ममेरी बहन की चुदाई – 2

फ्रेंड्स, जैसे मैने पहले बताया की मेरे अपनी ममेरी बहन मोना के साथ संबंध थे.मैने लगातार उसे चोदा उसकी जवानी का भरपूर मज़ा लिया.. मैं अपनी स्वीट सिस्टर की चुदाई के कुच और किस्से आपके साथ शेर करना चाहता हूँ. मैं जो भी बता रहा हूँ वो पूरी तरह सत्य हैं… केवल अपनी और उसकी आइडेंटिटी छुपा रहा हूँ…जब मोना 18 साल की थी तब मैने पहली बार उसे चोदा था.. 18 बरस की वो कमसिन जवानी.. वो बदन की कसावट.. वो चुत की भीनी भीनी सुगंध… मुझे आज भी सब कुछ याद हे..क्यूंकी मैं उसके घर पर ही रहता था.. इसलिए मुझे मौके तलाशने मे ज़्यादा दिक्कत नही होती थी..मोना जब 12थ मे थी तो उसका ज़्यादा ध्यान चुदाई पर ही रहता था…

वो बाहर किसी से बात नही करती थी..मैने भी उसे चेतावनी दे रखी थी की वो किसी से ज़्यादा क्लोज़ होने की कोशिश ना करे… कुछ डर और कुछ जवानी की भूख.. मोना मेरे हर इशारे को समझने लगी…एक दिन जब घर मे सभी लोग थे मुझे उसे चोदने की बहूत ज़्यादा इछा हुई.. लेकिन कैसे चोदा जाए… अचानक मेरे मन मे एक ख्याल आया… मामा के घर मे एक स्टोर रूम था… मैने मोना से स्टोर रूम मे कुछ ढूँडने मे हेल्प माँगी..

मेरी मामी ने मोना से कहा मोना जाओ पपकी हेल्प कर दो… बस इससे अछी बात क्या हो सकती थी मामी को क्या पता था की मैं मोना की चुत ढूँढ रहा हूँ… मोना मेरे साथ स्टोर रूम मे आई…जैसे ही हम स्टोर रूम मे घुसे मैने मोना के इलाहबही अंरृदो को मसलना शुरू कर दिया…. वो एकदम गरम हो गयी थी मैने उसकी स्कर्ट को उपर किया और फिर मैने उसकी पैंटी मे हाथ डाला… उसकी चुत भट्टी की तरह गरम और गीली हो रही थी.. मेरा 5 इंच का लंड तन चुका था मैने बिना समय गवाएँ अपने लंड को बाहर निकाला और उसकी पैंटी को बिना उतारे ही उसकी चुत मे डालने का प्रयास किया.. अफ वो आग ..

मैने मोना को स्टोर रूम मे रखे एक संदूक के सहारे खड़ा किया जिससे वो थोड़ा तिरछी हो जाए.. और अपने लंड से उसकी चुत मे एक दो ज़ोर से झटके मारे… मेरा लगभग 3 इंच लंड उसकी गरम गरम चुत मे घुस गया.. मैने बिना समय गवाएँ तेज़ी से उसे चोदा.. लगभग 4 मिनिट मे मैं उसकी चुत मे झड़ गया… कितना रिलॅक्सिंग था.. वो चोरी चोरी घर मे सभी के मौजूदगी मे चोदना.. इससे मेरी हिम्मत और बढ़ने लगी मैने फ़ैसला किया की मैं मोना को रंडी की तरह रोज चोदुन्गा.. और हमेशा मौके तलाशने लगा…मोना मेरी कझान अब धीरे धीरे रंडी बनने लगी थी… उसे यह भरम होने लगा था की मैं उसे प्यार करता हूँ…

और वो मेरे प्यार मे डूबने लगी थी… उस कच्ची उमर का प्यार… अफ वो जवानी…एक बार मोना बाथरूम मे नहा रही थी.. उसकी छोटी बहन नीना अपने कमरे मे स्टडी कर रही थी.. मुझे लगा इससे अछा मौका और क्या होगा.. मैने धीरे से बाथरूम पर नॉक किया.. मोना ने कहा कौन.. मैं बोला.. मैं हूँ मेरी जान दरवाजा खोलो..

वो बोली क्या कर रहे हो नीना घर पर हैं.. मैने कहा वो अपने कमरे मे स्टडी कर रही हैं उसे पता नही चलेगा..थोड़ी सी ना नुकुर के बाद मोना ने दरवाजा खोला.. मैं झट से बाथरूम मैं घुस गया..मेरे सामने हुसने की मल्लिका मोना अपने गीले बदन मे पूरी नेकेड खड़ी थी.. मैं मदहोश हो गया मैने उसे चूमना शुरू किया.. यह पहली बार था जब मोना पूरी नेकेड मेरे सामने थी… उसकी प्यासी चुत..मीणती मीणती महक दे रही थी मैने बिना समय गवाएँ अपना लंड निकाला और मोना की चुत पर टीका दिया..

मोना सिसकारी भरने लगी मेरे हल्के हल्के झटकों से वो पागल सी हो रही थी मुझसे उसकी गर्मी ज़्यादा बर्दाश्त नही हुई और मैं झड़ गया.. मोना मुझसे नाराज़ हो गयी और बोली यह क्या हैं खाली मुझे तड़पा रहे हो मेरी चुत तो प्यासी रह गयी हैं..तुम अपना झाड़ कर चल दिए मेरा क्या होगा.. मुझे एक बार अपनी रंडी बनाकर चोदो मेरी सारी गर्मी निकाल दो मुझे यूँ प्यासा मत छोड़ो..मैने उसे किसी तरह शांत किया और वादा किया जल्द ही मैं तुम्हे इस तरह चोदुन्गा की तुम्हारे चुत की सारी गर्मी निकल जाए..

मैं तुम्हारी चुत का भोंसड़ा बनाकर रख दूँगा.. बस थोड़ा सा इंतज़ार.. और मैं बाथरूम से निकल गया…और कुछ दिन बाद वो सुबह घर आ गयी.. मुझे मोना घर पर अकेली मिली मैने पूछा सब लोग कहाँ हैं तो पता चला की सब किसी शादी मे गये हे और देर रात मे लोटेंगे.. बस फिर क्या था मैने मोना को अपनी बाहों मे ले लिया.. और वो मुझसे ज़ोर से लिपट गयी..मैने धीरे से कहा.. मोना क्या तुम तैयार हो.. मोना ने बड़ी बेशर्मी से कहा मैं तो तैयार हूँ क्या तुम्हारा लंड तैयार हैं… इस बात ने मुझे अगग्रेसिवे बना दिया मैने उसके दोनो निपल को मसलना शुरू कर दिया और एक हाथ से अपनी पैंट खोली और अपना लंड अंडरवेर से बाहर निकाल दिया और मोना से कहा इसे चूसो..वो बोली नही मैं लंड मुँह मे नही लूँगी … मैने उसके बूब्स को बड़ी ही निर्दयता से दबाना शुरू किया.वो दर्द और गर्मी से चिल्ला पड़ी..

मैने कहा लंड चुस्ती हो या तुम्हारे इन दानो से ही रस निकाल दू.. वो बोली भैया प्लीज़ ऐसा मत करो मैं आपका लंड चुस्ती हूँ..मेरा लंड उसके मखमली होंटो से लग कर धन्या हो गया.. वो 5 इंच का लंड उसकेमुंह मे मुझे स्वर्ग सा आनंद दिला रहा था.. मैने उसे लंड चूस्ते हुए अपनी स्कर्ट और टॉप उतारने को कहा..वो भूखी बड़ी तेज़ी से लंड चूस्ते हुए अपने सारे कपड़े उतार फैंकी..वा क्या जिस्म था फिगर शायद 30 24 32 की होगी गोल गोल कड़े उभार लिए हुए उसके अमरूद से बड़े दाने… उसकी चुत पर हल्के बालो की छाया थी..

मैने उसे उठाया और उसकी चुत मे अपनी जीभ डाल दी.. दो जवान जिस्म आग से भरे हुए.. एक दूसरे के प्यासे..उसके मधुर मीठा रस..एकदम अद्भूत था.मोना की चुत मे मेरी जीभ अंदर बाहर जा रही थी उसकी सिसकारी उूुउऊन्ह आअहह मुझे पागल बना रही थी..मैने उसे बेड पर लिटाया अपने लंड हर हल्का से थूक लगाया ताकि उसकी टाइट चुत को मैं आज शांत कर साकू. धीरे धीरे मेरा लंड उसकी चुत मे घुसने लगा.. मोना अपनी चुतडो को उठा उठा कर मेरा साथ देने का प्रयास कर रही थी..

और फिर एक झटके से मेरा लंड सारा का सारा उसकी चुत मे घुस गया.. और मैं ज़ोर ज़ोर से धक्का मरने लगा..मोना काफ़ी गरम हो गयी थी वो अपनी चूतड़ उठा उठा के मुझसे बोली.. बहँचोड़ आज चोद डाल अपनी इस बहन को आज इस बहन को रंडी बना दे … ज़ोर से चोद मदर्चोद…..करीब आधा घंटा मैं उसकी छुदाई करता रहा और इस बीच वो दो तीन झटको बाद झड़ी…पर आज उसकी चुत की गर्मी से मैं झाड़ा नही..

मैने उसे बूरी तरह … उसके निपपलोन को अपने दाँतों से काट काट कर लाल कर दिया उसके मखमली होटो को चूस चूस कर गुलाबी से लाल बना दिया..और जब मैं झडा तो उसकी चुत मे अपना गर्म गर्म लावा छोड़ दिया वो तड़प उठी…और मेरे ठुकाई और लावे ने उसके अंदर की आग को ना सिर्फ़ शांत किया बल्कि वो एकदम बेदम हो गयी…जबकि मेरा लंड झड़ने के बाद भी उसकी चुदाई को एकदम तैइय्यार था… मैने कहा मोना अब क्या कहती हो..

वो बोली मेरे राजा भीया आज से यह मोना तुम्हारी रंडी बन गयी हैं तुम्हे जब भी प्यास लगे… इसकी चुत का आनंद लेना..और मुझे अपने लंड से वो आनंद देना जो एक दमदार पति अपनी पत्नी को देता हैं ..जो एक मर्द अपनी औरत को देता हैं…. दोस्तों..मैने अपनी शादी की सुहाग्रात से पहले किस तरह मोना को सुहाग्रात वाले बेड पर चोदा और किस तरह अपनी बीवी को चोदने के बाद मोना की चुदाई की.. इसके किस्से भी आप के साथ शेर करूँगा…मेरी यह कहानी पूरी सत्यता पर आधारित हैं… मोना आजकल अपने ससुराल मे ही…मुझे उसे चोदे हुए 10 साल हो गये हे… मैं आज भी उसकी उस गरम चुत की आग से अपने लंड को शांत करना चाहता हूँ… कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखे, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सके – डीके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *