नशे में दोस्त को चोदा

सबसे पहले तो मैने उसका टॉप धीरे धिरे ऊपर खिसकाना शुरू कर दिया। टॉप ऊपर उठाकर पहले उसकी कमर पर हाथ घुमाते हुए मै उसके होठों को चूमता जा रहा था।

पहले नंगी कमर पर हाथ फिराने के बाद, मैने उसके टॉप को और थोडा सा ऊपर खिसकाया जिससे उसकी चुचियां अब मेरे सामने आ गई।

उसने पैडेड ब्रा पहना हुआ था, उसमे से उसकी चुचियां और भी कामुक लग रही थी। मैने अपना हाथ पीछे उसकी पीठ पर ले जाकर उसकी ब्रा का हूक खोल दिया।

अब उसकी चुचियां मेरे सामने नंगी हो गई। वो भी अब तक होश में आ गई थी, और उसे भी समझ आ गया था कि, वो उसके बॉयफ्रेंड के साथ नही बल्कि मेरे साथ है।

लेकिन उसने मुझे रोका नही, बल्कि आगे बढने दिया। अब तक तो उसकी चुत भी पानी छोडने लगी थी। थोडी देर बाद मैने उसकी चूचियों को अपने मुंह मे भर लिया और चूसने लगा।

उसके निप्पल तनकर खडे हो चुके थे, जिस वजह से उसके निप्पल को दांतों में पकडना आसान हो रहा था। इसी का फायदा उठाते हुए मैने उसके निप्पल को बीच बीच मे काटना शुरू कर दिया।

वो भी अब सिसकारियां भरने लगी थी। कुछ देर तक उसकी चुचियां मुंह मे भरकर चूसने के बाद, मै नीचे की ओर जाने लगा।

उसकी नाभि को चूमते हुए मैने उसके अंदर अपनी जीभ घुसाकर घुमाना शुरू कर दिया। फिर उसके शॉर्ट के बटन को खोलकर पहले तो शार्ट नीचे की ओर खिसका दिया,और फिर उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चुत को सहलाने लगा।

अब वो भी चुदासी होने लगी थी। उसने भी मेरे शर्ट के बटन खोलना चालू कर दिया था, और कुछ ही देर में उसने मेरा शर्ट निकाल दिया।

फिर मैने उसका हाथ पकडकर अपनी पैंट के अंदर डाल दिया, जिससे वो मेरा लंड अपने हाथ मे ले सके। उसका हाथ अंदर डालते ही उसने लंड तो पकड लिया लेकिन वो उसे ठीक से सहला नही पा रही थी।

तो उसने दूसरे हाथ से मेरी पैंट भी खोल दी। फिर चड्डी के साथ पैंट को भी नीचे खिसका दिया। अब मेरा लंड उसकी आँखों के सामने नंगा था, उसने बिना समय गंवाए उसे अपने हाथों में थाम लिया।

मेरा लंड उसके हाथों में जाते ही और फूलने लगा था। वो भी मेरे लंड को अब धीरे धीरे मुठियाने लगी थी। मैने भी अब ज्यादा समय न लेते हुए उसकी पैंटी को नीचे खिसका दिया।

अनु की पैंटी नीचे खिसकाते ही उसकी कमसिन चुत मेरी आंखों के सामने उभरकर आ गई। पहले तो मैने उसकी चुत पर हाथ फिराया, और एक उंगली को उसकी चुत के अंदर डाल दिया।

तो उसने मेरी उंगली को पकडते हुए मुझे रोकना चाहा। वो भी पूरे नशे में थी, वो मना तो कर रही थी, लेकिन मुझे रोक नही पा रही थी। मैने उसके हाथ को हटाते हुए अपना मुंह उसकी चुत पर लगा दिया।

फिर अपनी जीभ को उसकी चुत में घुसाते हुए, इधर उधर घूमाने लगा। वो भी अब तडपने लगी थी। उसकी चुत भी पानी से पूरी चिकनी हो चुकी थी।

तो मैने अब उसकी चुत में अपना लंड डालने के लिए उसके ऊपर आ गया। उसके ऊपर आते ही मैने अपना लंड पकडकर उसकी चुत पर रख दिया।

फिर हल्के से थोडा दबाव बनाते ही लंड का टोपा उसकी चुत में चला गया। टोपा चुत में घुसाते ही वो चीखने ही वाली थी कि, मैने उसके होंठ अपने होंठों से बंद कर दिए। फिर तो चुदाई अपने मजे से चल रही थी।

उस रात मैने उसको दो बार चोदा। और दोनों बार ही अपना सारा वीर्य उसके पेट पर उडेल दिया। और फिर हम दोनों ही एक-दूसरे की बाहों में सो गए।

आपको मेरी कहानी कैसी लगी, हमे कमेंट करके बताइए। धन्यवाद।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *