सुनील की सेक्स कहानी

हाय, मेरा नाम सुनील है और मैं आप लोगों को अपनी सच्ची कहाँनी सुनाता हूँ जो की कुछ महीनो पहले मेरे साथ हुई. में अपनी माँ के साथ एक गावं में रहता हूँ. मैने शहर के एक स्कूल से 12 वी पास की और गावं में आ गया अपनी माँ के साथ रहने और खेती बाड़ी संभालने. मेरी माँ चाहती थी की मैं शहर में ही रहूँ पर मेरे पापा ने ज़ोर देकर कहाँ की अब मुझे ही खेती बाड़ी संभालनी हैं तो मैं गावं मे आ गया. मेरे पापा शहर में रहते हैं और महीने मे एक बार ही घर पर आते हैं. हमारे घर पर दो कमरे थे, एक मेरा और दूसरा मेरी माँ का मेरी उम्र 19 साल है और माँ की 40 साल है. मेरी माँ एक बहुत ही कामुक औरत है. माँ वैसे तो घर मे साड़ी, ब्लाउज और लहंगा पहनती है पर रात को सोते समय अपना लहंगा खोल कर सिर्फ़ ब्लाउज और साड़ी पहन लेती है. मेरी माँ के स्तन 38 साइज़ के हैं और उसकी गांड बहुत टाइट दिखती है. रात को सोते समय अक्सर मैं उनके बोबो को देख सकता हूँ उनके ब्लाउज से झाकते हुये जब वो सो रही होती है तब एक दिन मैने उनकी जाँघ देख ली. वो सो रही थी और उनकी साड़ी जाँघ पर आ गयी थी तो मैने उसकी सफेद सफेद जाँघ देख ली. मेरा लंड एकदम खड़ा हो गया और मैं जल्दी से बाथरूम मे जाकर मूठ मारकर आ गया. मैने सोचा पता नहीं माँ नंगी केसी दिखती होगी.

मेरे जाने के कुछ दिनो बाद से ही मैने देखा की माँ थोड़ी बेचैन है. मैने पूछा तो माँ बोली की कोई परेशानी नहीं है. कुछ दिनो के बाद मेरे ताऊ जी आये. उनकी उम्र 60 साल थी. मैने देखा की माँ बहुत खुश लग रही है. ताऊ जी को रात को रहना था हमारे घर पर और अगले दिन सुबह को अपने गावं लौटना था. ताऊ जी को दूसरा कमरा देकर माँ बोली की मैं रात को उनके साथ ही बिस्तर पर सो जाऊ. रात को में और माँ बिस्तर पर सो गये. अचानक कुछ आवाज़ से मेरी नींद टूटी तो देखा की माँ कमरे का दरवाज़ा बंद करके कहीं जा रही है. मैने सोचा रात को माँ कहाँ जा रही होगी. मैं उठा और दूसरे दरवाज़े से बाहर आकर देखा की माँ ताऊ जी के कमरे मे जा रही है. में जल्दी से खिड़की के पास गया और उसमे से चुपके चुपके देखने लगा.

माँ के घुसते ही ताऊ जी बोले, कितनी देर लगा दी तुमने शीला, कब से मेरा लंड फनफना रहा है, माँ बोली, सुनील के सोने का इंतज़ार कर रही थी मैं तो. चूत तो मेरी भी कब से पानी छोड़ रही है आप के सांड जैसा लंड के बारे में सोच के, अभी वो सो गया है. मैं भी बहुत बेचैन हूँ आपके लंड को सहलाने के लिये. देखिये ना मेरी चूत कैसे तड़प रही है आपके लंड को पाने के लिए. यह बोलकर माँ ने जल्दी से अपनी साड़ी कमर तक उठाई और ताऊ जी को अपनी चूत दिखाने लगी. मैने भी माँ की चूत को देखा वो किसी चीनी के बर्तन की तरह साफ थी बाल का तो कोई निशान भी नही था, ताऊ जी ने झट से अपनी हथेली उसकी चूत पे रख दी और उसे घिसने लगे. माँ अपने हाथ को ताऊ जी की लूँगी के पास लेकर गई और उसे खोल दिया. जैसे ही माँ ने ताऊ जी का लंड देखा “है हाय दइया 4 साल पहले भी तो आप से ही चुदवाती थी पर उस वक़्त तो इतना बड़ा नही था. ताऊ जी बोले सर्जरी करवाई है मेरी कुत्तिया, चल अपने कपड़े उतार और जल्दी से नंगी हो जा. 4 साल हो गये तुझे चोदे हुये.

अब मैं समझा क्यो माँ चाहती थी की मैं शहर मे ही रहूं. जिससे की वो ताऊ जी से चुदवाती रहे. अब माँ जल्दी से अपने कपड़े उतारने लगी और अपनी चोली और साड़ी को उतार फेंका. तब तक ताऊ जी भी नंगे हो गये. अब मैने माँ को पूरी तरह नंगा देखा. उसके बोबे बहुत बड़े बड़े थे और उसके निपल तो एकदम खड़े थे. ताऊ जी का लंड करीब 8 इंच का होगा अब ताऊ जी लेट गये और माँ झट से ताऊ जी के ऊपर 69 के पोज़िशन मे हो गये. ताऊ जी ने माँ की चूत को चाटना चालू किया और माँ ने ताऊ जी के लंड को चूसने लगी. माँ ने अपने मुँह मे ताऊ जी के लंड को ले लिया और उसको पूरी तरह से अपने मुँह मे घुसाने लगी. उधर ताऊ जी माँ की चूत को चाटने के साथ साथ उसके अंदर अपनी दो उंगली डाल दी और आगे पीछे करने लगे. माँ धीरे धीरे ऊऊुउउइईई माआअ…..आआहह…….ऊऊओह….करते हुये सिसकियाँ लेने लगी। माँ बोली… आप की उंगली भी किसी कमजोर लंड जैसी है भैया…. माँ अब ताऊ जी के लंड को बहुत ज़ोर ज़ोर से चूस रही थी और उनके अन्डो (बॉल्स) को दबाने लगी.

Pages: 1 2 3 4