माँ ने चाची की चूत दिलवाई

maa ne chachi ki choot dilai मेरे घर में मेरे पापा मम्मी के अलावा दो चाची और उनके बच्चे भी रहते मेरी बड़ी चाची जिनका नाम आशा है उनके एक लड़का है उसकी उम्र 15 साल है और चाची की उम्र 36 साल है उनकी हाइट 5’6″ है और एकदम गोरी है वो आज भी ज्यादा से ज्यादा 30 साल की लगती हैं.
मेरी छोटी चाची जिनका नाम मोहिनी है, वो थोड़ी सांवली है और उनकी एक लड़की है जो 8 साल की है और चाची की उम्र 30 साल है.

मेरी दोनों चाची पढ़ी लिखी हैं और अपने आप को मेन्टेन रखती हैं. मैं पहले ही आपको बता दूँ कि मैं अपनी दोनों चाचियों को एक एक करके चोद चुका हूँ और आज मैं आप को बताता हूँ कि कैसे मैंने अपनी दोनों चाचियों को एक साथ चुदने के लिये तैयार किया.

अब कहानी की ओर बढ़ते हैं. तो अब मेरा जब भी मन करता था मैं अपनी किसी भी चाची को चोद देता था.

एक दिन मेरी मम्मी घर पर नहीं थी तब दोनों चाची किचन में खाना बना रही थी, उस टाइम मैं वहाँ पहुँच गया और मैंने अपनी छोटी चाची के बूब्स दबा दिये और उनको किस करने लगा. चाची मुझसे अपने आप को छुड़ाने लगी और उतने में मेरी बड़ी चाची आई और कहने लगी- सैम, कुछ तो शर्म करो… अभी कोई आ गया तो हम दोनों की वॉट लग जायेगी!

तो मैंने आशा चाची को अपनी ओर खींचते हुये कहा- चाची, कोई नहीं आने वाला है, घर में कोई नहीं है और मैंने डोर लॉक कर दिया है, अब सिर्फ़ हम 3 लोग ही हैं घर में… और कोई नहीं है!
छोटी चाची अपने आपको मेरी क़ैद से छुड़ा के अपने कमरे में भाग गई.

तब मैंने आशा चाची के बूब्स उनके ब्लाउज के उपर से ही दबाना चालू कर दिया और मस्ती में उनकी साड़ी उपर करके कूल्हे सहलाने लगा.
फिर चाची ने कहा- तुम कमरे में चलो, मैं आती हूँ!
तो मैंने कहा- चाची, अब मैं आप दोनों को साथ में चोदना चाहता हूँ!

पर चाची ने मना कर दिया और कहा- यह कभी नहीं हो सकता है!

मैं मोहिनी चाची के पास गया और जब उन से यह बात बोली तो वो भी कहने लगी कि यह कभी नहीं हो सकता है, आशा दीदी मेरी बड़ी बहन के समान हैं, मैं उनके सामने नंगी कैसे हो सकती हूँ. मैंने कहा- मुझे नहीं पता चाची, अब मैं अगर किसी को चोदूँगा तो साथ में ही चोदूँगा, वरना नहीं चोदूँगा और अब तो मैं खाना भी तब ही खाऊंगा जब आप दोनों मुझे एक साथ चोदने दोगी.
और मैंने यह बात आशा चाची से भी कह दी.

फिर उस दिन रात तक मैंने खाना भी नहीं खाया. तब जब रात में सब खाने की टेबल पर बैठे तब माँ ने मुझसे पूछा- बेटा क्या हुआ तुझे?
मैंने कहा- मैंने दोनों चाची से एक एक काम बोला है, दोनों मेरी बात नहीं मान रही हैं.
तो मेरी मम्मी ने दोनों चाची से कहा- मान लो ना यार तुम लोग, वैसे भी कौन सा वो ज्यादा दिन यहाँ रहने वाला है, अभी थोड़े दिन में वो वैसे भी चले जाने वाला है, फिर उसके बाद तुम से कोई कुछ नहीं बोलेगा!

तब बड़ी चाची ने चूत की तरफ देखा और उन्हें धीरे से बोला- ठीक है!

फिर जब रात में चाचियां बर्तन साफ कर रही थी तब मैं उनके पास गया और मैंने कहा- चाची आप बहुत अच्छी हो! आई लव यू!
और दोनों को एक एक लिप किस दिया.

फिर बड़ी चाची बोली- सैम हमारी भी एक शर्त है!
मैंने बोला- क्या चाची?
तो चाची ने कहा- अभी 10 दिन बात सब लोग तुम्हारी बुआ की लड़की की शादी में जा रहे हैं, हम लोग तभी ही यह सब करेंगे!
तो मैंने कहा- ठीक है चाची, मुझे कोई प्रोब्लम नहीं है!

फिर एक दिन मैंने मार्केट से जाकर अपनी दोनों चाची के लिये लेटेस्ट ब्रा और पेंटी ले ली और 3 फ्लेवर के कन्डोम भी खरीद लिये और अपने लिये केप्सूल भी ले लिया जिससे मेरा स्पर्म ज्यादा देर तक ना निकले.
और मैंने घर जाकर अपनी दोनों चाचियों को उनकी ब्रा और पेंटी देकर कहा- उस दिन आप यही पहन कर आना!

फिर हमारे घर में बुआ की लड़की की शादी में जाने की तैयारी शुरू हो गई. दोनों चाचियों ने जैसे तैसे करके रुकने के लिये घर वालों को मना ही लिया और बाकी लोग जाने के लिये तैयार हो गये. मैं सब को स्टेशन तक छोड़ने गया और वापस आते समय रास्ते में मैंने वो केप्सूल खा लिया जो मैं लाया था.

घर पहुँच कर मैंने देखा कि दोनों चाची अपना अपना काम कर रही थी.

तभी मुझसे आशा चाची बोली- तुझ को हमारे बूब्स का साइज़ अच्छे से मालूम हो गया है, एकदम साइज़ की ब्रा लाया है.
तो मैंने कहा- चाची, चलो ना तैयार हो जाओ, अब हम ग्रुप सेक्स करेंगे.

Pages: 1 2 3