पति के 3 इंच लंड से प्यास नहीं बुझी तो पडोसी के 7 इंच लम्बे लंड से खूब चुदी

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम शैली है। मेरी उम्र 35 साल है। मै मुखर्जीनगर की रहने वाली हूँ। मैं देखने में बहुत खूबसूरत हूँ। मै अपने मोहल्ले की सबसे ज्यादा खूबसूरत औरत हूँ। मै शादी शुदा हूँ। मेरी शादी को 9 साल हो गया था। 9 साल की शादी में मेरे को कभी सेक्स का भरपूर मजा नहीं मिला। मै शादी से पहले ही खुश रहती थी। मैंने शादी से पहलें कई लोगो का लंड खाया था। लेकिन शादी के बाद पति के अलावा किसी और का लंड खाने का मौका ही मिलता था। मै तो परेशान हो चुकी थी। मेरे को अपने पति से चुदने में ज्यादा मजा नहीं आता था। मेरे पति देव का लंड बहुत ही छोटा था। छोटे लंड से ज्यादा देर तक नहीं चोद पाते थे। वो जल्द ही झड़ जाते थे। मै रात भर चूत में फिंगरिंग करती रहती थी। मेरी चूत को एक लंड की तलाश थी जो की मेरी चूत को फाड़कर उसका भरता लगा दे। लेकिन ऐसा मर्द मेरे को मेरे मोहल्ले में कोई नजर ही नहीं आता था।

मै ज्यादातर अपने हसबैंड के साथ ही घर से बाहर जाती थीं। पतिदेव मेरी जैसी खूबसूरत बीबी को कभी अकेला ही नही छोड़ते थे। लेकिन मेरे को चूत को फड़वाने के लिए ईश्वर की कृपा से एक मर्द नजर आ गया। मेरा घर उसके घर के जस्ट बगल में ही था। वो बाहर कही काम कर रहा था। 9 साल में पहली बार मैंने उसे देखा था। उसकी उम्र 33 साल के करीब रही होगी। उसने अभी तक शादी नहीं की थी। उसके जैसा मर्द तो पूरे मोहल्ले में कोई नहीं था। हाइट उसकी 7 फ़ीट से भी ज्यादा थी। खा पीकर वो खूब मोटा तगड़ा हो गया था। देखने में वो 33 साल से कम ही लग रहा था। जिम जाकर उसने अपनी बॉडी बना ली थी। पहली बार मैंने उसके जैसा मर्द देखा था। जी करता था इसके साथ मैं अपनी दूसरी शादी कर डालूं। उसके जैसा मर्द मिल जाता तो मेरी चूत का तो भाग्य खुल जाता। पूरे मोहल्ले में उसके चर्चे थे। एक दिन मेरे घर वो आया हुआ था।हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉटकॉम
मेरे पतिदेव से बातचीत की लेकिन बार बार उसकी नजर मेरे बड़े बड़े दूध पर ही जा रहा था। वो अपने मोहल्ले का खूबसूरत मर्द था। तो मैं भी हुस्न की मलिका थी। मेरी जवानी को वो घूर घूर कर देख रहा था। मै भी अपने लटके झटजे दिखाकर उसे इम्प्रेस कर रही थी। एक दिन मेरे पतिदेव मम्मी को लेकर अपने मामा के यहां गए थे। संयोग से उस दिन किसी काम से ससुर जी भी कही बाहर गए हुए थे। घर पर अकेली ही थी। मेरे पति से मिलने के लिए वो मेरे घर आया हुआ था। दोस्तों मै आपको उसका नाम ही बताना भूल गयी। उसका नाम योगेश था। वो मेरे घर पर पहुचते ही वेल को बजाया। मैंने दरवाजा खोला तो योगेश खड़ा हुआ था।

loading…
“शैली जी आपके पतिदेव नहीं दिख रहे सुबह से ढूंढ रहा हूँ” योगेश ने कहा
वो तो मम्मी को लेकर मामा के यहाँ गए हुए है फिर सारा मैटर बताया। योगेश जाने लगा। तो मैंने उसे चाय पानी का ऑफर देकर घर में बुला लिया। वो घर में प्रवेश करते सकपका रहा था। मेरे को चूत में खुजली होने लगी। वो बार बार मेरे को घूरते हुए कुछ बोल रहा था। मैंने अपनी चूत की खुजली मिटाने के लिए उसके लंड का सहारा लेना उचित समझा। किसी तरह से मै उसके लंड को खाना चाहती थी।

“शैली जी आप तो मेरे मोहल्ले की सबसे हॉट और सेक्सी औरत हो” योगेश ने कहा

तुम भी तो कुछ कम नहीं हो। तुम कोई कम स्मार्ट थोड़ी ना हो। उससे बात करते करते एक दूसरे के क्लोज़ होने लगी। एक एक बात अब रोमांटिक होती जा रही थी। मेरे को चोदने के लिए वो भी बेकरार लग रहा था। वो बार बार मेरे को छूने की कोशिश करता। हर बात में हँसते हँसते मेरे को छू लेता था। उसका छूना मुझपे भारी पड़ रहा था। लेकिन मेरे को मजा भी आ रहा था।

“आपके जैसी बीबी मिल जाए तो मेरी तो किस्मत ही खुल जाती” योगेश बोला
“तो तुम मेरे से ही शादी कर लो” मैंने हँसते हुए कहा
“तुम पुरानी हो गयी हो। अब तुम्हारे अंदर वो बात थोड़ी न है” योगेश मजा लेते हुए कह रहा था

वो धीरे धीरे मेरे साथ फ्रैंक होकर बात कर रहा था।
“मेरी शादी कही करा दो शैली अब रात नहीं काट रही है” योगेश ने कहा
“मै शादी तो नहीं करा सकती लेकिन सामान दिला सकती हूँ” मैंने कहा

मेरी बातों को सुनते ही वो उछल पड़ा। योगेश ने मेरे को चिपकाते हुए कहने लगा
“शैली बस एक बार दिला दो मेरे को! मै बहुत तड़पा हूँ उसके लिए” योगेश ने कहा
“तुम्हारी तड़प को मै समझ सकती हूँ लेकिन ये बात किसी और से न बताना” मैंने कहा

Pages: 1 2 3