पिचकारी घुसी पिछवाड़े में

आप लोगों के सुझाव मुझे मिले और तारीफों के लिए शुक्रिया। मैं कोशिश करूँगा और अच्छा लिखने की।

तो अब आते हैं इस बार की कहानी पर।

रिसोर्ट वाली मस्ती के बाद शोभा और मैं आपस में खुल गए। अब ऑफिस में भी मौका मिलता तो हम चुम्बन कर लेते थे। कभी मैं उसके नितम्ब मसल देता तो कभी वो मेरी पिचकारी को। यूँ ही हंसी ठिठोली के साथ हमारे दिन गुजर रहे थे।

एक दिन मेरे रूम पर पार्टी का आयोजन हुआ। ऑफिस के कुछ लड़के लड़कियां और मैं और शोभा रूम पर पहुंच गए। गीत-संगीत और बियर का दौर चल रहा था। सब एक दूसरे के साथ डांस कर रहे थे, होश में थे पर मदहोश भी थे। शोभा और मैं मेहमानों की खातिरदारी कर रहे थे और साथ में अपनी बियर के साथ डांस भी कर रहे थे।

तभी मेरे मन में आया और मैंने सबकी नज़र बचा कर उसके उरोजों को दबा दिया।
“बहुत मूड में आ रहे हो वीर जी।” शोभा ने अपनी वही कातिलाना अदा के साथ कहा।
“मूड तो बहुत कर रहा है आज … और आज तुम्हारे पीछे वाले रास्ते में घुसने का मन है।” मैंने उसे बाँहों में झुलाते हुए कहा।
“ना ना वीर जी सोचना भी मत … जितना मिल रहा है उसी में खुश रहना सीखो।” उसने साफ़ साफ़ मना कर दिया।
पर मैं भी कहाँ मानने वाला था मैंने भी जिद पकड़ ली और मिन्नतें करने लगा।

तभी हमारी दोस्त आँचल बोली- क्या हुआ वीर? क्या बात कर रहे हो तुम दोनों?
मैंने भी मस्ती में कह दिया- शोभा को बोल रहा हूँ एक गिफ्ट देने की … पर वो मना कर रही है।
यह सुनकर आँचल बोली- शोभा दे दो ना … जो मांग रहा है वरना मुझे बताओ मैं दे देती हूँ।

उसकी इस भोली सी बात पर मैं और शोभा ज़ोर से हंसने लगे।
मैंने शोभा से कहा- देखो तुम दे दो … वरना आँचल तैयार है।
आँचल को हमारा मज़ाक समझ नहीं आया या फिर शायद अनजान बनी रही।
शोभा ने गुस्से से मुझे देखा और आँचल को बोला- मैं दे दूंगी इसे गिफ्ट … तुम बियर पियो और पार्टी का आनंद लो।

हम फिर से डांस करने लगे।

थोड़ी देर में पिज़्ज़ा आ गया। मुझे तो शोभा के साथ रात रंगीन करनी थी तो मैंने सबको बोला पिज़्ज़ा ठंडा हो जाएगा, जल्दी से खा लो। सब लोग नाच गा कर थक चुके थे और भूखे भी थे। सबने पिज़्ज़ा खाना शुरू किया और ख़त्म भी कर दिया।

कुछ देर में एक एक करके सब लोग जाने लगे।

शोभा रूम समेट रही थी मैं सबको बाहर तक छोड़ने गया। आँचल ने जाते वक़्त मुझे बोला- तुम्हारा गिफ्ट शोभा नहीं दे तो मुझे बताना … मैं इसकी खबर लूंगी।
मैंने हंस कर उसे कहा- शोभा गिफ्ट दे या ना दे … तुमसे तो मैं गिफ्ट लूंगा ही अब!
आँचल ने कहा- ऐसा क्या गिफ्ट चाहिए, ज़रा हिंट तो दो?
मैंने उसे कहा- जो एक मर्द को औरत से चाहिए होता है।
और आँचल को आँख मार दी।

आँचल ये सुन कर पहले तो थोड़ा झेंपी पर फिर संभलते हुए बोली- वो गिफ्ट तो फिर तुम शोभा से ही लो। मैंने ये गिफ्ट किसी और को दे रखा है।
मैंने कहा- मुझे झूठा खाने में कोई परहेज़ नहीं हैं आँचल!
आँचल ने मेरे पैन्ट की तरफ देख कर कहा- पर मुझे तो परहेज है वीर!
और हँसते हुए विदा कह कर चली गयी।

मैं अंदर आया और शोभा के साथ कमरा व्यवस्थित किया। सब कुछ बहुत जल्दी समेट लिया तो मैंने शोभा को कहा- अब अपनी पार्टी शुरू करते हैं।
मैंने गाने चला दिए और हम दोनों डांस करने लगे एक दूसरे की बाँहों में। मैंने अपना हाथ उसके नितम्ब पर लगाया और सहलाने लगा।
“लगता हैं वीर जी, आज पिचकारी पीछे दे कर ही मानोगे?”
“हां शोभा, मुझे तुम्हारे इन गोलाकार, मखमली नितम्बों का आनंद लेना है।” और उसके नितम्ब की दरार में उंगली फेर दी।
वो चिहुँक उठी और मेरे गले लग गयी।

मैंने भी देर ना करते हुए उसके वस्त्र अलग कर दिए, उसके निप्पलों पर जीभ फेरी और उसके पिछवाड़े पर हाथ फेरने लगा। जब उसकी योनि पर हाथ लगाया तो समझ आया को शोभा गर्म हो गयी है और साथ में गीली भी।
मैंने अपनी जीभ उसकी योनि में उतार दी, वो सिसकारी लेने लगी। फिर धीरे धीरे आगे बढ़ते हुए उसके नितम्ब चाटने लगा। उसके गुदा द्वार को गीला किया और जीभ अंदर सरका दी।
शोभा ने आह की आवाज से सहमति दी।

मैंने उसे बिस्तर पर उल्टा लिटाया और अपनी पिचकारी पर थूक लगाया। धीरे से मैंने अपनी पिचकारी उसके पीछे के द्वार पर धकेली। गीलेपन की वजह से पिचकारी का मुँह अंदर चला गया।
वो एकदम से झटका देकर उठ गयी, बोली- वीर जी बहुत दर्द हो रहा है और जल भी रहा है।
मैंने कहा- थोड़ा दर्द होगा पर बाद में मजा आएगा। एक काम करता हूँ थोड़ा तेल लगा देता हूँ आसानी होगी।
उसने हिम्मत दिखा कर हाँ कह दिया।

Pages: 1 2