लंड को गांड मे डालकर सुकुन मिला

मेरा नाम राजेश है मैं पुलिस इंस्पेक्टर हूं, मुझे पुलिस की नौकरी करते हुए 15 वर्ष हो चुके हैं इन 15 वर्षों में मैंने अपने जीवन में बहुत ही उतार-चढ़ाव देखे हैं और कई केस मैंने सॉल्व किए हैं। मेरे पास हमेशा ही तरह तरह के केस आते हैं। मेरी पत्नी भी मुझे कहती है कि तुम मुझे बिल्कुल भी समय नहीं देते हो, मैंने उसे कहा कि तुम्हें तो मेरी नौकरी का पता ही है। वह मुझे बहुत प्यार करती है लेकिन मैं उसे वाकई में समय नहीं दे पाता, मुझे भी इस बात का दुख होता है लेकिन हमारी नौकरी है ही ऐसी, मैं अपनी नौकरी को छोड़ भी नहीं सकता। एक बार मैं स्टेशन में ही बैठा हुआ था और सुबह से बहुत सारे कैस आ रहे थे, मेरे पास में कोई व्यक्ति आए तो वह बहुत ज्यादा ही परेशान दिख रहे थे, मैंने उन्हें अपनी खड़क आवाज में पूछा हां बोलिए आपको क्या काम है, वह कहने लगे कि सर मेरे घर पर कल रात को चोरी हो गई तो उसी के सिलसिले में मैं कंप्लेंट लिखवाने आया हूं।

मैंने उनसे पूछा तुम्हारा घर कहां पर है, उन्होंने मुझे अपना घर बताया, फिर हमने उनकी कंप्लेंट लिख ली। उनके साथ उनकी पत्नी भी आई हुई थी, उस व्यक्ति का नाम आकाश है। मैंने उनसे पूछा कि आपके घर में किस वक्त चोरी की हुई और आप कहां थे, वह कहने लगे कि हमारे घर पर रात को चोरी हुई लेकिन हम लोग सब बहुत गहरी नींद में थे और हमें पता ही नहीं चल पाया की हमारे घर में चोरी हो गई। जब हम लोग सुबह उठे तो हमने अपने घर का सारा सामान बिखरा हुआ देखा। मैंने उनसे कहा ठीक है आपने कंप्लेंट लिखवा दी है हम लोग आपके घर पर आ जाएंगे आप लोगो अभी अपने घर चले जाइए। वह अपने घर चले गए और जब हमारी टीम उनके घर पहुंची तो वह कहने लगे सर हमारी अलमारी से सारा सामान चोरी हो चुका है और हमारे बहुत कीमती जेवर भी सब चोरी हो चुके हैं। हम लोगों ने सारी कंप्लेंट लिख ली और उसके बाद हमने कहा आप निश्चिंत रहिए जैसे ही हमें कोई जानकारी मिलती है तो हम आपको फोन कर देंगे, आप हमें अपना नंबर दे दीजिए।

loading…
उन्होंने मुझे अपना नंबर दे दिया और उसके बाद हम लोग वहां से चले गए। हम लोगों ने जांच शुरू कर दी और जांच के दौरान हमें पता चला कि उनके पड़ोस में ही कुछ लड़के रहते थे उन्होंने ही उनके घर पर चोरी की है। जब हमने उन लड़कों को पुलिस स्टेशन बुलाया तो हमने उन्हें अपने तरीके से पूछा, उन्होंने सब कुछ हमें बता दिया। मैंने आकाश और उनकी पत्नी को भी थाने में बुला लिया और उन लड़कों ने उनके सामने ही कहा कि हमने आपके घर से चोरी की है, हम आपका पैसा लौटा देंगे। उसके बाद उन्होंने मुझे धन्यवाद कहा, उन्होंने कहा कि सर ठीक है अब हम निश्चिंत हो चुके हैं। उसके कुछ समय बाद हमने उन लड़कों से वह सामान जप्त कर लिया, उन्होंने वह सब अपने घर पर ही छुपा कर रखा था। मैं एक दिन अपनी पत्नी के साथ ही बाजार में घूम रहा था, मैंने सोचा क्यों ना आज अपनी पत्नी को शॉपिंग करवा दी जाए क्योंकि काफी समय से मैं भी कहीं बाहर नहीं गया था। मेरी पत्नी कहने लगी चलो आज कम से कम तुमने मेरे लिए समय तो निकाला नहीं तो तुम्हारे पास मेरे लिए बिलकुल भी वक्त नहीं होता। मैंने अपनी पत्नी से कहा तुम्हें तो मालूम ही है मेरी नौकरी ही ऐसी है,

मैंने उसे कहा तुम जल्दी से शॉपिंग कर लो उसके बाद हम लोग घर चलते हैं। जब वह शॉपिंग कर रही थी तो उसने मेरे लिए भी एक शर्ट ले लिया और कहने लगी यह आप पर बहुत अच्छी। मैंने उसे कहा तुम पहले अपने लिए कुछ सामान ले लो, मैं तो कभी भी ले लूंगा। उसने अपने लिए बहुत सारी शॉपिंग की और मैं भी बहुत ज्यादा परेशान हो रहा था क्योंकि मैं काफी देर से उसके साथ ही घूम रहा था, उसने वह शर्ट भी ले ली। जब हम लोग घर लौट रहे थे तो मुझे रास्ते में आकाश जी दिख गये और उन्होंने मुझे देखते ही पहचान लिया। उन्होंने मुझसे पूछा सर आप कहां जा रहे हैं, मैंने उन्हें बताया कि मैं अपनी पत्नी के साथ शॉपिंग कर के घर लौट रहा हूं, मैंने उन्हें कहा अब तो आपका सारा पैसा मिल चुका है, वह कहने लगे हां सर मुझे तो मेरा सारा पैसा मिल चुका है लेकिन आप कभी हमारे घर पर आइये। मैंने उन्हें कहा ठीक है मैं कभी देखता हूं, जब मुझे वक्त मिलेगा तो आपके घर पर जरूर आऊंगा लेकिन अभी मैं जल्दी में हूं इसलिए अभी आपसे बात नहीं कर पाऊंगा।

मैं अब अपने घर पहुंच गया, उस दिन मेरी पत्नी बहुत खुश हो रही थी और उसकी खुशी देख कर मुझे भी अच्छा लग रहा था क्योंकि मैं भी उसे काफी समय से वक्त नहीं दे पाया था इसलिए मुझे लग रहा था शायद मुझे भी अपनी पत्नी को वक्त देना चाहिए, इस बात से वह मुझे कहने लगी आज तो आप मुझ पर बहुत ज्यादा मेहरबान हो गए हैं और इतनी देर तक आपने मेरे साथ समय बिताया। मैंने उसे कहा मैं तो तुम्हारे साथ समय बिताना ही चाहता हूं लेकिन मुझे बिल्कुल भी वक्त नहीं मिल पाता। उस दिन मैं उसे अपने साथ बाहर डिनर पर ले गया, हम दोनों ने जब डिनर किया तो उसने मेरे हाथों को पकड़ लिया और कहा कि इतने समय बाद तुम मेरे साथ कितने अच्छे से रहे हो, मैं बहुत ही खुश हूं। उसने मेरे हाथों को चुम लिया और जब हम दोनों ने डिनर खत्म किया तो उसके बाद हम लोग घर लौट आए। अगले दिन मै अपने काम पर ही था, उस दिन मुझे आकाश जी का फोन आ गया। वह कहने लगे सर आप हमारे घर पर आए नहीं मैंने उन्हें कहा ठीक है मैं आज आपके घर पर आता हूं।

Pages: 1 2