संपत्ति के लिए नंदोई से गांड मरवा ली

antarvasna, hindi sex stories मेरे पति और मेरे बीच में रिश्ता कुछ ठीक नहीं चल रहा था लेकिन मुझे यह डर था कि कहीं वह सारी संपत्ति किसी और के नाम ना कर दे, मैंने इसलिए इस काम के लिए संजय को जासूसी पर रख दिया, संजय मेरे पति की जासूसी करने लगा वह हर खबर मुझ तक पहुंचाया करता था। एक दिन संजय ने मुझे बताया कि आपके पति, संपत्ति का आधा हिस्सा अपनी बहन के नाम करने वाले हैं और आपको आधा हिस्सा वह दे देंगे, मैंने सोचा यदि वह अपनी बहन के नाम संपत्ति कर देंगे तो उसमें से मुझे कुछ भी नहीं मिलने वाला उनकी बहन का व्यवहार मेरे लिए पहले से ही कुछ ठीक नहीं था, मेरे पति बड़े ही सीधे और सज्जन व्यक्ति हैं लेकिन उन पर जैसे उनकी बहन ने जादू कर दिया और वह उसकी कोई भी बात को टालते नही है वह उन लोगों के लिए बहुत कुछ करते हैं लेकिन उनकी बहन उनकी उतनी इज्जत नहीं करती हालांकि मेरे पति और मेरे बीच अब पहले जैसी बात चीत नहीं रही हम दोनों के बीच झगड़े भी होते हैं लेकिन उसके बावजूद भी मैं अपने पति की बहुत ही इज्जत करती हूं क्योंकि वह बड़े ही नेक इंसान हैं।

मैं यह कभी भी नहीं होने देना चाहती थी कि संपत्ति का आधा हिस्सा उनकी बहन के नाम हो जाए, मैंने इस बारे में उनसे बात करने की सोची लेकिन कभी कोई सही मौका नहीं मिल पा रहा था, जब से उनकी बहन को यह बात पता चली थी तब से वह हमारे घर पर डोरे डाल कर बैठी हुई थी मेरे ससुर ने मेरे पति के नाम पर काफी जाइजात की हुई थी मैं उसमें से कुछ भी उसके नाम नहीं होने देना चाहती थी क्योंकि वह मुझे बिल्कुल भी पसंद नहीं है, मैंने इसके लिए अपने पति से बात की, मुझे जब मौका मिला तो मैंने उनसे कहा देखिए आपको मेरे नाम पर कुछ नहीं करना तो कोई बात नहीं लेकिन आप अपनी बहन के नाम पर संपत्ति मत कीजिए वह बिल्कुल भी सही महिला नही हैं। मेरे पति तो मुझ पर जैसे विश्वास ही नहीं करते थे उनकी बहन ने तो उनकी आंखों पर पर्दा डाला हुआ था, वह मुझे कहने लगे तुम मुझे अब यह सब मत सिखाओ मुझे पता है कि तुम कितनी लालची हो, मैंने उसके बाद उनसे कुछ भी नहीं कहा मैंने संजय को फोन किया और संजय को घर पर बुला लिया, संजय जब घर पर आया तो मैंने उनसे कहा कि आप मुझे कोई ऐसा रास्ता बताइए जिससे कि मेरी ननद के नाम पर कोई भी प्रॉपर्टी ना हो, वह मुझे कहने लगे आपको मुझे कुछ और समय देना पड़ेगा मैं आपकी ननद की भी जासूसी करता हूं यदि मुझे ऐसी कोई बात पता चली तो मैं आपको इस बारे में बता दूंगा।

मैंने संजय को उसकी फीस दे दी, मैंने संजय से कहा कि आपको यह काम जल्दी ही करना है, वह कहने लगे संगीता जी आप बिल्कुल चिंता मत कीजिए आपको तो पता ही है कि मैंने अंदर की बात भी आपके पति से निकलवा ली, आपके पति तो एक दिन वकील के पास बैठे हुए थे और वह कह रहे थे कि आज ही आधी जायदात मैं अपनी पत्नी के नाम करना चाहता हूं और आधी अपनी बहन के नाम करना चाहता हूं, यदि मैं यह बात आप तक पहुंचा सकता हूं तो मैं आप तक और भी बातें पहुंचा सकता हूं, मैंने कहा लेकिन आप को यह काम जल्दी ही करना है, वह कहने लगे आप चिंता ना करें मैं आपका काम जल्दी ही कर दूंगा। मैंने संजय को वापस काम पर लगा दिया लेकिन हमें कोई भी ऐसी ऐसा सुराग नहीं मिल पा रहा था जिससे कि मैं अपने पति को अपनी ननद के बारे में कुछ बता पाती, मैंने कुछ दिनों बाद संजय को फोन किया और कहा कि क्या आपको मेरी ननद के बारे में कोई जानकारी मिली? वह कहने लगे उनके बारे में मुझे ऐसी कोई भी जानकारी नहीं मिली। मैंने उन्हें कहा संजय आपको जल्दी से यह काम करना है नहीं तो मेरे पति उनके नाम पर आधी जायदात कर देंगे और मैं यह बिल्कुल भी नहीं चाहती की जायदात का आधा हिस्सा उन्हें मिले, मैं बहुत ही ज्यादा गुस्से में हो गई और मैंने फोन काट दिया काफी दिनों तक संजय का फोन नहीं आया और ना ही मुझे ऐसा कोई सुराग मिल रहा था कि जिससे मैं उनकी बहन के नाम पर संपत्ति होने से रोक संकू, मुझे कुछ भी समझ नहीं आया तो मैं कुछ दिनों के लिए अपने मायके चली गई मैं जब अपने मायके गई तो मेरी मम्मी कहने लगी कि बेटा तुम काफी समय बाद घर आई हो, मैंने उन्हें कहा मम्मी बस आपको मैं क्या बताऊं मेरे पति का तो दिमाग ही फिर चुका है वह अपनी बहन के नाम आधी संपत्ति करने जा रहे हैं, मेरी मम्मी कहने लगी लगता है मुझे ही तुम्हारे पति से बात करनी पड़ेगी।

Pages: 1 2