काया भाभी की मस्त चुदाई

Kaya Bhabhi Ki Mast Chudai माय स्टोरी, टू दयाट स्ट्रेंज लेडी, हॅव अ नाइस डे टू ऑल रीडर्स, मेरा नाम काली है, सूरत सिटी का बंदा, एक मधिया फॅमिली से हू, मेरी हाइट 5.6इंच है, और मेरा लिंग 7इंच लंबा और 2.5इंच मोटा है, जो किसीबी लड़की, सेक्सीयेस्ट भाभी, जवान आंटी की जवानी निचोड़ सकता है. टॉप इंडियन सेक्स स्टोरीस इन हिन्दी पड़ोस की भाभी

अब स्टोरी पे आते है.

काया की बुर मे अपना रस छोड़ने के बाद उसके जिस्म से खेलता रहा, बिना अपना लॅंड काया की बुरसे निकाले काया को प्यार करते हुवे, 15-20मिनिट तक काया के रसीले लीप का रस-पान करता रहा.

उस दौरान मेरा लॅंड सिकुड के 7 इंच से 2इंच हो गया, जिसकी वजह से लॅंड काया की बुरसे अपने आप बाहर निकल आया, और काया ने झटसे लॅंड को अपने मुलायम हाथोमे थाम लिया, कस के पकड़े लॅंड को दबोचने मरोड़ने लगी, और साथ ही साथ गोटी को भिचने लगी.

फिर मुझे अपने नीचे लेलिया, 69 पोज़िशन मे आके लॅंड को अपने रसीले लीप से किस करने लगी, चाटने लगी, अपने माउथ मे भरके चूसने लगी, 15-20 मिनट तक काया बिना रुके अपने कार्य मे लिंग हो गई

कभी लॅंड माउथ मे लेती तो कभी गोटी, जिसकी वजह से लॅंड मे फिर से जान आने लगी, थोड़ा थोड़ा लॅंड कड़क होके लोहेसा होगया, तभी मेरे फोन की रिंग बजी, मैने फोन देखा तो घरसे फोन था.

रात के 11:45 पीयेम हो रहे थे, मैने काया से कहा मेरी जान घर से फोन है, क्या करना है.

तो काया ने मेरा ही डाइलोग मुझे ही चिपकाया, कहा अभी तो पूरी रात बाकी है मेरे राजा, आज की रात तुम मेरे हो प्लीज़ मुझे छोड़के मत जाओ, प्लीज़ काली तुम्हारा साथ बहोत ही प्यारा है, ये कहते हुवे अपने रसीले लीप मेरे लीप से सटा के जमके किस करने लगी.

काया जिस्मानी हवस मे पागल हुवे जा रही थी, काया को अपनी बाहोमे जकड़े हुवे, मैने कॉल रेसिव किया, कॉल पे डॅड थे उन्होने कहा नालयक कहा है, देर रात तक बिना कोई काम काज के कहा घूम रहा हैं.

तो मैने डॅड से कहा अपने दोस्त के घर हू, उसके घर कोई नही इस लिए आज की रात यही रुकुंगा, कल सुबह घर आऊंगा, इतना कहके मैने कॉल कट कर दिया, ,फिर काया को किस की और बेड से उठाके किचन की और चल पड़ा, किचन से ठंडा पानी और आइस ट्रे लिए, बेडरूम की तरफ आने लगा.

जैसे ही मैने बेडरूम का डोर ओपन किया बिजली चली गई, अंधेरा हो गया, मैने काया को आवाज़ दी, रिप्लाइ मे काया ने कहा जान मैं यही हू बेड पे, आ जाओ.

हलकी बिजली जाने के बावजूद भी बेडरूम मे दिंलाट रोशनी थी, जिसकी वजह बेडरूम की छत थी, क्यूंकी उपर कई जगह ट्रॅन्स्फर्ड मिरर लगे थे, जिसकी वजह से चाँद की रोशनी अंधेरे मे पूरे बेडरूम मे फैल चुकी थी, उूव क्या हसीन लम्हा था दोस्तो. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

उस वक्त मैने खुदको किसी और दुनिया मे पाया, चाँद की रोशनी मे बेडरूम मे सजी हर चीज़ चमक रही थी, और बलकि खूबसूरत काया का हुस्न कयामत ढा रहा था, मिल्क सी उजली उसकी स्किन मुझे आकर्षित करने लगी, मेरा जिस्म फिरसे तर तारा उठा, लॅंड का कड़क पना इसबार ज़्यादा कड़क होगया, मेरे मुहसे भी सिसकारिया निकल गई.

सस्स्स्सस्स आहहा आअहह सस्स्साअ.

काया को चित बेड पे लेटता हुआ देख, मैं पागल होने लगा काया की दूधसे भरी 2 कटोरिया और वोभी गोलाकार, चट्टान की तरहा खड़ी काया की खूबसूरती बया कर रही थी, पूरी नेसेट काया जिस्म जात से मैं उसके पास पहुचा.

टेबल पे पानी की बोटल और आइस ट्रे रखी, और बेड पे आके काया को उसकी नाज़ुक मुकायम कमर से उठाए, उसे अपनी गोद मे ले लिया, जिसकी वजह से फुददी और लॅंड फिरसे एक दूसरे के स्पर्श से खुशी के मारे फ़ुउल उठे.

मैने टेबल से आइस के टुकड़े उठाए, और काया की फीट पे रगड़ने लगा, फीड से रगड़ते हुवे बंप तक, और बंप से होते हुवे काया की कमर तक पहॉंचा, तो काया छट-पटाने लगी, उसके मुहसे सिसकारिया निकलने लगी.

सस्स्सहह सस्स्शह आआआआअ आअससूउस्स्स आआहह.

करते हुवे मौन करने लगी.

और मेरे हाथो को पकड़ के, अपने बुप्स पे रखते हुवे बोली काली ये मिल्क की कटोरिया बी बहोत गरम है इसे भी ठंडा करदो, जमके आइस रगाडो दबाओ भीछो इसे आइस के साथ अपने मुहमे भरो चूस्ते रहो चूस्ते रहो.

अहह आआहह सस्स्स्सस्स आअहह बहो मज़्ज़ा आरहहे काली, करते रहो करते रहो आआहह सस्सस्स आअहह सस्स्सस्स आअहह.

पूरे बेडरूम मे कायाकि सिसकारिया गूँज रहिति, उसका चेहरा फिरसे लाल होगया, 30-45मिनट तक हम 4 प्ले करने के दौरान उसने मुझे कसके अपनी बाहोमे जकड़ने लगी.

मैं समझ गया काया झड़ने वाली है, और एक बड़ी कंपन के साथ उसकी पूसी ने पानी छोड़ दिया, जिसकी वजह से लॅंड पूरा भीग गया, उसके पानी से चिकना हो गया, काया बहोत ही उतेज़ीत हो चुकी थी, बैठे बैठे ही अपनी पूसी मेरे लॅंड से रगड़ने लगी, फक मी फक मी कहते हुवे.

Pages: 1 2