कोमल के कमसिन नखरे

उसे भी अब हमारे साथ रहना अच्छा लगने लगा था एक दिन मैंने जब उसे बाथरूम में टॉयलेट करते हुए देख लिया तो मुझे उसे चोदने का मन होने लगा। दरअसल हुआ यूं कि कोमल बाथरूम में टॉयलेट कर रही थी उसने दरवाजा बंद नहीं किया था मैंने जब दरवाजे को पूरी ताकत से खोला तो दरवाजा खुल गया जब मैंने उसकी बड़ी चूतड़ों को देखा तो मुझे उसकी चूत मारने का मन होने लगा परंतु मेरी पत्नी के रहते हुए यह संभव नहीं था। एक दिन मैंने अपनी पत्नी से कहा आज मुझे ऑफिस में बहुत काम है तुम भैया के यहां से मेरा कुछ जरूरी सामान ले जाओ। मैंने जब उसे फोन किया तो वह अकेली ही भैया के घर चली गई मैं तुरंत घर लौट आया कोमल घर पर अकेली थी। कोमल मुझे देखते ही खुश हो गई और कहने लगी आप तो बड़ी जल्दी आ गए। मैंने भी उसकी जांघ पर हाथ रख दिया जब मैंने अपने हाथ को उसकी पतली कमर पर रखा तो उसके अंदर से जैसे एक अलग ही गर्मी पैदा होने लगी। जब मैंने अपने हाथों को उसके स्तनों की तरफ बढ़ाया तो उसके बड़े बड़े स्तनों को मुझे दबाने में बड़ा मजा आ रहा था उसने मेरे हाथ को झटकते हुए कहा आप यह क्या कर रहे हैं।

मैंने उसे कहा कुछ भी तो नहीं कर रहा बस ऐसे ही तुम्हारे बदन को सहला रहा था। वह मुझे कहने लगी यह मुझे बिलकुल अच्छा नहीं लगता मैंने थोड़ी देर बाद दोबारा से उसके बदन को सहलाना शुरू कर दिया वह भी अपने आप को कितने देर तक रोक पाती। मैंने उसकी चूत को अपने हाथ से दबाया तो उसने मुझे कुछ नहीं कहा मैंने भी उसे उठाते हुए अपने बिस्तर पर पटक दिया। मैंने उसकी जींस और उसकी टी-शर्ट को उतारा तो उसने पिंक कलर की जालीदार पैंटी पहनी हुई थी उस पैंटी में से उसकी चिकनी चूत साफ दिखाई दे रही थी। मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू किया तो उसकी चूत की खुशबू से मैं उसकी तरफ आकर्षित होता चला गया। मेरा लंड भी एकदम से उसकी चूत में जाने के लिए उतावला हो गया मैंने जब कोमल की चूत पर अपने लंड को रगडा तो मेरा लंड धीरे धीरे उसकी चूत के अंदर ही जाने लगा। मैने अपने लंड को पूरा उसकी चूत मे घुसा दिया मैंने अपने हाथों से उसके स्तनो को दबाया और उसके दोनों पैरों को मैंने जब अपने कंधों पर रखते हुए उसे धक्के मारना शुरू किया तो मेरा लंड उसकी चूत के पूरे अंदर तक जा रहा था। उसने भी शायद यह कभी कल्पना नहीं की थी लेकिन मुझे उसे चोदने में मजा आ रहा था मैंने जब अपने वीर्य को उसके बड़े स्तनों के ऊपर गिराया तो वह बहुत खुश हो गई। जब मैंने उसकी चूत की तरफ देखा तो उसकी चूत से खून टपक रहा था मैंने जब उसकी चूत पर अपनी उंगली को लगाया तो उसकी चूत से लगातार तेज गति से खून का रिसाव हो रहा था। मुझे तो बहुत मजा आया लेकिन उसे भी मुझसे अपनी चूत मरवाने में बड़ा मजा आया उसने जब मुझे अपने गले लगाया तो वह मुझे कहने लगी मुझे तो आज आप के साथ सेक्स करने में बड़ा मजा आ गया। मेरी पत्नी जब घर आई तो वह मुझे देखकर चौक गई वह कहने लगी तुमने तो मुझे कहा मुझे आज आने में लेट हो जाएगी लेकिन तुम तो घर जल्दी आ गए। मैंने उसे कहा हां दरअसल मुझे ऑफिस में जरूरी काम था लेकिन मैंने वह काम अपने एक जूनियर को दे दिया उसके बाद मैंने सोचा मैं जल्दी घर चला जाता हूं। मेरी पत्नी ने मुझे कुछ नहीं कहा मैंने अपनी पत्नी से पूछा क्या तुमने भाई साहब से मेरा सामान ले लिया। वह कहने लगी हां मैंने उनसे तुम्हारा सामान ले लिया है लेकिन मुझे पता होता कि तुम जल्दी आने वाले हो तो हम लोग कहीं घूमने का प्लान बनाते। मैंने अपनी पत्नी से कहा ठीक है हम लोग अभी कहीं घूमने चलते हैं अभी कौनसा ज्यादा देर हो गई है। हम लोग उस दिन घूमने चले गए मैं रास्ते भर कोमल की गांड को दबाता रहा।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *