मेरी पार्ट टाइम गर्लफ्रेंड भाभी

अन्तर्वासना की हिंदी सेक्स कहानी पसंद करने वाले मेरे प्यारे मित्रो, अन्तर्वासना पर मेरी यह पहली कहानी है. मैंने अन्तर्वासना पर बहुत सी कहानियाँ पढ़ीं, तो मन किया कि आज अपनी ज़िन्दगी के कुछ हसीन पल आप सब पाठकों के साथ साझा करूँ.

इस कहानी में मेरी भाभी के साथ मेरी चुदाई की घटना लिखी है. गोपनीयता के चलते कहानी में किसी का नाम या कोई निजी जानकारी नाम मात्र की है. आशा करता हूँ कि आप सबको मेरी कहानी पसन्द आएगी.

मेरा नाम राजदीप सिंह है, सभी मुझे दीप बुलाते हैं. मैं पंजाब का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 24 साल है, क़द 5’11” है. मैंने 18 साल की उम्र से ही जिम जाना शुरू कर दिया था, इसलिए मेरी बॉडी बड़ी आकर्षक है, शक्ल भी देखने में अच्छी है.

बात उन दिनों की है, जब मेरा बड़ा भाई ऑस्ट्रेलिया से 4 साल बाद वापिस आया था. सब बहुत ख़ुश थे, भाई की शादी करनी थी, तो रिश्तेदारों ने घरवालों को एक लड़की दिखायी. दोनों परिवारों में बातचीत हुई, रिश्ता तय हो गया.

उन दिनों में एग्जाम के सिलसिले में चण्डीगढ़ में था. मेरे वापिस आने पर मुझे और भाई को इकट्ठे भाभी से मिलवाया गया.

अब आपको भाभी के बारे बता दूँ. भाभी का नाम सिमरजीत कौर (सिम्मी) था. रंग दूध सा सफ़ेद, मॉडल जैसा चेहरा, आँखों का रंग थोड़ा हरा कच्ची मेहंदी से मिलता जुलता. उसका क़द 5’8″ है और बाल, जो कि हल्के भूरे … शायद कलर करवाया होगा. भाभी के बाल उसके चूतड़ों तक लम्बे लहरा रहे थे.

भाभी का फ़िगर तो बस ऐसा कि साला मेरा जूस हलक से नीचे नहीं उतर रहा था. कभी ऊपर देखता भाभी की आंखों में, तो कभी उनके पैरों की तरफ़ निगाह कर लेता. उस वक्त भाभी की क़मीज़ जोकि उनके मादक बदन से चिपकी हुई थी. पक्का उसकी ब्रा और क़मीज़ को उसके मम्मे सम्भालने में, माँ चुद रही होगी.
भाभी की गांड उठी हुई थी. क़मीज़ पीछे से मानो गांड पर लटक रही थी. वहाँ शायद ही कोई होगा, जो उसकी तरफ़ नहीं देख रहा था.
भाभी नीचे लैंगिंग्स पहने हुई थी, जिसमें उसकी जाँघें और गांड देखते ही मैं समझ गया कि यह पक्का जिम जाती होगी. इतनी सेक्सी शेप क़ुदरती नहीं हो सकती.

सिम्मी- सत श्री अकाल (नमस्ते).
मैं- सत श्री अकाल, किदाँ … कि हाल चाल है?(कैसे हो आप, क्या हाल हैं आपके)
सिम्मी- बस ठीक, तुस्सी दसो (आप बताओ)
मैं- बस तबीयत ख़राब हो रही है महोल देख देख के, गर्मी बोहत है ना.

वो शायद समझ गई, इसलिए वो हल्का सा मुस्कुराने लगी. हम दोनों में बढ़िया बातचीत हुई. भाई ने बस थोड़ा हाल चाल पूछा … बस फिर जूस पे ध्यान देने लगा. सिम्मी को मेरे ज़्यादा बात करने की वजह से शायद लगा होगा कि उसकी शादी मेरे साथ होने वाली है.

वापिस घर पहुँचने पर …

भाई ने एक्सायट्मेंट में पूछा- कैसी थी?
मैं- ऐश्वर्या जैसी आँखें हैं यार … तो रिश्ता फ़िक्स या अभी नहीं?
भाई- फ़िक्स फ़िक्स फ़िक्स …

शादी की तारीख़ एक साल बाद की रखी गयी. भाई एक महीने बाद वापिस ऑस्ट्रेलिया चला गया. भाई का मुझे ऑर्डर था कि अगर भाभी को कुछ चाहिए तो वो मुझे भाभी को ला कर देना होगा.
मुझे भाई से पैसे मिल जाते, तो जब भी भाभी को कुछ ख़ास मंगवाना होता या शॉपिंग करनी होती तो वो मुझे कॉल कर देती और मैं उसे घर से पिक कर लेता.

इस तरह मेरी ओर भाभी की अच्छी बनने लगी. ऐसे में फ़ोन पर बात होना आम हो जाता है. तो कई बार हम बिना काम के भी घंटों बात करने लगे.
अब 4-6 महीने बीत चुके थे, रोज़ाना फ़ोन पे बातें होती थी. हफ़्ते में 1-2 बार मिलना हो जाता था, तो बातें खुलने लगीं.

अब यहाँ से हमारी कहानी और रिश्ता धीरे धीरे बदलने लगा. हँसी मज़ाक़, शरारतें सब होने लगा. मुझे सिम्मी बहुत पसंद थी, पर मैंने उसके बारे में कभी कुछ ग़लत नहीं सोचा था.

कार में बैठे एक दिन सिम्मी ने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?
मैं- हाँ, क्यूँ?
सिम्मी- कितनी?
मैं- हैं 2-3 …
सिम्मी धीमी आवाज़ में बोली- पता ही था.
मैं- क्या कहा?
सिम्मी ने बात को बदलते हुए कहा- ऑल्मोस्ट अपना फ़्री टाइम तो तुम मेरे साथ बिताते हो, ज़्यादातर फ़ोन पे और कभी कभार शॉपिंग और या कहीं आना जाना होता है तो. तो गर्लफ्रेंड को टाइम कब देते हो?
मैंने थोड़ा सोच कर- आपको ख़ुश रखना ज़्यादा ज़रूरी है.
सिम्मी एक क़ातिलाना स्माइल देते हुए बोली- अच्छा जी?
मैं आँख मारते हुए बोला- वैसे भी अब आप मेरी पार्ट टाइम गर्लफ्रेंड ही तो हो.
सिम्मी- ओके ओके ज़्यादा लाइन नहीं मारनी. मम्मी जी (सासु माँ) को मिलने का दिल कर रहा है, घर चलें?
मैं- ओके नो प्रॉब्लम.

घर पहुँचने पर पता चला कि मम्मी डैडी कहीं बाहर गए हैं, तो आने में टाइम लग सकता है.

Pages: 1 2 3 4