मौसी की चूत में ऊँगली

यह तब की कहानी है. जब मैं 21 साल का था। और मेरी मौसी की उम्र 35 की थी। सुन्दर बॉडी थी. बड़े बोब्स मैं मौसी को जब भी देखता तो मुझे उनका सेक्सी फिगर देखकर मन मे गुदगुदी होती थी। उनका सुडोल गोरा बदन बहुत हसीन था।

एक बार उन्होने मुझे अपने यहाँ रहने को बुलाया था. मैं एक महीने के लिए उनके वहां रहने गया। उनका घर बहुत छोटा था. सिर्फ़ दो कमरे थे. एक किचन और दूसरा उनका हॉल। जब मैं उनके यहा रहने गया तो मौसी ने मुझे देख कर मुझे गले लगा लिया. जिससे उनके बोब्स मेरे सीने से दब गये। मुझे भी मज़ा आया उस दिन मैने भी उन्हे गले लगा लिया और गाल पर किस भी कर दी। मेरी मौसी घर में ज़्यादातर गाउन ही पहना करती थी। जिससे जब वो घर का काम करने के किए झुकती तो उनके बोब्स का भूगोल देखकर मेरा 8″इंच. लंबा लंड खड़ा होने लगता वो मुझसे बहुत प्यार करती थी।

एक बार मौसी किसी काम के लिए नीचे झुकी तो मैने देखा की उन्होने ब्रा, नही पहनी हुई थी तो मुझे उनके बोब्स और थोड़ी चूत दिखाई दी। मेरा ये देखकर बुरा हाल हो गया था। मैं तभी बाथरूम में जाकर मूठ मार कर आया।

मेरा दिल मौसी को चोदने के लिए मचल रहा था. लेकिन मेरी हिम्मत ही नही हो रही थी. मैं मौसी और मौसाजी एक ही बेड पर सोते है. बेड बड़ा था इसलिए हम तीनो को एक ही बेड पर सोने में कोई दिक्कत नही होती थी। पहले मौसी फिर मौसाजी फिर मैं इस तरह लाइन में सोते थे। सोने से पहले मौसी मौसाजी और मुझे दूध ज़रूर देती थी. सोते टाइम घर में अंधेरा रहता है कोई किसी की शक्ल भी नही देख सकता इतना अंधेरा रहता है।

एक बार मेरी रात को आँख खुली तो मुझे महसूस हुआ की मौसा मौसी की चुदाई कर रहे है. मैने जब गौर से देखा तो मौसा मौसी के उपर लेटे हुए थे और मौसी नंगी नीचे लेटी हुई थी और मौसा मौसी की चुदाई कर रहा था। मौसी बीच बीच मे आआहह.. हूउउ.. न.नाओ उककच..उऊन कर रही थी। ये देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया मैने अपने लंड को पकड़कर उन्हें देखकर वही मूठ मार ली। दोनो आपस में काफ़ी देर तक चुदाई करते रहे ये देखकर मुझे पता ही नही चला की मुझे कब नींद आ गयी। अब मेरा मन और खराब होने लगा मौसी की चुदाई के लिए।

अब मैं 4-5 दिन तक रोज़ जल्दी सोने का बहाना करके लेट जाता था. और मौसी की चुदाई देखा करता था. एक बार मैने देखा की मौसी नंगी आँख बंद करके लेटी हुई और मौसा उनकी चूत में अपना मूह डालकर चूस रहे है। मुझसे रहा नही गया मैने अपना एक हाथ बढाकर मौसी की एक चूची पर रख दिया। मौसी को कुछ पता नही चला की किसका हाथ है. मुझमे और हिम्मत आई तो मैं ज़ोर ज़ोर से मौसी की चूची को दबाने लगा।

मौसी की चूची इतनी बड़ी थी की मेरे हाथ में ही नही आ रही थी. मौसी भी मज़े से अपनी चूची दबवा रही थी. और मैं दूसरे हाथ से अपने लंड को पकड़कर मूठ मार रहा था। फिर थोड़ी देर बाद मेरा पानी निकल गया तो मैने मौसी की चूची से हाथ हटा लिए और सो गया। इन दोनो की चुदाई में मैने ध्यान दिया की दोनो में से कोई बात नही करता था।

फिर शनिवार आया रविवार को मौसाजी की छुट्टी होती है तो वो शनिवार रात को मौसी को जम कर चोदते है। इसलिए शायद मौसी भी थोड़ी ज़्यादा तैयारी रखती होगी. अब मुझसे रहा नही गया तो मैं मेडिकल स्टोर गया और वहा से नींद की गोली ये कहकर ले आया की मेरे दादा को 3 दिन से नींद नही आ रही है. उनके लिए कोई नींद की गोली दीजिए। उन्होने बताया की 2 गोली काफ़ी होगी लेकिन मैं 4 गोली ले आया. अब मैं रात का इंतेज़ार करने लगा। रात को मौसी ने मुझे किचन में बुलाया और दूध देकर कहा की ले अपने मौसाजी को दे आ।

मैं उनकी नज़र बचा कर नींद की 4 गोली मौसाजी के दूध में मिला दी. फिर मैने दूध मौसाजी को दिया तो मौसाजी ने पी लिया। आज रात मौसी ने नाईटी पहनी हुई थी। फिर वो दोनो लेइट गये और मैं भी लाइट बन्द करके लेट गया. 1 घंटे बाद मैने मौसाजी को हल्के से हिलाकर देखा तो उन पर नींद की गोली का असर हो गया था। वो सो गये थे. मैने उन्हे अपनी जगह सरका दिया और उनकी जगह मैं आकर लेट गया। मौसी का मूह दूसरी तरफ था तो उन्हे पता नही चला।

अब मैने पहले अपने सारे कपड़े उतार दिए और मौसी की कमर पर अपना हाथ रखा मुझे लगा की मौसी सो गयी है। लेकिन वो जागी हुई थी। अब मैने अपना हाथ उनके बोब्स पर रखा और उन्हे नाईटी के उपर से दबाने लगा और उनसे चिपक कर लेट गया। जिससे मेरा लंड मौसी की गांड को टच कर रहा था। ओर मेने अपनी एक टाँग मौसी के पैरो के बीच में डाल दी और अपने पैर से मौसी क़ी चूत को रग़ड रहा था। मौसी थोड़ी देर बाद गर्म होने लगी थी. थोड़ी देर बाद मौसी ने अपना मूह मेरी तरफ किया तो मैने उनके होटो पर अपने होट रख दिए. आह क्या टेस्ट था उनके होटो का मैं तो पागल हो गया।

Pages: 1 2 3 4