हूँ. तो हुआ यूँ की नसरीन की चूत तो मार के मे उसे शान्त कर चुका था अब बारी थी आंटी रुबीना की बहन की बारी जो की मेरा लंड चूसना शुरु कर चुकी थी. ओर मे साथ साथ उसकी नरम नरम बड़ी साइज़ की गांड के साथ खेल रहा था. हाथ लगाने से उसकी गांड ऐसे हिलती थी जेसे ज़लज़ला आ जाता हे. खेर दोस्तों हुआ यूँ की आंटी रुबीना की बहन से मैने सेक्स के साथ साथ उसके पति के साथ उसके सेक्स के रीलेशन के बारे में पूछा उसने बताया की मेरा पति भी फिट हे और बड़ी अच्छी तरह से चूत मारता हे मेरी ओर हम तकरीबन अभी भी हफ्ते मे 3 बार कम से कम चूत लंड का खेल खेलते हैं. खेर मैने उससे पूछा की फिर तुम्हे क्या जरूरत पड़ी की मुझ से चुदवाने की तो कहने लगी की रुबीना ने बताया था की जनाब काफ़ी अच्छी चुदाई करते हैं तो पहले तो मे चुप रही फिर सोचा की चलो क्यो ना तुम्हे आज़माया जाये इसीलिये मे आज आ गई और साथ साथ मे उसकी चूत मे उंगलियाँ दे रहा था ओर कभी कभी बोबो को मुँह मे डाल कर चूसता रहा ओर वो बातें बताती रही.तब मैने उसी से पूछा की तुम्हे पता हे की अक्सर जब तुम गली मे से गुज़रती हो तो मे तुम्हे बड़ी प्यारी नज़रों से देखता था तो वो कहने लगी नही मेने कभी फील नही किया खेर चलो आज बुझा लो प्यास अपनी ओर वो हंस दी. मैने उससे कहा की सब से प्यारी चीज़ तुम मे तुम्हारी गांड हे जब तुम चलती हो तो मेरा लंड झुक कर तुम्हारी गांड को सलाम करता. इस पर कहने लगी की क्या गांड मारने का इरादा तो नही मेने कहा की चूत तो तुम्हे अपनी इच्छा से मरवानी हे ओर गांड मेरी इच्छा से तुम मूझे दोगी खेर पहले तो वो नही मानी लेकिन मैने उसे मना लिया. अब मैने उससे कहा की लंड चूसो जितना चूस सकती हो मेरा अब वो मेरा लंड चूस चूस कर फुल खड़ा कर चुकी थी इस बार मेरा लंड पहले से भी ज्यादा टाइट था उधर दूसरी तरफ नसरीन बाथरूम से नहा कर आ चुकी थी ओर हीटर के आगे बेठ गई वो सर्दी से कांप रही थी हाहहः.
खेर अब मैने कुछ देर बाद शाज़िया की टाँगें अपने कन्धों पर उठा कर रखीं दोस्तो याद रहे की शाज़िया आंटी रुबीना की बहन का नाम हे. शाज़िया की टांगे उठा कर मैने अपने कंधों पर सेट की ओर नीचे से एक तकिया उसकी गांड के नीचे रख दिया ताकि चूत खुल कर उपर की तरफ साफ तरह से नज़र आये ओर लंड फिट हो कर चूत मे चला जाये. खेर अब मैने अपनी हाथो से ज़ोर से दबा कर उसके 38 साइज़ के बोबे पकड़ लिये ओर नीचे से लंड को चूत पर रगड़ने लगा चूत का पानी निकल रहा था ओर मे अपना लंड अच्छी तरह से चूत के पानी से गीला कर के उसकी चूत में डाल रहा था ओर बातों बातों मे एकदम झटका दिया ओर लंड चूत मे घुस गया जिससे की शाज़िया की सच मे चीख निकल गई ओर मेरे कन्धों को उसने ज़ोर से दबा लिया. शाज़िया की चूत दोस्तो सच पूछो तो आंटी रुबीना से भी ज्यादा मजे की थी क्योकी उसकी चूत अभी भी थोड़ी टाइट थी. उसके 2 बच्चे भी थे लेकिन फिर भी चूत कमाल की थी खेर अब मे थोड़ी देर नीचे झुक कर उसके होठ मुँह मे ले कर किस करने लगा फिर शाज़िया भी नीचे से गांड उठा उठा कर हिलने लगी मैने तकरीबन 6 मिनिट तक इस स्टाइल से उसकी चूत मारी.

Pages: 1 2 3 4 5 6