पति पत्नी और औलाद का सुख

मेरा नाम कोमल है और मेरी उम्र 30 साल है। मैं एक कंपनी में बहुत अच्छी नौकरी करती हूँ। मेरे पिता कुछ समय पहले तक इसी कंपनी में महाप्रबंधक थे जिसकी वजह से मुझे नौकरी ढूंढने में कोई परेशानी नहीं हुई।
अब वो सेवा निवृत्‍त हो चुके हैं। मगर उनकी वजह से मुझे कभी कोई परेशानी नहीं हुई।

जब मैंने आफिस ज्‍वाइन ही किया था, तभी धीरज नाम का एक और लड़का भी इसी आफिस में मेरी तरह ही नया नया लगा था। उससे मेरी कुछ बातचीत होने लगी। उसको मैंने नहीं बताया था कि मेरे पापा इसी कम्पनी में महाप्रबंधक हैं। धीरे धीरे हमारी दोस्ती बढ़ने लगी। वो मुझसे दो साल बड़ा था. उसके माता पिता किसी दूसरे शहर में रहते थे और वो यहाँ पर नौकरी करने के लिए ही आया था और हमारे शहर में एक किराये का मकान लेकर रहता था। हम दोस्त ज़रूर बने मगर हमारे बीच ऐसा कुछ नहीं था जिससे कोई कुछ कह सकता। हमारा मिलना जुलना और लंच भी बस आफिस तक ही था। और हम लंच भी एक साथ ही किया करते थे.

धीरज एक मिडिल क्‍लास परिवार से था, उसने मुझे बताया कि वो एक मिडल क्लास के परिवार से है और उसके कुछ रिश्तेदार तो बहुत ही ग़रीब हैं. उसकी बहन की शादी एक बहुत अच्छे परिवार में हुई थी जहाँ किसी किस्म की कोई दिक्कत नहीं थी मगर उसके जीजा को शादी के कुछ समय बाद व्यापार में बहुत ही नुकसान हो गया था जिसकी वजह से उनको अब गुज़ारा करना भी मुश्किल होता है. वो कभी कभी उनकी सहायता के लिए कुछ रुपये भेज देता है. उसके मुक़ाबले में मेरी माली हालत कहीं अच्छी थी.

धीरज बहुत ही मेहनती था और कुछ ही समय में वो कंपनी में उच्‍च पद पर आ गया।
अब क्योंकि मैं उससे रोज़ ही मिलती जुलती थी धीरे धीरे मैंने खुद को पाया कि मैं उसको चाहने लगी हूँ मगर मैंने कभी उससे जाहिर नहीं होने दिया क्योंकि मुझे नहीं पता था कि वो मेरे बारे में क्या सोचता है. अगर मैंने कुछ पहल दिखाई और उसने मना कर दिया तो मैं उससे फिर नज़र नहीं मिला पा सकूँगी.

जब मेरे पापा सेवानिवृत्‍त हुए तब उसे पता लगा कि मैं उनकी बेटी हूँ।
उसने तब मुझसे कहा कि मैंने उसे पहले क्यों नहीं बताया इस बारे में तो मैंने उससे कहा- मैं अपनी दोस्ती के बीच तुमसे यह नहीं बताना चाहती थी कि मेरा परिवार कौन सा है जिससे तुम यह ना समझो कि मैं अपनी पारिवारिक पृष्‍ठ भूमि तुमको जता रही हूँ. मैंने उसको अहसास दिलाया कि मेरे लिये हमारी दोस्‍ती ज्‍यादा मायने रखती है।

कुछ दिन बाद उसने मुझसे पूछा- क्या तुम्हारे माता-पिता ने तुम्हारी शादी अभी तक कहीं पक्की नहीं की?
मैंने कहा- मेरे पिता तो बहुत जल्दी कर रहे हैं मगर मैं ही नहीं मानती.
उसने पूछा- क्यों क्या हुआ?
मैंने कहा- मुझे एक लड़के से प्यार हो चुका है.
“तब क्यों नहीं अपने पिता से कहकर उससे शादी पक्की कर लेती हो.”

मैंने कहा- मुझे नहीं पता कि वो लड़का मेरे बारे में क्या सोचता है.
उसने कहा- महामूर्ख होगा जो तुम जैसी को ना करेगा.
मैंने कहा- मैं क्या कर सकती हूँ … मैं उससे पूछ कर अपनी दोस्ती ख़त्म नहीं करना चाहती. अगर उसके दिल में कोई और लड़की हुई तो?
उसने मुझसे कहा- तुम मुझे उसका नाम बताओ, मैं उससे बात करने की कोशिश करता हूँ.
मैंने कहा- अगर काम बनता हुआ तो भी नहीं बनेगा, वो यह सोचेगा कि तुम मेरे बहुत नज़दीक हो और वो बिदक जाएगा.
यह सुनकर उसने कहा- बात तो तुम सही कह रही हो.

फिर वो बोला- मेरी भी किस्मत देखो, जिसे मैं चाहता हूँ वो किसी और को चाहती है.
मैंने पूछा- कौन है वो खुश नसीब जिसे तुम चाहते हो?
वो बोला- छोड़ो … अब बताना भी ठीक नहीं होगा.
मैंने कहा- क्यों, मैं क्या किसी को बताने जा रही हूँ?
उसने कहा- नहीं, मैं अब कुछ नहीं बता सकता.
मैंने कहा- तुम्हें उसकी कसम होगी, जिसको तुम सब से ज़्यादा प्यार करते हो … अगर नहीं बताओगे तो.
उसने कहा- ठीक है, मैं आज नहीं बता सकता क्योंकि आज मेरे दिल बहुत उचाट हो गया है मगर कल बता दूँगा.

अगले दिन वो आफिस में नहीं आया मगर मेरी टेबल पर एक लिफ़ाफ़ा पड़ा था जिस पर मेरा नाम लिखा था। उसे खोलकर देखा तो उसमें बस दो लाइन ही लिखी हुई थी- कोमल जी, मैं आपको चाहता था मगर जब मुझे पता लगा कि आप किसी और की होने वाली हैं तो मैं कैसे आपको बताता। क्योंकि आपने मुझे यह पूछा है, सिर्फ इसलिये मुझे यह सब मजबूरी में लिखना पड़ रहा है क्योंकि आपने मुझे कसम दे कर यह पूछा है।
पढ़कर मेरी खुशी का ठिकाना ना रहा, मैंने उसी समय उसको फोन किया और बोली- इतने दिन तक क्यों तरसाया मुझे? आपको नहीं पता मैंने अपने माता पिता को कितनी बार शादी से इन्कार किया तुम्हारी खातिर! मुझसे कई बार उन्होंने पूछा था कि अगर कोई लड़का है तुम्हारी नज़र में तो बता दो, हम बिना झिझक तुम्हारी शादी वहीं कर देंगे.
उसने कहा- मैं डरता था कि कहीं तुम्हारे घर वाले मुझे अपने परिवार का हिस्सा ना बनाना चाहें।
मैंने उसे रोते हुए कहा- बहुत तरसाया है तुमने मुझे. क्या यही समझा था तुमने मुझे आज तक?

Pages: 1 2 3 4 5