मेरी क्रश मेरी बीवी

हेलो दोस्तो! मैं रोहित आपका स्वागत करता हूँ. मैं देसिकहानी का पीछे 3 साल से रीडर हू और ये मेरी पहली स्टोरी है. ये एक बिल्कुल रियल स्टोरी है जिसमे कोई भी मिक्स्चर नही है. उमीद करता हू की आपको पसंद आएगी.

मेरा नाम रोहित कटारिया है और मैं 23 साल का हूँ और दिल्ली का रहने वाला हूँ और एक एमएनसी मे जॉब कर रहा हू और वेल सेटल्ड हूँ. मेरे घर मे मम्मी पापा मेरी छोटी बेहन और मैं हूँ.

इस स्टोरी की हेरोयिन मेरी फ्रेंड डीवीषा है. उसकी उमर अभी 21 साल है. उसकी फिगर परिनीति चोपरा जैसी है. मेरा लंड का साइज़ 8 इंच है.तो चलिए स्टोरी शुरू करता हूँ.

मेरा बचपन से ही डीवीषा पर क्रश था लेकिन मैं कभी उसे कह नही पाया. डीवीषा मेरी सिस्टर की फ्रेंड है. जब भी वो हमारे घर पर आती मैं उसे देखता रहता था.

एक दिन मेरे घर पर मेरे इलावा कोई नही था. तभी डीवीषा आई. उसे कोई असाइनमेंट चाहिए थी. उसने मेरी सिस्टर के बारे पूछा तो मैने कहा वो तो नही है.. तुम खुद ही डूंड लो. तो वो असाइनमेंट ढूंढ़ने लग गई.

तो मेरे अंदर पता नही क्या हुआ तो मैने उसे कहा की डीवीषा मैं तुम्हे कुछ कहना चाहता हूँ. वो अपने काम मे लगी हूई थी और ऐसे ही बोली की हाँ बोलो. तो मैने कहा की ये थोड़ा सीरीयस मैटर है तो वो मेरी तरफ देखने लग गई और बोली हाँ बोलो!

मैं – तुम घुस्सा करोगी

डीवीषा – मैं क्यों गुस्सा करूँगी पागल

मैं – तुम पहले प्रॉमिस करो ये बात किसी को बताओगी नही

डीवीषा – मैं क्यू छुपाऊ किसी से

मैं – छोड़ो… रहने दो

डीवीषा – अरे बाबा! मज़ाक कर रही थी

मैं – प्रॉमिस?

डीवीषा – हां हां प्रॉमिस

मैं – तो पूरी बात सुन और फिर कोई जवाब देना

डीवीषा – ओके

मैं – यार मैं तुम्हे बहुत प्यार करता हूँ और बहुत टाइम से पर कहने से डरता था. आज भी पता नही कहाँ से हिम्मत आ गई. देख मुझे तुमसे कोई उमीद नही है. तुम कोई भी जवाब दो मुझे वो मंज़ूर होगा. अगर ना हुआ तो मैं कभी आँख उठा के भी नही देखूँगा.

डीवीषा को पता नही क्या हुआ लेकिन वो वहाँ से ऐसे ही चली गई बिना असाइनमेंट लिए…. मैने उसे रोकने की कोशिश भी नही की क्यूकी मैं बहुत डर गया था.

शाम को सारे घर वाले भी आ गये. मुझे डर था की उसने मेरी सिस्टर को ना बता दिया हो लेकिन ऐसा नही था. तो मेरी जान मे जान आई.

रात को करीब 11 बजे डीवीषा का व्हाट्सप्प पर मैसेज आया हेलो लिख कर. मेरे मोबाइल मे उसका नंबर. सेव था( मैने अपनी बेहन के मोबाइल से ले लिया था) लेकिन मैने अंजान बनकर कहा हूज़् द़ैट्? तो उसने कहा की मैं डीवीषा. तो मैं मन ही मन खुश होने लगा. तो मैने कहा यार आज के लिए आइ एम सॉरी. तो वो चुप रही

5 मिनिट बाद मैने फिर सॉरी लिखकर भेज दिया और कहा की आगे से ऐसा नही होगा और मैं तुमसे कभी ऐसी बात नही कहूँगा और मुझे तेरा जवाब मंज़ूर है.

तभी उसका मैसेज आया – कौनसा जवाब? मैने तो कोई जवाब नही दिया तो मैने कहा की वो तो मैं समझ ही गया. तो उसने कहा की वो भी मुझे पसंद करती है. लेकिन मैं भी कभी कह नही पाई. तो मैने कहा आइ लव यू और उसने आइ लव यू टू कहा. और फिर मैने उसे कॉल लगाई और उस रात हमारी 4 बजे तक बातें हूई.

अगले दिन वो हमारे घर फिर आई और फिर भी हमारी बात बहुत कम हूई क्यूकी मेरी बेहन थी. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

तो ऐसे थोड़े दिन निकल गये. हमारी रोज़ बातें होने लगी. वो मुझसे हर छोटी बड़ी बात शेयर करने लगी. मैं उसके दिल का टुकड़ा बन गया. हमारी रोज़ घंटो बातें होने लगी.. एक दिन मेरी फैमिली को अर्जेंट्ली कहीं जाना पड़ गया लेकिन मैने बहाना बनाया और मैं नही गया. तो अगले दो दिन मैं घर पर अकेला रहने वाला था. ये बात मैने डीवीषा को बताई.

अगले दिन वो मेरे घर आई. मैने दरवाज़े को लॉक कर दिया. उसने पिंक कलर का टॉप और ब्लू जीन्स डाली होई थी और बहुत हॉट लग रही थी. मैने उसे बेड पे बिताया और उसके लिए कॉफी लेके आया और हम कॉफी पीने लगे और बातें करते रहे. पता ही नही चला कब 2 घंटे निकल गये. फिर मैने डीवीषा से कहा की कैन आइ किस यू?

तो उसने अपनी आँखें बंद कर ली और एक मुस्कान दी और ये मेरे लिए ग्रीन सिगनल था. मैने पहले उसकी आँखों पर किस किया फिर चीक्स पर. तो उसकी धड़कन तेज हो गई जो की सॉफ पता चल रहा था.

फिर मैने उसके होंठों पर किस किया. वो भी मेरा साथ दे रही थी. हम दोनो एक दूसरे में खो से गये थे. मेरे हाथ उसकी बॉडी पर घूमने लगे और वो मेरे बालों को सहला रही थी. उसके बाद वो बेड पर लेट गई. उसकी आँखे अभी भी बंद थी.

Pages: 1 2