मौसेरी बहन के साथ वो हसीन रात

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम नीरज श्रीवास है। मैं छत्तीसगढ़ के कोरबा का रहने वाला हूँ। यह मेरी पहली कहानी है इसलिए अगर कोई गलती हो जाये तो माफ कर दीजियेगा।
मैं बी कॉम का छात्र हूँ। मेरे परिवार में मेरे अलावा माँ, छोटा भाई और पापा हैं। ये बात तब की है जब मैं बी कॉम फर्स्ट इयर में था।

मेरी मौसी की बेटी श्रद्धा जो उस समय बारहवीं में थीं, वो हमारे यहाँ रहने आयी थीं। वो पढ़ने में ज्यादा अच्छी नहीं थी। मेरी मौसी ने उसे हमारे घर इसलिए भेजा था ताकि वो मेरे साथ पढ़े, क्योंकि मैं पढ़ने में अच्छा था।

हमारे घर में मैं और मेरी मौसेरी बहन आपस में दोस्तों की तरह रहते हैं और आपस में बेझिझक बाते करते हैं। लेकिन जब वो इस बार हमारे घर आयी तो मैंने देखा मेरी बहन कुछ उदास सी है।

शाम को मुझे किसी काम से बाहर जाना था तो मेरी माँ ने कहा- बेटा, श्रद्धा को भी अपने साथ ले जा!
मैंने मां को हाँ कहा।
जब वो तैयार हो कर आयी तो मेरी आँखें जैसे चमक गयी। उसके गोरे रंग पर लाल रंग की टॉप उसके दोनों स्तनों का साइज बता रहे थे। उसकी कमर का लहरदार पतलापन जैसे उँगलियों को सहज ही अपनी ओर खींचता था। नीचे पतली जाँघें … बस ऐसा लग रहा था कि कोई अप्सरा धरती पर उतर आयी है। मैं उसे बड़े प्यार से काफी देर तक देखता रहा. कुछ देर को मानो मैं भूल गया था कि मैं उसका भाई और वो मेरी बहन है।

उसने पास आकर कहा- क्या हुआ भाई, कभी खूबसूरत लड़की नहीं देखी क्या?
मेरा ध्यान उस समय भंग हुआ, मैंने कहा- यार श्रद्धा, आज तो तुम कुछ ज्यादा ही खूबसूरत लग रही हो।
उसने कहा- भईया, मेरी तारीफ बाद में कर लेना, पहले घूमने चलो।

हम दोनों घूम फिर कर रात को नौ बजे घर वापस आये। लेकिन मेरी माँ हमारे देर से आने के चलते नाराज़ थी।
हमने खाना खाया और मैं अपने रूम में आकर लेट गया था.
तभी श्रद्धा मेरे कमरे में आयी.
मैंने पूछा- श्रद्धा! क्या हुआ? नींद नहीं आ रही है?
उसने कहा- हाँ भैया, मुझे नींद नहीं आ रही है!

मेरा बैग मेरे बिस्तर पर रखा हुआ था, मैंने बैग को बिस्तर से हटाया और हम दोनों उस पर बैठ गये और बातें करने लगे।
मैंने जैसे ही उसके बायफ्रेंड होने के बारे में सवाल पूछा तो वो कुछ रोने जैसे हो गयी। उसने कहा- भईया, मैं उससे बहुत प्यार करती थी मगर वो एक दूसरी लड़की के चक्कर में मुझे धोखा दे गया।
तब मैंने उसे समझाया तो वो मेरे सीने से चिपककर रोने लगी। मेरी बहन के स्तनों का स्पर्श मेरे अंदर के शैतान को जगाने लगा। मगर मैंने यह सोच कर खुद को रोका कि यह लड़की मेरी बहन है, मुझे ऐसा नहीं सोचना चाहिए। ऐसा सोच कर मैंने अपनी कामवासना को दबा लिया.

मैंने उसे चुप कराया, फिर उसे मां के कमरे में जाने को कहा क्योंकि वो मां के साथ ही सोती थी. अब रात के बारह बजने को थे।
मैं लेटा ही था कि श्रद्धा वापस आ गयी, उसने कहा- भैया, मौसी दरवाजा नहीं खोल रही हैं।
मैंने कहा- देर हो गयी है ना … माँ गहरी नींद में सो चुकी होगी।

दूसरे रूम में मेरा भाई और पापा सो रहे थे थे तो मैंने उससे कहा कि वो आज रात मेरे कमरे में सो सकती हैं।
वो मान गयी, मेरा बेड सिंगल था तो बेड ज्यादा बड़ा नहीं था। उसने मेरी तरफ पीठ की और सोने लगी। मगर मेरा मन पता नहीं क्यों मचले जा रहा था। इतनी सेक्सी जवान लड़की मेरी बगल में सो रही है. मेरा लंड बार बार मुझे कुछ कर गुजरने को उकसा रहा था. लेकिन फिर भी मैं यही सोच रहा था कि ‘नहीं … ये मेरी बहन है. इसके लिए ऐसा सोचना गलत है.’

रात का एक बजने को था। मेरी बहन श्रद्धा मेरे साथ सो रही थी, मैंने भी करवट ली और श्रद्धा की तरफ पीठ कर सोने लगा।
तभी उसका हाथ मेरे पेट पर लगा तो मेरी बची खुची नींद उस कोमल हाथ के स्पर्श से उड़ गयी।

मैंने उसकी तरफ चेहरा किया, अब हमारे चेहरे एक दूसरे के सामने थे, अपनी बहन की गर्मं साँसें मैं अपने चेहरे पर महसूस कर सकता था।

अचानक मैंने सारी शर्म लिहाज़ और नैतिकता भूल कर उसके होंठों से अपने होंठ मिला दिये। तभी मैंने महसूस किया कि वो भी चुम्बन में मेरा साथ दे रही है।
फिर मैं सब कुछ भूल कर अपनी बहन को चूमने लगा. करीब दस मिनट तक उसके रसीले होंठों का रसपान करने के बाद मैं उसके चेहरे को चूमते हुए नीचे स्तनों को कपड़ों के ऊपर से ही दबाने लगा।

अब मेरा लंड उसकी जाँघ को छूने लगा। मैंने उसके टी शर्ट को ऊपर किया और ब्रा भी उतार दी। उसने हाथ से अपने सीने को ढकने की नाकाम कोशिश की। मैंने देखा कि उसके स्तनों के अंगूर भूरे थे। मैं कभी दायाँ तो कभी बायाँ स्तन चुसता कभी कभी काट देता और वो चिल्लाती। इस कामक्रीड़ा के आनंद में हम खोने लगे।

Pages: 1 2