मा की चुदाई करता रहा बेटा

हेलो दोस्तो मेरी पहली टॉप मा बेटा स्टोरीस मा को चोदा पढ़ने के लिए शुक्रिया अब आगे..

maa ki chudai karta raha beta

अशोक ने मुझे उठाके चेर पर रख दिया और मा के साइड पर जाके लेट गया मैं डर रहा था की ये अशोक कर क्या रहा है पापा जाग गये तो आज मम्मी तो गई इतने मे मैने देखा अशोक मेरी नंगी मा के बदन पर हाथ फेर रहा था और फिर धीरे धीरे मा की चुत तक जा पहुचा और मा की चुत मे उंगली करने लगा मा की नींद भी धीरे धीरे टूट रही थी.

लेकिन उनकी आखे अभी भी बंद थी उन्हे लग रहा था ये सब पापा कर रहे है लेकिन ऐसा था नही मा ने अशोक को कसके गले से लगा लिया और उसकी हरकत का मज़ा ले रही थी बिना ये देखे की उसकी चुत के साथ कोन खेल रहा था और अशोक ने मा को चूमना शुरू कर दिया और मा का हाथ अपने लंड पर रख दिया.

फिर मा की आखे खुल गई वो अशोक को देखके शोक होके उठ बैठी और उन्होने एक बार पापा की तरफ देखा और अशोक को जाने का इशारा किया बट अशोक नही हिला उसने मा को लंड की तरफ इशारा किया और कहा पहले इसे चूस मा को कुछ समझ नही आ रहा था की वो क्या करे.

लेकिन फिर उन्होने अशोक की बात मान ली और अशोक का मोटा लंड चूसना शुरू कर दिया और अशोक भी बड़े मज़े मे अपना लंड चुस्वा रहा था अशोक मा को पता नही क्या इशारा कर रहा था लेकिन मा बार बार मना कर रही थी.

तो अशोक उठ बैठा और उसने मा को अपने उपर खिच लिया और फिर उन्हे उल्टा कर दिया अब वो लोग 69 पोज़िशन मे थे मुझे डर लग रहा था की अगर पापा जाग गये तो आज शायद मा को बहोत मार पड़ेगी बट मा और अशोक को इन बातो की पड़ी ही नही थी 2नो एक दूसरे को मज़ा देने मे लगे हुए थे.

अशोक मा की चुत मे उंगली करे जा रहा था और मा उसका लंड चूस रही थी अचानक से पापा पलट गये और 2नो की जान जैसे निकल गई अब पापा का मूह मा के साइड था 2नो ने बेड के नीचे उतर गये और बेड के नीचे ज़मीन पर लेट गये.

फिर से एक दूसरे को मज़ा देने लगे अचानक मा की चुत ने जोरदार पानी छोड़ दिया और मा के मूह से आवाज़ निकल गई और पापा की नींद भी टूट पड़ी और वो बोल रहे थे क्या हुआ मीनू तुम्हे मा जल्दी से उपर बेड पर लेट पापा को हाथ फेरते हुए बोली कुछ नही आप सो जाइए और पापा के कुछ टाइम बाल सहलाने से पापा फिर से सो गये उसके बाद अशोक उठा और अपने लंड को लेके मूठ मारने लगा मा ने उससे विनती की की अब वो चला जाए बट वो मूठ मारने लगा.

फिर उसने पिचकारी मारी और सारा कम बिस्तर और मा के उपर गिराके चला गया और मुझे उठाके बेड पर पटक गया उसके वीर्य की बदबू मुझे आए जा रही थी.

लेकिन मेरी मा उसे चाट रही थी और खुश होके लेट गई अगले दिन अशोक की मा आ चुकी थी और मा और अशोक को कुछ करने का मौका नही मिला और मा बस गुस्सा दिखाए जा रही थी.

लेकिन रात मे जब पापा ने मा को फोन कर बताया की वो आज नही आएँगे तो मा की खुशी का तो मानो कोई ठिकाना ना रहा उन्होने मुझसे कहा की मैं ये बुक अशोक अंकल को जाके उपर दे दू कहना मम्मी ने दिया है मैने ऐसा ही किया बट जाते वक़्त मैने देख लिए मा ने एक पेपर मे लिखा था आज रात मेरे पति नही आएँगे मुझे तुम्हारा इंतेजर रहेगा जल्दी आना..

अपनी मा को सुलाके मैने जाके वो अशोक को दे दिया और नीचे आ गया नीचे आके देखा तो मा नहा रही थी कुछ टाइम बाद वो टॉवेल लपेट रूम मे आई और एक लाल कलर की साड़ी पहन के एक दम सज धजके दुल्हन की तरह बेड पर बैठ गये मैने मा से पूछा की वो क्या कर रही है.

तो वो बोली कुछ नही बस सोने की तैयारी तुम भी सो जाओ जल्दी से मैं भी लेट गया और मुझे नींद भी आ रही थी मैं बस सोने ही वाला था की मुझे आवाज़े आने लगी मा की कितना टाइम लगा दिया तुमने तो अशोक बोला कोई नही अब आ गया हू ना रात भर प्यार करूँगा. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

फिर क्या था मेरी मा दुल्हन की तरह लेट गई और अशोक मेरी मा के उपर चढ़के उसके गर्दन को चूमने लगा और फिर धीरे धीरे उसने मा की ब्लाउस निकाल फेकि और और उसकी चुचियो को ब्रा से भी निकाल लिया और उसे चूसने लगी और मा धीमी आवाज़ मे ओहस अशोक अह्ह्ह्ह उम्म्म किए जा रही थी की तभी अशोक ने मा की बूब्स पर एक थप्पड़ मार दिया.

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *