ये तेरा लॅंड है या हथोड़ा

हेलो ऑल डीके रीडर्स कैसे हो आप सब मैं साहिल मालेगाओं से एक बार फिर हाज़िर हूँ अपनी एक और घटना के साथ तो ऑल रीडर अपने लॅंड हाथ मे लेलो और ऑल फीमेल्स अपनी चुत ओपन कर लो क्यूकी बहुत ही जल्द आप सब का पानी निकलने वाला है तो अब स्टोरी पर आता हूँ, ये मेरी सब से अछी चुदाई है जो मैं सब के साथ शेर करने जा रहा हूँ ये स्टोरी आज से कुछ महीने पहले की है बात ऐसी है की मैं रोज़ जब भी घर से निकल कर अपने जॉब पर जाता हूँ मेरे घर के थोड़ा फ़ासले पर एक स्कूल है वही से मेरा रोज़ आना जाना रहता है और जैसे ही मैं स्कूल के पास पहुचता हूँ तो एक आंटी अपने चाइल्ड को स्कूल ड्रॉप करने आती थी और रोज़-रोज़ मेरा और उनका फेस देखते थे और वो अक्सर मुझे देख कर स्माइल भी देती थी, वो स्कूटी पर आती थी और जब वो गाड़ी खड़ी करके अपने बच्चे को स्कूल मे ले जाती तो मैं वही पर खड़े हो कर उनका वेट करता और कई दिन ऐसे ही गुज़र गये और मुझे उनकी गॅंड देखने मे बहुत मज़ा आता था.

बहुत बड़ी बड़ी गॅंड थी और बूब्स भी बड़े बड़े थे तो मैने उनको कई बार प्यासी नज़रों से देखते हुए देखा था तो इसी लिए अब मैं उनको चोदने का प्लॅन बनाने लगा और अब मैं रोज़ उनके आने से पहले ही स्कूल के पास पहुच कर उनका वेट करता और कई बार मैने उनसे बात करनी चाही लेकिन हिम्मत नही होती थी, फिर आख़िर एक दिन मैं अछी तरह ड्रेसिंग मार के स्कूल के पास जाकर खड़ा हो गया और उनका वेट करने लगा और जैसे ही आंटी आई तो मैने उनको घूर घूर कर देखने लगा वो अपने चाइल्ड को स्कूल मे ड्रॉप करके वापस आई और अपनी स्कूटी स्टार्ट करने लगी लेकिन कई बार किक मारने के बाद भी स्टार्ट नही हो रही थी, तो फिर आंटी थक कर इधर उधर देखने लगी और फिर मुझे उन्होने इशारा किया, मैं “क्या हुआ आंटी”, आंटी “पता नही क्यू गाड़ी स्टार्ट नही हो रही है ज़रा तुम देखो”, मैं “ओके”, और मैने अछी तरहा गाड़ी के प्लग को सॉफ किया और फिर किक मारी चॉक भी दिया मगर गाड़ी स्टार्ट नही हुई.

फिर मैने पूछा आप कहाँ रहती है वो बोली “मैं काँप मे रहती हूँ”, जो की काफ़ी दूर था तो मैने कहा आओ मेरा घर पास मे ही है आप वही रुक जाओ मैं आपकी गाड़ी गॅरेज मे ठीक करवा कर ला देता हूँ, तो वो बोली ठीक है और फिर गाड़ी को साइड मे खड़ी करके मैं आंटी को ले कर अपने घर ले आया और अपनी मॉम से मिलवाया की ये मेरे फ़्रेंड की मॉम है झूट बोल दिया और आंटी ने मुझे देख कर बस स्माइल दे कर रह गयी, फिर मैं उनकी गाड़ी गॅरेज पर ले गया और उसने चेक किया और बताया की इंजन मे प्रॉब्लम है आज नही हो पाएगा तो मैने आंटी को बताया घर जाकर तो वो बोली ठीक है तो फिर मॉम ने कहा जा आंटी को उनके घर ड्रॉप कर दे तो मैने अपनी बाइक पर आंटी को बिठाया और उनके घर की तरफ चल दिया और रास्ते मे आंटी बार बार अपने बूब्स मेरी पीठ पर टच कर रही थी और मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, घर पहुच कर आंटी ने चाय ऑफर की तो मैं जानबूझ कर नाटक करने लगा.

तो आंटी ने मेरा हाथ पकड़ कर अंदर चलने को कहने लगी, आंटी का घर बहुत बड़ा और बहुत खूबसूरत था तो मैने घर की तारीफ की तो उन्होने थॅंक्स कहा और किचन मे चाय लाने चली गयी और मैं एक सोफे पर बैठ गया और जब आंटी चाय लेकर आई तो मैने पूछा “घर मे तुम अकेली रहती हो क्या”, आंटी “हान ऐसा ही समझो मेरे हज़्बेंड हर दूसरे दिन आउट ऑफ सिटी जाते रहते है वो एक कंपनी चलाते है और इसी वजह से वो अक्सर सिटी से बाहर ही रहते है”, और जब आंटी ये सब बोल रही थी मेरी नज़र उनके बूब्स पर थी क्यूकी पहली बार बहुत पास से उनके बूब्स देख रहा था जो की बिल्कुल गोल गोल थे और ये आंटी ने नोटीस कर लिया था, फिर वो स्माइल देते हुए बोली क्या देख रहे हो तो मैं शर्मिंदा होकर मुस्कुराने लगा पर आंटी ने फिर पूछा क्या देख रहे थे तो मैं बोला “जो दिख रहा है”, आंटी बोली “छूना चाहोगे”, मैने खुश होकर उनकी जाँघ पर हाथ रख दिया.

आंटी ने अपने लिप्स मेरे लिप्स पर रख दिए और हम स्मूच करने लगे और मैं अपना हाथ बूब्स पर रख कर ज़ोर ज़ोर से मसलने लगा और आंटी ने अपनी जीभ मेरे मुँह के अंदर तक चुसवाने लगी और मेरे लॅंड को मसलने लगी और मेरा लॅंड जो की 7.5 इंच का है जो फुल जोश मे आ गया और अब तक मैने आंटी के सारे कपड़े रिमूव कर चुका था, वो बोली चलो बेडरूम मे चलते है और बेडरूम जाकर आंटी ने मुझे बोला जस्ट ए मिनट वेट मैं अभी आई और वो अपनी गॅंड मटकाती हुई किचन मे गयी और चॉकलेट ले आई और मुझे नंगा करके मेरे लॅंड पर आधी गिरा कर चूसने लगी याया एसस्सस्स बहुत मज़ा आ रहा था और फिर मैं उनके मूह मे ही झड़ गया और वो सब चाट गयी और फिर वो मुझे उठा कर एक लंबी किस करते हुए बेड पर लेट गयी और टाँग फैला कर अपनी चुत पर चॉकलेट लगा कर मेरा सिर अपनी चुत पर रख दिया और मैं खूब ज़ोर-ज़ोर से चाटने लगा और उनकी जी पॉइंट को ज़ुबान से मसलने लगा.

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *