जीजू ने मुझे पूरा मजा देकर चोदा

मेरी सहेली ने मुझे बताया कि अब तुम अपने जीजू से बात करना कम कर दो.
मैंने अपने जीजू से बात करना कम कर दी, तो जीजू मुझसे और भी बात करने लगे और मुझे बात करने के लिए मनाने लगे.

एक दिन जीजू अचानक से अकेले मुझसे मिलने के लिए मेरे घर आये. घर में मैं और मम्मी थे और घर के लोग बाहर गए थे.
मम्मी ने पड़ोस वाली चाची के साथ डॉक्टर के पास जाना था, डॉक्टर से अपॉइंटमेंट ले रखी थी तो उनका जाना जरूरी था. मम्मी ने मुझे कहा- तुम जीजू को खाना खिला दो.
यह कह कर मम्मी पड़ोस की चाची के साथ डॉक्टर के पास चली गईं. घर में मैं और जीजू हम दोनों लोग ही अकेले रह गए थे.

जीजू मुझसे पूछने लगे- रेखा क्या बात है.. आजकल तुम मुझसे बात क्यों नहीं कर रही हो?
मैं जीजू से कुछ नहीं बोल रही थी और बस उनके सामने बैठ गई थी.
तभी जीजू ने मुझे अपनी बाहों में ले लिया और मुझे किस करके बोले- मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ.

मैं भी तो ये ही चाहती थी और मेरी सहेली की बताई हुई चीज अब काम आ गयी थी. मैं जीजू को ये चाहती थी कि वो मुझे सेक्स करने के लिए मनाएं और ऐसा ही हुआ. जीजू मुझे किस करने लगे. मुझे तो सेक्स करने का मन पहले से ही था. लेकिन अब भी सहेली के बताए अनुसार मैं जीजू का साथ नहीं दे रही थी. जबकि जीजू मुझे किस कर रहे थे.

कुछ देर बाद जब मुझसे भी नहीं रहा गया तो मैं भी अपने जीजू को किस करने लगी. मैं भी जीजू के बालों को नोंचने लगी. जीजू और मैं हम दोनों लोग एक दूसरे को चूमने लगे चाटने लगे.

हम दोनों लोग के किस करने से सेक्स का माहौल बन गया और जीजू मेरे सारे कपड़े निकालने लगे.

मेरी सहेली ने जैसे बताया था, मैं वैसे ही कर रही थी. मेरी सहेली ने बताया था कि जब जीजू तुम्हारे साथ कुछ करें, तो तुम चुपचाप रहना.

इस वक्त जीजू मेरे कपड़े निकाल रहे थे और मैं चुपचाप खड़ी थी. जीजू ने मेरे कपड़े निकालने के बाद मेरी ब्रा और पेंटी भी निकाल दिए और मेरी चूचियों को दबाने लगे. जीजू मेरे मम्मों को अपने मुँह में लेकर चूसने लगे. वो मेरी चूचियों को ऐसे चूस रहे थे जैसे उनको बहुत दिन से मेरे जैसे चूचे चूसने के लिए नहीं मिले हों.

जीजू मेरे मम्मों को खूब चूसने के बाद बोले- तुम्हारे चूचे बहुत मुलायम हैं.. जबकि तुम्हारी दीदी को चोदते चोदते तो मेरा मन भर गया है, इसलिए मैं कभी कभी अपने पड़ोस की गर्लफ्रेंड को भी चोद लेता हूँ.

जीजू मेरे मम्मों को चूसने के बाद मेरी चिकनी चूत को चाटने लगे. मुझे बहुत अच्छा लगने लगा. मेरे ब्वॉयफ्रेंड ने भी मेरी चूत को चाटा था, लेकिन जीजू का चूत चाटने का स्टाइल ही अलग था. वो मेरी चूत को चाट रहे थे और मेरी चूत के दाने को मसल रहे थे जिससे मैं और भी चुदासी हुई जा रही थी.
जीजू के चूत चाटने से मेरी चूत से पानी निकल गया. जीजू ने मेरी चूत के रस को मलाई समझ कर पूरा चाट लिया.

मेरी चूत चाटने के बाद जीजू ने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और उसके बाद वो मेरी दोनों टांगों को फैला कर चूमने लगे. जीजू मेरी जांघों को दबाने लगे और उसके बाद वो अपना लंड मेरी चूत में डालने लगे.

मेरी चूत में जीजू का लंड नहीं जा रहा था, क्योंकि मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड से बहुत दिन से नहीं चुदी थी. इसलिए मेरी चूत थोड़ी टाइट हो गयी थी. जीजू मेरी चूत में अपनी दो उंगली डाल कर मेरी चूत में अन्दर बाहर करने लगे और उसके बाद वो अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मुझे चोदने लगे.

मुझे बहुत दर्द हो रहा था और मैं जोर जोर से चिल्लाने लगी. घर में कोई नहीं था.. इसलिए मैं थोड़ा जोर से चिल्ला रही थी. जीजू तो मुझे चोदने में धकापेल लगे थे.. मेरी चूत में जीजू का लंड बड़ी तेजी से अन्दर बाहर होता जा रहा था. वे मेरी चूची को चूस चूस कर चूत चोद रहे थे.

कुछ ही देर में मुझे भी मजा आने लगा और अब जीजू और मैं हम दोनों जीजा साली पूरी मस्ती से सम्भोग का मजा ले रहे थे. चुदाई के साथ जीजू मेरे गुलाबी गालों को चूम और काट भी रहे थे और लंड के धक्कों से मुझे चोद भी रहे थे. हम दोनों लोग सेक्स करने में मदहोश हो गए थे.

हम दोनों लोग सेक्स करते करते अब चरम पर आ गए थे और हम दोनों का पानी निकलने को होने लगा था. बस दो तीन झटकों में ही हम दोनों सेक्स करते करते झड़ गए. जीजू और मैं हम दोनों लोग सेक्स करने के बाद एक दूसरे को देख कर हंसने लगे और हम दोनों नंगे ही एक दूसरे को किस करने लगे.

Pages: 1 2 3