चाचा की जवान लड़की को चोदकर गर्लफ्रेंड बनाया

मेरा नाम संकेत है और मैं 28 वर्ष का हूं। मेरे पापा बैंक में मैनेजर है और हम लोग कोलकाता में रहते हैं, हम लोगों को कोलकाता में रहते हुए काफी समय हो चुका है क्योंकि कोलकाता में ही मैं बचपन से रह रहा हूं और अब मेरे पिता ने यहां पर घर भी ले लिया है। हम लोगों का गांव उत्तर प्रदेश में है लेकिन हम लोग यहीं पर रहते हैं। हमारे साथ हमारे चाचा की लड़की भी रहती है क्योंकि मेंरे चाचा का देहांत बचपन में ही हो गया था इसलिए शीतल हमारे साथ ही रहती है। जब वह छोटी सी थी उसी वक्त से वह हमारे साथ है उसकी मां और उसका भाई गांव में ही रहते हैं। शीतल मुझसे 8 साल छोटी है और वह इस वक्त 20 वर्ष की है वह अभी कॉलेज कर रही है। जब शीतल छोटी थी तो हम दोनों बहुत ही झगड़ा किया करते थे और उसकी मेरे से बिल्कुल भी नहीं बनती थी क्योंकि मैं उसे बहुत ही परेशान किया करता था। वह मुझे कहती थी कि तुम मुझे बहुत ही परेशान किया करते हो।

मैं उसे वाकई में बहुत ज्यादा परेशान किया करता था जिससे कि वह कई बार मेरे पापा से मेरी शिकायत कर देती थी और फिर वह लोग मुझे बहुत ही डांटते थे। मेरे घर वाले शीतल से बहुत ही प्यार करते हैं और मेरी मां तो उसे बहुत ही अच्छा मानती है यदि मैं कभी शीतल से ऊंची आवाज में भी बात कर देता तो उस दिन मेरी मां मुझे बहुत ही डांटती थी। शीतल को वह लोग अपनी बच्ची की तरह ही मानते हैं क्योंकि मेरे पापा कहते हैं कि हम लोग उसकी शादी भी यही से करवाएंगे और मैं ही उसके लिए कोई अच्छा सा लड़का देखकर उसकी शादी करवा दूँगा। कभी-कभार मेरी चाची उससे मिलने के लिए आ जाया करती है। वह लोग गांव में ही खेती का काम करते हैं इसलिए वह लोग बहुत कोलकाता कम आ पाते हैं क्योंकि हमारे गांव से कोलकाता बहुत ही दूर है। जैसे जैसे हम लोग बड़े हुए तो शीतल और मेरे बीच में बहुत ही प्यार होने लगा और मैं उसे बहुत अच्छा मानता हूं, मैं भी उसकी हर जरूरतों को पूरा करता हूं और कहीं ना कहीं वह भी मुझे अब अच्छा मानने लगी है क्योंकि पहले मैं शीतल को अच्छा नहीं मानता था लेकिन अब वह मुझे अच्छी लगती है। मैं उसे अपने बारे में सब कुछ बताता हूं और वह भी मुझसे अब अपनी हर बात शेयर किया करती है और कहती है कि मुझे तुमसे अपनी बातें शेयर करने में बहुत ही अच्छा लगता है। मुझे भी शीतल से अपनी बातें शेयर करने में बहुत अच्छा लगता है।

loading…
मैंने उसे बताया कि मेरी एक गर्लफ्रेंड भी है, तो वह कहने लगी कि तुम मुझे अपनी गर्लफ्रेंड से कब मिला रहे हो। मैंने उससे कहा कि मैं तुम्हें बहुत जल्दी ही अपनी गर्लफ्रेंड से मिलाऊंगा। जब मैं उसे अपनी गर्लफ्रेंड से मिलाने ले गया तो वह बहुत ही खुश हुई और जब मैंने शीतल को अपनी गर्लफ्रेंड रेखा से मिलवाया तो वह भी बहुत खुश थी और कह रही थी की तुम्हारी बहन तो बहुत ही अच्छी है और शीतल की बहुत ही तारीफ कर रही थी वह कह रही थी की शीतल बहुत ही अच्छी लड़की है। जब भी मुझे रेखा का फोन आता तो वह शीतल से जरूर बात किया करती थी और उसके बारे में पूछा करती की शीतल कैसी है। मैं कहता था कि वह बहुत ही अच्छी है और अपनी पढ़ाई कर रही है। मेरी रेखा से मुलाकात भी एक इत्तफाक से कम नहीं है। एक दिन मेरा कुछ सामान दुकान में रह गया था तो मैं जब वह सामान लेने गया तो उसी वक्त रेखा भी आ गई क्योंकि वह दुकान रेखा के पापा की थी और उसके पापा कहीं गए हुए थे इसलिए उसने ही मुझे सामान दिया और उसके बाद हम दोनों के बीच बातें होने लगी, हम दोनों बहुत ही बातें किया करते थे और मुझे उससे बात करना बहुत अच्छा लगता था। मुझे कहीं ना कहीं ऐसा लगता था कि रेखा भी मेरी हर बात को समझती है और वह मुझसे बहुत ज्यादा प्यार करती है लेकिन मुझे नहीं पता था कि कुछ दिनों बाद ही हम दोनों का ब्रेकअप हो जाएगा क्योंकि मैंने रखा को किसी लड़के के साथ देख लिया था और जब मैंने उससे उस लड़के के बारे में पूछा तो वह मुझसे कहने लगी कि वह मेरा भाई है, पर जब मुझे उसकी असलियत पता चली तो वह उसका बॉयफ्रेंड था। मैंने उसे कहा कि यदि तुम्हें मुझसे रिलेशन नहीं रखना था तो तुम्हें मुझे साफ-साफ बता देना चाहिए था लेकिन अब मैं अंदर से बहुत दुखी था और मैं अब रेखा से बात नहीं कर रहा था।

मुझे लग रहा था कि अब मुझे उससे बात करना भी नहीं चाहिए, उसने मुझे कई बार फोन किया लेकिन मैंने उसका फोन नहीं उठाया। जब यह बात शीतल को पता चली तो वह मुझे कहने लगी कि तुम चिंता मत करो, तुम्हे उससे भी अच्छी लड़की मिल जाएगी लेकिन मैं कहीं ना कहीं अंदर से उसके लिए बहुत ही दुखी हो रह था और मुझे बहुत बुरा लग रहा था। फिर शीतल ने मुझे बहुत सपोर्ट किया और वह मुझे समझाती है कि तुम बिल्कुल भी चिंता मत किया करो। अब मैं भी रेखा का ख्याल अपने दिमाग से निकालने लगा और अपने काम में बिजी हो गया था। शीतल हमेशा ही मुझे कहती रहती थी कि आपको रेखा से भी अच्छी लड़की मिल जाएगी वह आपके लायक बिल्कुल भी नहीं थी। मैं भी अब अपने काम में बिजी हो गया था तो मेरे दिमाग से उसका ख्याल भी निकलने लगा और मैं उसे भूल भी चुका था क्योंकि काफी समय हो गया था। मुझे एक दिन पता चला कि रेखा की शादी हो चुकी है लेकिन मुझे उसके बाद कोई भी फर्क नहीं पड़ा क्योंकि मैं उसे अपने दिल से भुला चुका था और मैं भी अब अपने काम पर ही लगा हुआ था।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *